Suh Wook to meet Rajnath Singh in Delhi; There will be talk about India-Korea defense cooperation | दिल्ली में राजनाथ सिंह से मुलाकात करेंगे सुह वूक; भारत-कोरिया रक्षा सहयोग को लेकर होगी बात

52
  • Hindi News
  • International
  • Suh Wook To Meet Rajnath Singh In Delhi; There Will Be Talk About India Korea Defense Cooperation

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

6 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

तीन दिवसीय दौरे के दौरान दिल्‍ली कैंट में भारत और कोरिया के रक्षा मंत्री संयुक्‍त रूप से भारत-कोरियाई मित्रता पार्क का उद्घाटन करेंगे। (फाइल फोटो)

दक्षिण कोरिया के रक्षा मंत्री सुह वूक 25 से 27 मार्च 2021 तक भारत की यात्रा पर रहेंगे। सुह वूक अपनी यात्रा के दौरान नई दिल्‍ली में अपने समकक्ष रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह से मिलेंगे। दोनों रक्षा मंत्री क्षेत्रीय और अंतरराष्ट्रीय विषयों के साथ-साथ भारत-कोरिया गणराज्य के बीच द्विपक्षीय रक्षा सहयोग पर उच्च स्तरीय बातचीत करेंगे।

अपने तीन दिवसीय दौरे के दौरान दिल्‍ली कैंट में भारत और कोरिया के रक्षा मंत्री संयुक्‍त रूप से भारत-कोरियाई मित्रता पार्क का उद्घाटन करेंगे। इसके अलावा कोरिया के राष्‍ट्रीय रक्षा मंत्री आगरा भी जाएंगे।

बीते साल दिसंबर में सेना प्रमुख गए थे दक्षिण कोरिया के दौरे पर
बता दें कि इससे पहले भारतीय सेना प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवणे दिसंबर 2020 में दक्षिण कोरिया की तीन दिवसीय यात्रा पर गए थे। इस यात्रा के दौरान उन्होंने कोरिया गणराज्य के वरिष्ठ सैन्य और नागरिक नेतृत्व से मुलाकात की और भारत-कोरिया रक्षा संबंधों को आगे बढ़ाने के मुद्दे पर चर्चा की। सेना प्रमुख की यह यात्रा इस मायने में भी ऐतिहासिक रही कि पहली बार भारत के सेना प्रमुख दक्षिण कोरिया के दौरे पर गए थे।

इससे पहले अमेरिकी रक्षा मंत्री, भारत के तीन दिवसीय दौरे पर थे

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने विज्ञान भवन में अमेरिकी रक्षा मंत्री लॉयड ऑस्टिन का स्वागत किया था। वे 3 दिन के भारत दौरे पर थे।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने विज्ञान भवन में अमेरिकी रक्षा मंत्री लॉयड ऑस्टिन का स्वागत किया था। वे 3 दिन के भारत दौरे पर थे।

अमेरिका के रक्षा मंत्री लॉयड ऑस्टिन 19-21 मार्च तक भारत के दौरे पर रहे थे। भारत के रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह और लॉयड ऑस्टिन की मुलाकात हुई थी। दोनों देशों के प्रतिनिधिमंडलों के बीच विज्ञान भवन में मीटिंग भी हुई। दोनों के बीच रक्षा सहयोग, मिलिट्री-टू-मिलिट्री एंगेजमेंट, सूचना साझा करना, रक्षा के उभरते क्षेत्रों में सहयोग और लॉजिस्टिक सपोर्ट में सहयोग बढ़ाने पर चर्चा हुई। इस दौरान दोनों देशों ने कई समझौतों पर हस्ताक्षर भी हुए थे।

भारत दौरे के बाद ऑस्टिन ने कहा था, “भारत तेजी से अंतरराष्ट्रीय गतिशीलता में बदलाव करने में एक महत्वपूर्ण भागीदार है। मैं भारत-प्रशांत क्षेत्र के लिए भारत के साथ रक्षा साझेदारी के लिए अमेरिका की प्रतिबद्धता को दाहराता हूं।”

खबरें और भी हैं…

Source link