son turns out to be the killer of his parents and sister rohtak 

19

हरियाणा में एक ही पर‍िवार में हुई चार हत्याओं की गुत्थी पुल‍िस ने सुलझा दी है. इस मामले में इकलौता बेटा ही कात‍िल न‍िकला ज‍िसने अपने मां, प‍िता, बहन और नानी के स‍िर में गोली मारी थी.

News Nation Bureau | Edited By : Kuldeep Singh | Updated on: 02 Sep 2021, 11:30:10 AM

आरोपी बेटे की फोटो, साथ में पिता, मां और बहन (Photo Credit: फेसबुक)

highlights

  • हत्या के पीछे बताया का रहा प्रोपर्टी का कारण
  • पर‍िवार के चार सदस्यों के स‍िर में मारी थी गोली
  • तीन लोगों की मौके पर ही हुई थी मौत

रोहतक:

हर‍ियाणा के रोहतक ज‍िले में हुए सनसनीखेज हत्याकांड के मामले में पुलिस ने मृतक के इकलौते बेटे को गिरफ्तार कर लिया है. विजय नगर इलाके में चार लोगों की गोली मारकर हत्या की गई थी. मृतक के बेटे अभिषेक ने ही माता-पिता, बहन व नानी की गोली मारकर हत्या कर दी थी. पुलिसिया खुलासे से हर कोई हैरत में है. लोगों को यकीन कर पाना मुश्किल हो रहा है. पुलिस को पता चला है कि अभिषेक कई दिन से अपने पिता से साढ़े 3 लाख रुपये निजी कार्य के लिए मांग रहा था. जब पिता ने कारण पूछा तो उसने जवाब नहीं दिया. पिता ने छानबीन कर पैसे देने से इनकार कर दिया. इसके इलावा वह बहन नेहा के नाम प्रोपर्टी करने से भी नाराज था. 

27 अगस्त को प्रदीप उर्फ बबलू पहलवान, पत्नी बबली, बेटी नेहा उर्फ तन्नू व बबली की मां रोशनी को गोली मारी गई थी. तीन की सिर में गोली लगने से मौके पर ही मौत हो गई थी. जघन्य हत्याकांड की एकमात्र चश्मदीद गवाह नेहा (17) ने 40 घंटे बाद रविवार सुबह पीजीआई में आखिरी सांस ली थी. इस हत्‍याकांड में एक बात चीज कॉमन देखने को मिली थी कि परिवार के सभी सदस्यों के सिर में गोली मारी गई थी जिससे कोई बच न पाए. मृतक प्रदीप के कान के पास मोबाइल फोन भी था. ऐसा लग रहा था कि शायद उन्‍हें बात करते हुए ही गोली मारी गई थी. वहीं दोनों महिलाओं को भी इसी तरह से गोली मारी गई थी. 

यह भी पढ़ेंः पेंटागन लीक से हुआ काबुल में आत्मघाती हमला, सुरक्षा चूक बनी कारण

मृतक प्रदीप प्रॉपर्टी का काम करता था. पुलिस को हत्या के पीछे प्रॉपर्टी विवाद का अंदेशा लग रहा था. जब पुलिस इस मामले की जांच में जुटी तो पुलिस और परिजनों की छानबीन और पड़ताल में सोनीपत नंबर की सफेद स्विफ्ट कार सामने आई. पुलिस नंबर के आधार पर इसकी तलाश में जुटी. आसपास के इलाकों का सीसीटीवी फुटेज को खंगाला गया. पुलिस ने दंपती के इकलौते बेटे को इस हत्याकांड के लिए गिरफ्तार किया था. हत्याकांड के बाद पुलिस योजना के तहत जांच आगे बढ़ा रही थी. हाथ डालने से पहले सबूत जुटाए गए। सोमवार की रात को अभिषेक से पूछताछ की गई. उसने कभी कन्हेली के एक युवक का नाम लिया तो कभी गांधी कैंप के एक कबाड़ी की तरफ इशारा किया। यहां तक परिवार के एक सदस्य की तरफ भी जांच घुमाई। 

सीसीटीवी फुटेज से मिला सुराग
पुलिस को गली की सीसीटीवी फुटेज मिली, जिससे बाहर से कोई व्यक्ति आता या जाता दिखाई नहीं दिया. जांच में यह भी पता चला कि इसके अलावा पता चला कि अभिषेक अपने दोस्त के साथ होटल गया तो वे होटल से एक ढाबे पर खाना खाने चले गए. वहां पता चला कि अभिषेक ने खाना ही नहीं खाया, जबकि उसके दोस्त ने अच्छी तरह से खाना खाया था. 

ये थी हत्या के पीछे की वजह
जांच में सामने आया कि अभिषेक बहन नेहा के नाम प्रॉपर्टी करवाने से नाराज था. पुलिस को पता चला है कि अभिषेक कई दिन से अपने पिता से साढ़े 3 लाख रुपये निजी कार्य के लिए मांग रहा था. जब पिता ने कारण पूछा तो उसने जवाब नहीं दिया. पुलिस ने अभिषेक को गिरफ्तार कर लिया है.



संबंधित लेख

First Published : 02 Sep 2021, 11:30:10 AM

For all the Latest Crime News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.



Source link