Teacher’s Day Special. मेरठ के दो जुड़वा दिव्यांग भाई, जो मानते हैं PM मोदी को गुरु, पढ़ें पूरी कहानी | meerut – News in Hindi

43

आयुष और पीयूष अब पोस्ट ग्रेजुएट होने को हैं.

2014 में मोदी सरकार (Modi Government) बनने के बाद इन दोनों जुड़वा दिव्यांग भाइयों को एचआरडी (HRD) मंत्रालय की तरफ से एक चिट्ठी ने मॉटिवेट किया और ये पोस्ट ग्रेजुएट की राह पर है.

मेरठ. ये कहानी है उत्तर प्रदेश के मेरठ (Meerut) के ऐसे दो जुड़वा भाइयों की जो बचपन से ही न ठीक से चल सकते हैं और न ही ठीक से उठ बैठ सकते हैं. यहां तक कि इन दोनों जुड़वा भाइयों (Twin Brothers) को बोलने में भी तकलीफ होती है, लेकिन 2014 में मोदी सरकार आने के बाद इन्हें एचआरडी मिनिस्ट्री से सम्मान क्या मिला ये कामयाबी की उड़ान भरने लगे. ऐसी उड़ान कि आप जानकर आश्चर्यचकित हो जाएंगे. इसीलिए तो ये पीएम मोदी (PM Narendra Modi)  को गुरु के साथ -साथ ये दिव्यांग जुड़वा भाई भगवान की तरह पूजते हैं.

गुरु गोविंद दोऊ खड़े काके लागू पाएं. बलिहारी गुरु आपको गोविंद दियो बताए. आपने एकल्वय की कहानी सुनी होगी जिन्होंने द्रोणाचार्य की मूर्ति को गुरु की तरह पूजा और ऐसे धनुर्धर बने कि इतिहास आज भी याद रखता है. आज हम आपको ऐसे दो दिव्यांग जुड़वा भाइयों से मिलवाएंगे जो प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी को गुरु के रूप में भगवान मानते हैं. ये रियल स्टोरी मेरठ के दो जुड़वा दिव्यांग भाइयों आयूष और पीय़ूष की है. आयूष और पीयूष को सेरेब्रल पॉल्सी नाम की गंभीर बीमारी है. इस बीमारी की वजह से आयूष और पीयूष बचपन से ही न ठीक से चल सकते हैं न उठ बैठ सकते हैं. यहां तक कि वो ठीक से बोल भी नहीं सकते. लेकिन 2014 में मोदी सरकार बनने के बाद उन्हें एचआरडी मंत्रालय की तरफ से एक चिट्ठी क्या मिली उनके जीवन की धारा ही बदल गई. इस चिट्ठी ने इन दोनों जुड़वा भाइयों को ऐसा मॉटिवेट किया कि आज ये पोस्ट ग्रेजुएट होने की राह पर है.

पीएम नरेंद्र मोदी को मानते हैं भगवान

इन दोनों जुड़वा भाइयों का कहना है कि उनके जीवन में सिवाय निऱाशा के और कुछ बाकी नहीं रह गया था लेकिन पीएम मोदी के व्यक्तित्व ने उन्हें ऐसा प्रेरित किया कि वो उन्हें अपना गुरु मन ही मन मानने लगे. उन्हीं की बदौलत तमाम कठिन हालातों का मुकाबला करते हुए अपने लक्ष्य को हासिल करने में जुटे हुए हैं. आय़ूष और पीयूष का कहना है कि यूं तो उनके जीवन में आए सभी टीचर्स उनके लिए प्रेरणास्रोत हैं लेकिन पीएम मोदी को वो भगवान की संज्ञा देते हैं. सेरेब्रल पॉल्सी से जूझते जुड़वा भाई पीयूष और आयुष को माता पिता की शक्ति ने भी ताकतवर बना दिया. जिंदगी की जंग में दोनों भाई कदम मिलाकर चल रहे हैं तो इसके पीछे मां और पिता की ममता है. इन दोनों भाइयों की रगो में स्नेह की सरिता रही है.

  uttar pradesh news, up news, meerut news, Teacher's Day Special, Teacher's Day Special news, Teacher's Day 2020, meerut twin brother, pm narendra modi guru, शिक्षक दिवस स्पेशल स्टोरी, मेरठ के दो दिव्यांग जुड़वा भाइ, पीएम नरेंद्र मोदी को माना गुरु

सेरेब्रल पॉल्सी से जूझते जुड़वा भाई पीयूष और आयुष को माता पिता की शक्ति ने भी ताकतवर बना दिया.

ये भी पढ़ें: MP By-Election 2020: ग्वालियर में गरजे ज्योतिरादित्य सिंधिया, कहा- कांग्रेस पार्टी नहीं, ज्योतिष की तरह कर रही काम

बलवंतनगर निवासी आयुष और पीयूष अब पोस्ट ग्रेजुएट होने को हैं. वह जब पैदा हुए तो वजन महज 900 ग्राम था. ये शिशु इतने कमजोर थे कि कोई हाथ से उठाने में भी हिचकता था. बड़े हुए तो सेरेब्रल पाल्सी जैसे असाध्य रोग ने बचपन पर शिकंजा कसा. लेकिन इन सब परेशानियों को बचपन मां ने पानी की तरह आसान और शीतल बना दिया. मां रोज फिजियोथेरपी कराने से लेकर स्कूल तक के सफर में हर क्षण साथ नजर आई. अमूमन इसे असाध्य बीमारी मानकर कई बार परिवार भी अपनी जिंदगी में रम जाता है. लेकिन यहां मां ने एक क्षण भी उन्हें नजरों से ओझल नहीं होने दिया. मां ने चेहरा देखकर अपने बच्चों के मन के हलचल को भांपा. दर्द को हरा और उम्मीदों को नई उड़ान दी.

आज दोनों भाई अपनी पढ़ाई के साथ-साथ सामाजिक कार्यो में भी भाग लेने लगे हैं. शांतनिकेतन विद्यापीठ में पढ़ने वाले दोनों भाई अपने हुनर और हौसलों से हर जगह सराहे जाते हैं. उनकी मंशा है कि जिंदगी की हर खुशियां वह अपने मां के कदमों में रख दें, जिनकी छांव में यह जीवन कंचन बन गया. साथ ही वो जीवन में एक बार प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी से मिलना चाहते हैं जिन्होंने उन्हें कर्म की सीख दी.



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here