‘मीठी बोली’ मरीजों के लिए गोली का करती है काम—सुरेश खन्ना

32

आरएमएल में मंत्रियों ने न्यू रजिस्ट्रेशन व एडवांस न्यूरो सांइसेज का किया लोकार्पण

भास्कर न्यूज

लखनऊ।हमारी विनम्रता और मीठी बोली मरीज के लिए गोली का काम करती है। हमें मरीज के इलाज के साथ-साथ उसके प्रति अच्छा व्यवहार भी रखना चाहिए। संस्थान के किसी भी चिकित्सक रेजीडेण्ट या कर्मचारी की ख्याति न सिर्फ उसकी होगी बल्कि संस्थान की भी ख्याति होगी और संस्थान की ख्याति प्रदेश सरकार की भी ख्याति बनेगी। हमारी थोड़ी सी चूक कष्टदायक होगी।यह बाते गुरूवार

को डा.राम मनोहर लोहिया आयुर्विज्ञान संस्थान में न्यू रजिस्ट्रेशन हाल तथा एडवांस न्यूरो साइन्सेज सेन्टर का शिलान्यास के लोकार्पण कार्यक्रम के दौरान सुरेश कुमार खन्ना मंत्री चिकित्सा शिक्षा वित्त एवं संसदीय कार्य विभाग, उप्र सरकार के कर कमलों द्वारा सदीप सिंह राज्य मंत्री चिकित्सा शिक्षा वित्त एवं प्राविधिक शिक्षा,उप्र सरकार की गारिमामयी उपस्थिति में कही। उन्होंने कहा कि कार्यदायी संस्था को एक साल के भीतर एडवांस न्यूरो साइन्सेज सेन्टर का कार्य पूर्ण करें।अन्त में मुख्य अतिथियों ने संस्थान उपलब्धियों एवं उसके द्वारा दी जा रही सेवाओं की प्रशंसा की और होल बाडी चेकअप प्रोजेक्ट की शुरूआत करने के लिए विचार करने को कहा संस्थान के न्यू रजिस्ट्रेशन हाल एवं आकस्मिक एचआरएफ काउन्टर का लोकापर्ण तथा एडवांस न्यूरो साइन्सेज सेन्टर का शिलान्यास सुरेश कुमार खन्ना एवं के कर कमलों द्वारा संदीप सिंह की गारिमामयी उपस्थिति में किया गया।कार्यक्रम का शुभारम्भ विशिष्ट अतिथियों द्वारा दीप प्रज्जवलित कर किया गया।संस्थान की निदेशक प्रो.सोनिया नित्यानन्द अतिथियों

 

का स्वागत किया गया साथ ही संस्थान की उपलब्धियों पर प्रकाश डालते हुये यह बताया गया कि न्यू रजिस्ट्रेशन हॉल का निर्माण कार्य उत्तर प्रदेश आवास एवं विकास परिषद द्वारा किया गया है। हॉल के निर्माण में रू०- 256.71 लाख व्यय हुआ है।

 

संस्थान में पूर्व में नौ रजिस्ट्रेशन काउंटर थे। न्यू रजिस्ट्रेशन हॉल के प्रारम्भ होने से यह संख्या अब बढ़कर 33 हो जायेगी। हॉल में मरीजों की सहायता एवं किसी भी प्रकार की जानकारी उपलब्ध कराने के लिए पीआरओ डेस्क की भी सुविधा होगी।इमरजेन्सी एचआरएफ काउंटर के संदर्भ में निदेशक द्वारा अवगत कराया गया कि

एचआरएफ काउंटर शुरू होने से मरीजों को दवाईयों के लिए इधर-उधर भटकना नहीं पड़ेगा। यह इमरजेन्सी एचआरएफ काउंटर 24 घंटे क्रियाशील रहेगा।निदेशक ने अपने सम्बोधन में बताया कि न्यूरोलाजी तथा न्यूरोसर्जरी के अन्तर्गत एक ही छत के नीचे 24 घंटे विशिष्ट चिकित्सा तथा शोध के लिए समर्पित न्यूरोसाइंस सेन्टर उत्तर प्रदेश के किसी राज्यकीय चिकित्सालय, मेडिकल कालेज,

चिकित्सा संस्थान में स्थापित नहीं किया गया इसलिए संस्थान में एडवांस न्यूरो साइन्सेज सेन्टर स्थापना से एक ही छत के नीचे समस्त मूल भूत सुविधाएं जन-मानस को प्राप्त हो । आलोक कुमार उपाध्यक्ष लोहिया संस्थान ने अपने सम्बोधन में कहा कि मरीज अस्पताल में परेशानी के साथ आता है यह हमारा कर्तव्य है कि हम इलाज से उसको कुछ सुकून दे पाये। उन्होंने अपने विचार

व्यक्त करते हुये उम्मीद की एडवांस न्यूरो साइन्सेज सेन्टर की कार्यदायी संस्था सेन्टर का निर्माण ससमय करेगी।साथ ही उन्होंने सेन्टर के संचालन के लिए उपकरणों मैन पावर इत्यादि से सम्बन्धित अपने क्षेत्राधिकार की जिम्मेदारियों को समय से कार्रवाई कर पूर्ण करने का अनुरोध किया।उन्होंने यह भी आश्वासन दिया कि

संस्थान के विशिष्ट पहचान के लिए शासन स्तर से सदैव सहयोग प्रदान किया जायेगा।कार्यक्रम के विशिष्ट अतिथि संदीप सिंह द्वारा यह उम्मीद की गई कि संस्थान अपने उद्देश्यों के दृष्टिगत मरीजों को विशिष्ट चिकित्सा सेवा उपलब्ध कराने के लिए प्रतिबद्ध रहे और समय की माँग को देखते हुये तकनीकि ज्ञानर्जन के प्रति भी जागरूक रहे। कार्यक्रम का समापन संस्थान के सीएमएस प्रो.राजन भटनागर द्वारा धन्यवाद ज्ञापन के साथ हुआ।