देनी होगी महिलाओं को वास्तविक भागीदारी – जितिन प्रसाद

15

 

शक्ति स्वरूपा महिला सम्मान समारोह

भास्कर न्यूज
लखनऊ।नारी सशक्तिकरण को लेकर सम्मान समारोह के अंतर्गत में सेना तक भले ही महिलाओं की भागीदारी हुई हो वास्तव में वह सांकेतिक है। महिलाओं को आज बराबरी देने की आवश्यकता है।

रविन्द्र नाथ टैगोर ने कहा था कि पुरुष का चरित्र महिलाओं के प्रति उनके नजरिए से स्पष्ट होता है। पुरुषों को अपनी सोच बदलनी होगी। वास्तविक सशक्तिकरण तब माना जाएगा जब महिला अपना निर्णय लेने में समर्थ व स्वतंत्र होगी।ये बातें प्राविधिक शिक्षा मंत्री जितिन प्रसाद ने गुरुवार को आयोजित महिला शक्ति सम्मान समारोह में कहीं।

जानकीपुरम स्थित इंजीनियरिंग कॉलेज के पं. रामप्रसाद बिस्मिल प्रेक्षागृह में प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की विधायी राजनीति के 20 वर्ष पूर्ण होने तथा लखनऊ से लगातार दो बार विधायक रहे डीपी बोरा की 81वीं जयन्ती के उपलक्ष्य में सरकार के नारी सुरक्षा, सम्मान व स्वावलम्बन पर केन्द्रित मिशन शक्ति अभियान को समर्पित कार्यक्रम को सम्बोधित करते हुए उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री के व्यक्तित्व से प्रभावित होकर मैं यहां हूं। मैंने विपक्ष में रहकर उनको देखा है और आज पक्ष से देखते हुए यह कह सकता हूं कि वे वोट के राजनीति नहीं करते बल्कि देश को बनाने और संवारने का काम करते हैं।

वे देशवासियों से पारिवारिक रिश्ता रखते हैं। श्री प्रसाद ने कहा कि विश्व में अनेक नेता हैं किन्तु मोदी वैश्विक स्तर पर सर्वाधिक लोकप्रिय हैं। एक समय में प्रधानमंत्री के रूप में शास्त्री के आह्वान पर जनता एकजुट हुई तो मोदी के आह्वान पर भी वैसी ही एकजुटता देखने को मिली। उनके आह्वान पर सक्षम लोगों ने सब्सिडी छोड़ी और उज्ज्वला योजना के तहत हर घर सिलेंडर पहुंचाने का सपना साकार हो रहा है। उन्होंने कहा कि मंत्री के रूप में मैंने देखा है कि योजनाएं तो कागज पर बन जाती हैं किन्तु असली चुनौती उसे जमीन पर उतारने की होती है। यह खुशी की बात है कि केन्द्र व राज्य की मौजूदा सरकारों में योजनाएं पात्रों तक पहुंच रही हैं। उन्होंने विधायक नीरज बोरा से दल और दिल का रिश्ता बताते हुए जनता का आह्वान किया कि वे योगी और मोदी के साथ खड़े हों, इसी में देश का भला है।

विधायक डॉ.बोरा ने अपने पिता डीपी बोरा की स्मृति को नमन करते हुए मोदी-योगी सरकार की जनकल्याणकारी योजनाओं पर विस्तार से प्रकाश डाला तथा कहा कि दीनदयाल के एकात्म मानववाद और अन्त्योदय की परिकल्पना साकार हो रही है। आज समाज के अन्तिम पायदान तक योजनाओं का लाभ पहुंच रहा है। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री ने अपनी योजनाओं के माध्यम से महिलाओं को घर के मुखिया के रूप में स्थापित करने का ऐतिहासिक कार्य किया है।

समारोह का उद्घाटन उत्तर प्रदेश सरकार के प्राविधिक शिक्षा मंत्री जितिन प्रसाद,समाजसेवी पंकज बोरा, क्षेत्रीय विधायक डा. नीरज बोरा, समाजसेविका बिन्दू बोरा आदि ने दीप प्रज्ज्वलन तथा डीपी बोरा के चित्र पर माल्यार्पण के साथ किया। संचालन शैलेन्द्र शर्मा अटल ने किया। उत्तर क्षेत्र के भाजपा पार्षद, नगर व मंडल के पदाधिकारियों ने अतिथियों का स्वागत किया।
ये हुए सम्मानित’

कार्यक्रम के दौरान विभिन्न क्षेत्र में उल्लेखनीय योगदान देने वाली नौ महिलाओं को शक्ति स्वरूपा महिला सम्मान प्रदान करने के साथ ही तकरीबन आठ सौ महिलाओं का अभिनन्दन किया गया। सम्मानित होने वालों में नेता सुभाष चन्द्र बोस महाविद्यालय की प्राचार्य अनुराधा तिवारी, बाल महिला चिकित्सालय, अलीगंज की प्रभारी डॉ. अनामिका गुप्ता, नगर निगम की जोनल अधिकारी अम्बी बिष्ट एवं बिन्नो रिजवी, केजीएमयू ट्रान्सफ्यूजन मेडिसिन की विभागाध्यक्ष डा. तूलिका चन्द्रा, डूडा की परियोजना अधिकारी निधि बाजपेयी, समाज सेविका ममता त्रिपाठी, नीलम सिंह,ऊषा विश्वकर्मा प्रमुख रहीं।समारोह के अंतर्गत विभिन्न जनकल्याणकारी योजनाओं की महिला लाभार्थियों का प्रतीकात्मक सम्मान किया गया जिसमें प्रधानमंत्री स्वनिधि योजना, प्रधानमंत्री मुद्रा योजना, प्रधानमंत्री आवास योजना, प्रधानमंत्री कौशल विकास योजना, प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना, मुख्यमंत्री युवा स्वरोजगार योजना एवं विश्वकर्मा श्रम सम्मान योजना की महिला लाभार्थी सम्मिलित रहीं।कार्यक्रम में मुख्य रूप से डॉ. विवेक सिंह तोमर, पार्षद पृथ्वी गुप्ता, रन्नो लोधी, रूपाली गुप्ता, खुशबू राखी मिश्रा, रानी कन्नौजिया, सन्तोष तेवतिया, कुमकुम राजपूत, राघव राम तिवारी, मंडल अध्यक्ष राकेश पांडेय, लवकुश त्रिवेदी, सुदर्शन कटियार, विशाल गुप्ता,रामशरण सिंह, सतीश वर्मा आदि उपस्थित रहे।