Sri Lanka China Loan Agreement; All You Need To Know | चीन से 2200 करोड़ का कर्ज लेगा, पुराना कर्ज न चुकाने पर चीन ने हड़प लिया था हंबनटोटा पोर्ट

18

कोलंबोएक घंटा पहले

  • कॉपी लिंक

चीन ने श्रीलंका को डेवलपमेंट प्रोजेक्ट के लिए हजारों करोड़ रुपए का कर्ज दिया है। श्रीलंका पर 33 हजार करोड़ रुपए का विदेशी कर्ज भी है।

पहले से ही विदेशी कर्ज में डूबे श्रीलंका ने मंगलवार को चीन के साथ 2,280 करोड़ रुपए का लोन एग्रीमेंट साइन किया। चाइना डेवलपमेंट बैंक और श्रीलंका सरकार के बीच यह एग्रीमेंट श्रीलंका के अनुरोध पर किया गया। चीनी एम्बेसी के बयान के मुताबिक इस एग्रीमेंट से श्रीलंका को कोविड रिस्पांस, आर्थिक सुधार, फाइनेंशियल स्टेबिलिटी और बेहतर आजीविका में मदद मिलेगी।

दोनों देशों की यह डील चीन के 11 हजार 877 करोड़ रुपए की पुरानी क्रेडिट सपोर्ट का हिस्सा है। श्रीलंका को 7 हजार 423 करोड़ रुपए का क्रेडिट सपोर्ट पहले ही दो किस्तों में मिल चुका है। जिसमें करीब 37 हजार करोड़ रूपए की पहली किस्त अप्रैल 2021 में और आधी किश्त मार्च 2020 में मिली थी।

कोरोना की वजह से झेल रहा आर्थिक संकट
टूरिज्म पर निर्भर रहने वाले श्रीलंका की इकोनॉमी को कोरोना की वजह से काफी नुकसान झेलना पड़ा है। इस साल फरवरी में श्रीलंका ने आर्थिक बोझ से निपटने के लिए भारत के साथ करीब 3 हजार करोड़ रुपए का फाइनेंशियल स्वैप किया था।

हंबनटोटा पोर्ट को चीन को देना पड़ा था
इससे पहले की श्रीलंका सरकार ने हंबनटोटा पोर्ट के लिए चीन से कर्ज लिया था और 8 बिलियन डॉलर का कर्ज नहीं चुका पाई थी। जिस वजह से 2017 में हंबनटोटा पोर्ट को चीन की एक कंपनी को 99 साल की लीज पर देना पड़ा था। हंबनटोटा पोर्ट दुनिया के सबसे व्यस्त बंदरगाहों में से एक है।

श्रीलंका पर है 33 हजार करोड़ रुपए का विदेशी कर्ज
पिछले कई सालों में चीन ने श्रीलंका को डेवलपमेंट प्रोजेक्ट के लिए हजारों करोड़ रुपए का कर्ज दिया है। कहा जा रहा है कि चीन श्रीलंका को कर्ज के बोझ तले दबाना चाहता है, लेकिन राष्ट्रपति गोटबाया राजपक्षे की सरकार ने ऐसी किसी भी संभावना से इंकार किया है। श्रीलंका को 2025 तक 33 हजार करोड़ रुपए का विदेशी कर्ज भी चुकाना है।

खबरें और भी हैं…

Source link