When Shani And Yam Fought For The Mother, Then Crow Came And Stop

29

Mahima Shani Dev ki : मां की तलाश में अपने वाहन कौए के साथ सूर्य महल पहुंचे शनिदेव को सूर्यपुत्र यम ने चुपके से देख लिया था, वह बेताब हो उठे कि आखिर जंगल में रहने वाला कोई वनवासी महल में क्या करने के लिए घुसा है. इसका पता लगाने के लिए वह अगले दिन जंगल में पहुंच गए, वह शनिदेव को खत्म कर देना चाहते थे. घूम रहे यम जब शनिदेव के विश्राम की जगह तक पहुंचे तो उन्होंने ताबड़तोड़ हमले शुरू कर दिए.

यह देखकर बाहर आए शनिदेव ने उनसे परिचय और हमले का कारण पूछा. साथ ही चेताया कि बिना पूछे किसी के निवास में घुसने और अकारण हमले का अपराध करने के बाद यम अगली गलती उनका अंतिम प्रयास हो सकता है. यह सुनकर बौखलाए यम शनिदेव पर और हमलावर हो उठते हैं. दोनों के बीच संग्राम छिड़ जाता है. इतने में शनिदेव के वाहन कौए की उन दोनों पर नजर पड़ जाती है और वह भयभीत हो उठता है. वह दोनों के बीच युद्ध खत्म कराने के लिए मां छाया को बुलाने सूर्य लोक उड़ जाता हैं, जहां आनन-फानन में मां छाया जंगल की ओर कूच कर देती हैं. कौआ उन्हें लेकर जल्द ही जंगल में वापस आ जाता है, तब तक शनि और यम एक दूसरे से भिड़े रहते हैं. मां आते ही दोनों को सच बताकर यम की जान बचाती हैं. 

मां का अपमान करने वालों को क्षमा नहीं करते शनि 
युद्ध के दौरान शनिदेव यम को चेतावनी देते हैं कि मां का अपमान करने वाले को वह कभी क्षमा नहीं करते हैं, ऐसे में यम की मृत्यु निश्चित है, लेकिन मां के अचानक आ जाने और यम को उनका भाई बताने के साथ दोनों के बीच युद्ध खत्म हो जाता है.

इन्हें पढ़ें

Mahima Shanidev ki : शनिदेव को इसलिए अचानक जाना पड़ा था सूर्यलोक , पढ़िए रोचक कथा

Mahima Shanidev ki : शनिदेव को तलाश रहे इंद्र को इस गलती पर सूर्यदेव ने दी थी भस्म करने की चेतावनी

Source link