West Bengal election result: अशोक चव्हाण कमिटी की रिपोर्ट से नप सकते हैं कई दिखावटी चेहरे – after ashok chavhan committie report many leaders may face action from high command

116

मुंबई,अभिमन्यु शितोले
कांग्रेस के वरिष्ठ नेता अशोक चव्हाण के नेतृत्व में काम कर रही कांग्रेस की एक उच्च स्तरीय समिति की रिपोर्ट पर कांग्रेस के कई दिखावटी चेहरे नप सकते हैं। समिति हाल ही में संपन्न हुए राज्यों के विधानसभा चुनावों में पार्टी की हार और जीत के कारणों का पता लगाने का काम कर रही है। विश्वसनीय सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक अब तक असम, केरल और पुडुचेरी पर बात हो चुकी है। इन राज्यों के चुनावी नतीजों पर फाइनल रिपोर्ट बन रही है। यह रिपोर्ट आज कांग्रेस आलाकमान को दिल्ली भेजी जानी है। इसके साथ ही पश्चिम बंगाल पर काम शुरू होगा।

बता दें कि कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी ने अशोक चव्हाण कमिटी को 15 दिन का समय दिया था, जो 31 मई को पूरा हो गया। कांग्रेस के भीतरी सूत्रों का कहना है कि पिछले 15 दिन में कमिटी ने लगातार काम किया है। कमिटी के अध्यक्ष अशोक चव्हाण, सदस्य सलमान खुर्शीद, मनीष तिवारी, विंसेट पाला और ज्योति मनी ने असम, केरल और पुडुचेरी के चुनाव में प्रमुख भूमिका निभाने वाले 15 से 20 लोगों के साथ रोज टेलि-कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए बात की है।

पहली बार हो रही है इतनी तहकीकात
इस तहकीकात में खास बात यह है कि कमिटी ने केवल उम्मीदवार से ही बात नहीं की, बल्कि राज्य के हर पदाधिकारी, प्रभारी और पूर्व प्रभारी से भी बात की। इतना ही नहीं, राज्य और राजधानी के पत्रकारों और सामाजिक कार्यकर्ताओं से भी ऑनलाइन बात की गई है। ये पहला मौका है, जब इस तरह ही जांच की जा रही है। कमिटी इस बार उम्मीदवार के चयन की प्रक्रिया, जिस नेता ने नाम दिया उसकी जिम्मेदारी, प्रचार के मुद्दे, प्रचार के तरीकों, गठबंधन की जरूरत और उसके असर, प्रभारी महासचिव की भूमिका, प्रभारी मुख्यमंत्री की भूमिका जैसे सब मुद्दे को देख रही है। अलावा इसके हर सीट पर पड़े वोट उनका वर्गीकरण, वोट पैटर्न और सीट पर जीत हार के कारणों को भी अलग से लिख रही है। कमिटी की रिपोर्ट 80 पन्नों से ज्यादा हो सकती है।

सोनिया कर चुकी हैं तीन बार बात
कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी इस रिपोर्ट को लेकर स्वयं बहुत गंभीर हैं। सूत्रों के अनुसार खुद सोनिया गांधी भी इस कमिटी से 3 बार बात कर चुकी है। कमिटी ने टाइम एक्सटेंशन मांगा था, लेकिन सोनिया गांधी ने साफ कह दिया कि टाइम पर ही रिपोर्ट दी जाए। अशोक चव्हाण जो लंबे समय से पार्टी में हाशिए पर थे, उनसे इस कमिटी के गठन के बाद से पार्टी प्रमुख सोनिया गांधी और सीनियर नेता लगातार बात कर रहे हैं। अशोक चव्हाण का पुराना कनेक्शन फिर से बन गया है, इसलिए चव्हाण भी इस कमिटी को लेकर बहुत सीरियस हैं। वह सुबह 3 घंटे और शाम को 5 घंटे तक काम कर रहे हैं। खबर है कि उन्होंने एक डेडिकेटेड टीम भी बना रखी है, जो डाटा अनालिसिस और ग्राफिक्स के साथ रिपोर्ट बना रही है। बहरहाल, अगर रिपोर्ट पर सच में अमल हुआ, तो कई दिखावटी चेहरों की छुट्टी हो सकती है।

Source link