Yoga Session With Savita Yadav learn vajrasana and kapalbhati

15

Yoga Session With Savita Yadav: शरीर को चुस्त-दुरुस्त रखने के लिए आप छोटे-छोटे अभ्यासों को कर सकते हैं. किसी भी बड़े योगाभ्यास (Yoga Practice) को करने से पहले सूक्ष्म अभ्यासों को करना बहुत जरूरी है. रोज योग (Yoga) करने से सेहत (Health) को फायदा मिलता है. ये शरीर की क्षमता (Strength) और लचीलापन (Flexibility) भी बढ़ता है. आज योग प्रशिक्षिका सविता यादव ने न्यूज़18 के लाइव योगा सेशन में कुछ आसनों के जरिए खुद की सेहत का ख्याल रखना सिखाया.

यहां सबसे पहले जानिए कपालभाति (Kapalbhati) करने का सही तरीका और उसके बाद जानें कैसे करना है वज्रासन (Vajrasana)

कपालभाति (Kapalbhati)
कपालभाति बहुत ऊर्जावान उच्च उदर श्वास व्यायाम है. कपाल अर्थात मस्तिष्क और भाति यानी स्वच्छता अर्थात ‘कपालभाति’ वह प्राणायाम है जिससे मस्तिष्क स्वच्छ होता है और इस स्थिति में मस्तिष्क की कार्यप्रणाली सुचारु रूप से संचालित होती है. वैसे इस प्राणायाम के अन्य लाभ भी हैं. लीवर किडनी और गैस की समस्या के लिए बहुत लाभ कारी है. कपालभाति प्राणायाम करने के लिए रीढ़ को सीधा रखते हुए किसी भी ध्यानात्मक आसन, सुखासन या फिर कुर्सी पर बैठें. इसके बाद तेजी से नाक के दोनों छिद्रों से सांस को यथासंभव बाहर फेंकें. साथ ही पेट को भी यथासंभव अंदर की ओर संकुचित करें. इसके तुरंत बाद नाक के दोनों छिद्रों से सांस को अंदर खीचतें हैं और पेट को यथासम्भव बाहर आने देते हैं. इस क्रिया को शक्ति व आवश्यकतानुसार करें.

यह भी पढ़ें- YOGA SESSION: कैसे करें सूर्य नमस्कार? जानें सही तरीका और फायदे

अगर आपके पेट में दर्द है, गैस या एसिटिडी की समस्या है तो इसे न करें. महिलाएं पीरियड्स के दौरान इसे बिल्कुल न करें. हाई बीपी और हार्ट संबंधी रोगों के मरीज भी इसे करने से बचें. इसके बाद जानते हैं वज्रासन करने का तरीका.

वज्रासन (Vajrasana)

वज्रासन करने से शरीर मजबूत और स्थिर बनता है. इस आसन को खाना खाने के बाद भी कर सकते हैं. इसे करने से शरीर में रक्त-संचार सही ढंग से होता है, पैरों की मांसपेशियां मजबूत होती हैं. साथ ही गैस और कब्ज की समस्या भी दूर होती है. महिलाएं इसे मासिक धर्म के दौरान भी कर सकती हैं. इस आसन के लिए जमीन पर घुटनों के बल बैठ जाएं, इसके बाद अपने पैरों को आगे की तरह से मिलाएं और एड़ियों को अलग रखें. इसके बाद अपने नितंबो को पैरों के तलवों पर टिकाएं और अपने हाथ घुटनों पर रखें. अपनी पीठ को सीधा रखें.

यह भी पढ़ें- Yoga Session: पेट की चर्बी कम करने और कमर की मासपेशियों को मजबूत बनाने के लिए करें नौकासन

ध्यान रहे कि योगाभ्यास अपनी क्षमता अनुसार ही करना है. इस दौरान श्वास-प्रश्वास और व्यायाम से जुड़े विशेष नियमों का पालन करना बहुत जरूरी है. इसी के साथ सही मात्रा में सही पोषण लेना भी आवश्यक है. आप सूक्ष्म व्यायाम के जरिए ही आसानी से अपनी सेहत का ख्याल रख सकते हैं. साथ ही बड़े आसनों के लिए अपने शरीर को तैयार भी कर सकते हैं.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

Source link