West Bengal Assembly Election 2021 Rakesh Tikait In West Bengal For Mahapanchayat Said farmers are sitting in Delhi and leaders are in bengal – बंगाल में महापंचायत करेंगे राकेश टिकैत, बोले, ‘किसान बैठा है दिल्ली में, नेता कैसे आगे निकल गए’

40

पश्चिम बंगाल देश की राजनीतिक हलचल का केंद्र बना हुआ है। पश्चिम बंगाल विधानसभा चुनावों के बीच किसान नेता राकेश टिकैत भी आज बंगाल जा रहे हैं। वो आज कोलकाता और नंदीग्राम में महापंचायत करेंगे। राकेश टिकैत सुबह 11 बजे कोलकाता में महापंचायत में भाग लेंगे और शाम 4 बजे नंदीग्राम में जनसभा को संबोधित करेंगे। संयुक्त किसान मोर्चा की तरफ से भारतीय किसान यूनियन के प्रवक्ता राकेश टिकैत सहित कई किसान नेता देश के अलग- अलग हिस्सों में कृषि कानूनों के खिलाफ किसानों को एकजुट कर रहे हैं।

बंगाल विधानसभा चुनावों से ठीक पहले राकेश टिकैत का बंगाल दौरे पर उनका कहना है कि वो बंगाल इसलिए जा रहे क्योंकि सभी नेता बंगाल ही जा रहे हैं। उन्होंने इंडिया टुडे से बातचीत में कहा, ‘सभी नेता बंगाल जा रहे हैं, इसलिए हम भी जा रहे हैं। हो सकता है दिल्ली की कोई सरकार मिल जाए हमें भी।’

राकेश टिकैत ने आगे कहा, ‘नेता जा रहे हैं वहां, कोई आता- जाता टकरा ही जाएगा हमसे। उन्हें लेकर आएंगे यहां पर कि दिल्ली चलो भाई। किसान बैठा हुआ है वहां, तुम कैसे आगे निकल गए।’ राकेश टिकैत ने पाश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी पर कथित हमले को लेकर भी अपनी राय रखी और कहा कि एक तरफ लड़कियों को पढ़ाने की मुहिम चला रहे हैं, महिला दिवस मना रहे हैं और दूसरी तरफ़ एक महिला जो मोर्चा संभाले है, उसे चोट मरवाकर हॉस्पिटल में भर्ती करवा दी।

 

आपको बता दें कि ममता बनर्जी को अस्पताल से छुट्टी दे दी गई है और कहा जा रहा है कि व्हीलचेयर पर ही वो अपना चुनाव प्रचार करेंगी। राकेश टिकैत ने उनके प्रति सहानुभूति जताई है। राकेश टिकैत यह भी कहते रहे हैं कि जब बात वोट की आएगी तो वो लोगों से कहेंगे कि बीजेपी को लोग वोट न दें। उनका कहना है कि बीजेपी ने देश को बर्बाद कर दिया है।

 

किसानों का यह आंदोलन नवंबर 2020 से चल रहा है और अब आंदोलन को 100 से भी अधिक दिन हो गए हैं। सरकार कृषि कानूनों को वापस लेने से साफ मना कर चुकी है लेकिन किसानों का कहना है कि जब तक तीनों कृषि कानून वापस नहीं होंगे और MSP पर कोई कानून नहीं बनेगा, वो अपने घर वापस नहीं जाएंगे।



सबसे ज्‍यादा पढ़ी गई


Source link