Supertech Twins tower case – Supertech के खरीदारों की फिर अटकी सांसें, दोबारा से कोर्ट में गया एमरॉल्ड के अवैध टावर का मामला – News18 Hindi

27

नोएडा. सुपरटेक (Supertech) की एमरॉल्ड योजना में बने दो अवैध टावर को लेकर एक बार फिर से खरीदारों की सांसें अटक गई हैं. सुप्रीम कोर्ट ने दोनों टावर को अवैध माना था. नोएडा अथॉरिटी को टावर तोड़ने के आदेश जारी किए थे. टावर के फ्लैट खरीदारों (Flat Buyers) को रकम वापस करने का आदेश भी सुप्रीम कोर्ट (Supreme Court) ने सुपरटेक के मालिकों को दिया था. लेकिन एक बार फिर से मामला फंसता हुआ दिखाई दे रहा है. अवैध टावर का मामला दोबारा से कोर्ट में पहुंच गया है. सुपरटेक के मालिकों ने कोर्ट में रिव्यू पिटीशन फाइल कर दी है. अब जल्द ही उस पर सुनवाई शुरु होगी. वहीं दूसरी ओर नोएडा अथॉरिटी (Noida Authority) टावर को तोड़ने की तैयारी में लगी हुई है. लेकिन रिव्यू पिटीशन (Review petition) में सुनवाई से पहले अथॉरिटी अब कोई कदम नहीं उठा पाएगी.

एमरॉल्ड सोसाइटी में हैं अपैक्स और सियान टावर

सुपरटेक बिल्डर पर आरोप है कि उसने ग्रीन बेल्ट और ओपन एरिया में अवैध तरीके से दो अपैक्स और सियान टावर खड़े कर दिए हैं. हर एक टावर 40-40 मंजिल का है. इसकी शिकायत खुद एमरॉल्ड सोसाइटी में रहने वालों ने की थी. इसके बाद यह केस सुप्रीम कोर्ट पहुंच गया. जहां हाल ही मैं सुप्रीम कोर्ट ने अपना फैसला देते हुए नोएडा अथॉरिटी को आदेश दिया था कि वह 30 नवंबर तक सुपरटेक के दोनों अपैक्स और सियान टावर को तोड़े.

सुपरटेक को उठाना होगा टावर गिराने का खर्च

सुप्रीम कोर्ट के आदेश और नियमानुसार एमरॉल्ड सोसाइटी के दोनों अपैक्स और सियान टावर को तोड़े जाने का खर्च खुश सुपरटेक को ही उठाना होगा. नोएडा अथॉरिटी टावर तोड़ने के लिए सीबीआरआई की एक्सपर्ट सलाह के साथ ही किसी दूसरे एजेंसी की मदद भी ले सकती है. वहीं आज इस मामले की जांच के लिए यूपी सरकार की ओर से गठित एसआईटी भी नोएडा आ सकती है.

Delhi-NCR में अब यहां से भी चलेंगी 3 राज्यों के लिए ट्रेन और 6 राज्यों के लिए बस

12 टावरों के खिलाफ भी कार्रवाई करेगा नोएडा अथॉरिटी

सुपरटेक की एमरॉल्ड कोर्ट योजना में सुप्रीम कोर्ट के आदेश के बाद नोएडा अथॉरिटी की बहुत किरकिरी हुई है. कोर्ट 3 महीने के अंदर सुपरटेक के ट्विन टावर को तोड़ने के आदेश कर चुका है. मामले की जांच के साथ ही दोनों टावर को तोड़े जाने की तैयारियां भी चल रही हैं. लेकिन अपनी साख पर लगे बट्टे को हटाने के लिए नोएडा अथॉरिटी ने एक और प्लान तैयार किया है.

प्लान के तहत अथॉरिटी ने वो सब पुरानी शिकायतें निकाली हैं जो बिल्डर्स की ओर से किए गए अवैध निर्माण को लेकर हैं. यह शिकायतें संबंधित आरडब्ल्यूए ने की हैं. शिकायतों की जांच के बाद अथॉरिटी ने ऐसे 12 टावर चिन्हित किए हैं जिनके खिलाफ अतिक्रमण की कार्रवाई की जाएगी.

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

Source link