shivsena leader gulabrao patil: gulabrao patil wants to become cm of maharashtra: सीएम बनना चाहते है गुलाबराव पाटिल

44

मुंबई: महाविकास अघाड़ी (Mahavikas Aghadi) को लेकर शिवसेना (Shivsena) के मंत्री गुलाबराव पाटिल (Minister Gulab Rao Patil) का बयान फ़िलहाल महाराष्ट्र (Maharashtra) की सियासत में चर्चा का विषय बना हुआ है। उन्होंने कहा कि पहले शिवसेना और बीजेपी (BJP) के बीच प्यार की पींगे थीं। पहले दोनों ने एक-दूसरे को आई लव यू बोला था लेकिन अब ब्रेकअप हो गया है। कल तक जिनको तीन तिगाड़ा बोला जाता था, आज वो एक साथ आ गए हैं। पहले प्यार का वादा फिफ्टी- फिफ्टी होना था। मतलब पचास- पचास प्रतिशत मंत्री या फिर 40/60 प्रतिशत का फार्मूला बना होता। जिसके अनुसार शिवसेना के कोटे में 20 मंत्री आये होते। लेकिन ऐसा नहीं हुआ और केवल 13 मंत्री शिवसेना के कोटे में आए। जिसमें से 7 कैबिनेट मंत्री थे। जिसमें मेरा भी नंबर लगा। यह बात गुलाबराव पाटिल ने अपने जन्मदिन के अवसर पर कही। महाविकास अघाड़ी सरकार में शिवसेना को 20 मंत्रिपद की अपेक्षा थी। हालांकि उन्हें सिर्फ 13 से ही संतोष करना पड़ा।

हर पार्टी अपना सीएम बनाना चाहती है
महाराष्ट्र में एक तरफ शिवसेना, एनसीपी और कांग्रेस के नेता अपनी-अपनी पार्टी के नेता के अगले मुख्यमंत्री होने का दावा कर रहे हैं। तो दूसरी तरफ शिवसेना के नेता और जलापूर्ति मंत्री गुलाबराव पाटिल ने खुद मुख्यमंत्री बनने की उनकी इच्छा के बारे में लोगों को बताया। उन्होंने कहा कि अगर उद्धव ठाकरे प्रधानमंत्री बनेंगे तो ही मैं मुख्यमंत्री बन सकता हूं। यह बात उन्होंने अपने जन्मदिन के लिए आयोजित किये गए एक कार्यक्रम के दौरान कही।

मंत्री महोदय के बयान के पहले शिवसेना विधायक किशोर पाटिल ने कहा था कि कैबिनेट मंत्री के बाद गुलाबराव पाटिल को अब राज्य के सीएम का बनने का भी मौका मिलेगा। पाटिल के जन्मदिन की सभा जलगांव के पालधि गाँव में आयोजित की गयी थी।

राजनीति में नहीं तो कीर्तनकार होता
शिवसेना के नेता और मंत्री गुलाबराव पाटिल ने कहा कि अगर मैं राजनीति में नहीं आया होता तो मैं एक कीर्तनकार होता। फ़िलहाल मंदिर होने का विरोध करने वाले को उचित जवाब नहीं दिया जा रहा है। अगर कीर्तन करने वाला होता तो मैं भी इंदूरिकर महाराज के साथ ही रहता। आधे कीर्तन सुनाने वालों की दुकान बंद हो गई होती। उन्होंने कहा कि पहले नाटक में काम करता था अब राजनीति आया हूं।

Source link