Vaccine still possible this year, despite trial pause: AstraZeneca – ट्रायल रोकने के बाद भी AstraZeneca को विश्‍वास, वर्ष के अंत तक उपलब्‍ध होगी कोरोना वैक्‍सीन

66

ब्रिटेन (UK) में कंपनी के वैक्‍सीन का क्‍लीनिकल ट्रायल रोक दिया गया है

खास बातें

  • कंपनी की ओर से गुरुवार को जारी किया गया यह बयान
  • कंपनी ने फिलहाल परीक्षण रोकने का लिया है निर्णय
  • यूके में एक व्‍यक्ति के बीमार होने के बाद लिया है निर्णय

Corona virus vaccine: फार्मास्‍युटिक कंपनी एस्ट्राजेनेका (Drugs giant AstraZeneca)ने दावा किया है कि ब्रिटेन (UK) में कंपनी के वैक्‍सीन का क्‍लीनिकल ट्रायल (clinical trial) रोके जाने के बावजूद कोविड-19 वैक्‍सीन (Covid-19 vaccine) इस वर्ष के अंत तक उपलब्‍ध हो सकती है. कंपनी की ओर से गुरुवार को जारी बयान में कहा गया, ‘हम इस साल के अंत तक या अगले साल की शुरुआत में हमारे पास वैक्‍सीन होगी.’ कंपनी के मुख्‍य कार्यकारी पास्‍कल सोरियट ने कहा कि यह इस बात पर निर्भर करता है कि नियामक संस्‍था (regulators) कितनी तेजी से आगे बढ़ते हैं. एस्ट्राजेनेका ने बुधवार को क्‍लीनिकल टेस्‍ट रोक दिया थी. कंपनी ने ब्रिटेन में परीक्षण के दौरान यह वैक्‍सीन लेने वाले एक के बीमार पड़ने के बाद परीक्षण रोकने का कदम उठाया था. 

यह भी पढ़ें

ड्रग कंट्रोलर का नोटिस मिलने के बाद सीरम इंस्‍टीट्यूट ऑफ इंडिया ने कोरोना वैक्‍सीन ट्रायल रोका

भारतीय कंपनी सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) एस्ट्राजेनेका के संभावित टीके का भारत में चिकित्सीय परीक्षण कर रही है. भारत के दवा महानियंत्रक ने पिछले महीने ही पुणे स्थित इस कंपनी को इस टीके का भारत में दूसरे और तीसरे चरण का परीक्षण करने की अनुमति दी थी. सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया (SII) ने भी कोरोना की वैक्‍सीन (COVID-19 vaccine) को लेकर अपना ट्रायल रोक दिया है. SII ने गुरुवार को औपचारिक बयान जारी कर कहा’ हम हालात की समीक्षा कर रहे हैं और जब तक astrazeneca दोबारा ट्रायल शुरू नहीं करती तब तक भारत में हो रहे ट्रायल को रोक रहे हैं. हम ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया के निर्देशों का पालन कर रहे हैं और आगे ट्रायल पर टिप्पणी नहीं करेंगे. आगे की अपडेट के लिए आप ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया से बात कर सकते हैं.’

गौरतलब है कि बुधवार को ड्रग्स कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया (DCGI)ने सीरम इंस्टीटूट ऑफ इंडिया (Serum Institute of India) को ‘कारण बताओ नोटिस’ जारी किया था और पूछा था कि आप का ट्रायल क्यों न सस्पेंड कर दिया जाए?

सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया ने गेट्स फाउंडेशन से किया करार

(इस खबर को एनडीटीवी टीम ने संपादित नहीं किया है. यह सिंडीकेट फीड से सीधे प्रकाशित की गई है।)

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here