धूूम्रपान और वायु प्रदूषण से फेफडें की गम्भीर समस्या के बचाव के लिए स्वास्थ्य चिकित्सकों से करें उपचार—डा.वेद प्रकाश

25

केजीएमयू में विश्च ​सीओपीडी दिवस के उपलक्ष्य में स्वास्थ्य रक्षकों ने व्यक्त किये अपने सुझाव

‘स्वस्थ फेफड़े अभी से अधिक महत्वपूर्ण कभी नहीं’थीम के तहत मना सीओपीडी दिवस
भास्कर न्यूज
लखनऊ।दूषित हवा और अधिक धूम्रपान के सेवन करने से फेफड़ों की गम्भीर बीमारी का ग्राफ दिनो दिन बढ़ रहा है।देखा गया कि क्रानिक आब्स​ट्रक्टिव पल्मोनरी डिजीज कहे तो सीओपीडी दुनिया भर में तीसरा प्रमुख कारण है।​ऐसे में 2019 में देखा गया कि 3.23 मिलियन लोगों की मृत्यु हृदय रोग के बाद भारत में दूसरा प्रमुख कारण है।

सीओपीडी रोके जाने योग्य और उपचार योग्य बीमारी है जो सांस फूलने अधिक बलगम का निकलना और खांसी का कारण बनती है,दुनिया में सीओपीडी के 300 मिलियन सीओपीडी के मामले दर्ज किये गये यह बाते किंग जार्ज चिकित्सा विश्व विद्यालय के पल्मोनरी एंड क्रिटिकल

केयर मेडिसिन विभाग के विभागाध्यक्ष डा.वेद प्रकाश एवं राजेन्द्र प्रसाद ने मंगलवार को विश्व सीओपीडी दिवस के पूर्व आयोजन में प्रेस कान्फ्रेंस के दौरान कही।डा.वेद प्रकाश ने कहा कि हर एक शरीर को प्रतिदिन दस हजार लीटर आक्सीजन की आवश्कता होती है,उसमें से सिर्फ 20 प्रतिशत

आक्सीजन शरीर में आब्जर्व होती है।कहा डब्ल्यूएचओ के सहयोग से लोगों को जागरूक करने के लिए सीओपीडी जैसी गम्भीर बीमारी को लेकर दिवस के रूप में मनाया जाता है।जिससे लोग इसके प्रति अवेयर होंगे और स्वास्थ्य विशेषज्ञों द्वारा उपचार कराने से निश्चित ही इस गम्भीर बीमारी से

निजात मिल सकती है।डा.प्रसाद ने कहा कि सीओपीडी लगातार श्वशन लक्षणों कारण बनता है,जिससे सांस लेने में कठिनाई ,खांसी और कफ बनना शामिल है।उन्होंने कहा कि तंबाकू के धुंए ,घर के अंदर वायु प्रदूषण और धूल पर्यावरणीय सीओपीडी के लिए महत्वपूर्ण कारक है।

कहा ​कि सीओपीडी का कोई इलाज नहीं है,शुरूआती निदान उपचार महत्वपूर्ण है।इसके बचाव के लिए धूम्रपान बंद करें तथा घर के अंदर और बाहर वायु प्रदूषण कम करना ।कहा ​घर में पर्याप्त हवादार होना चाहिए और नियमित व्यायाम करें ।

इसके लिए निमोनियां इंनफ्लूंजा और कोरोना वायरस रोधी टीका जरूर लगवाये।कार्यक्रम में डा.हेमंत,डा. आरिफ ,डा.निवेदिता,डा.मकसूमी ,डा. शुभम ,डा.विक्रम ,डा.तारिक ,डा.सचिन ,डा.सैयद सहित विभाग के चिकित्सक एवं रेजीडेंट डाक्टर उपस्थित रहे।