S Jaishankar US Meetings Update; Rahul Gandhi and WHO China Coronavirus Origin Probe | राहुल के बयान पर बोले जयशंकर- राजनीतिक बयानबाजी के लिए नहीं किया अमेरिका का दौरा, क्वाड देशों की पार्टनरशिप को बेहद जरूरी बताया

85

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

वॉशिंगटन डीसीएक घंटा पहले

केंद्र सरकार की वैक्सीन डिप्लोमैसी पर लगातार सवाल उठा रहे कांग्रेस नेता राहुल गांधी को विदेश मंत्री एस जयशंकर ने शनिवार को जवाब दिया है। अमेरिका दौरे पर गए विदेश मंत्री से जब पूछा गया कि राहुल गांधी केंद्र की पॉलिसी पर लगातार सवाल उठा रहे हैं, सोशल मीडिया पर पोस्ट कर रहे हैं। तो जयशंकर ने कहा कि हम यहां अमेरिका के दौरे पर बात करने के लिए इकट्‌ठा हुए हैं। हमें यहां गंभीर बातें करनी चाहिए, न की राजनीतिक बयानबाजी।

क्वाड पर क्या बोले जयशंकर?
जयशंकर ने क्वाड देशों के ग्रुप पर भी महत्वपूर्ण बयान दिया। उन्होंने कहा कि क्वाड (क्वॉड्रीलेटरल सिक्योरिटी डायलॉग) से भारत, अमेरिका, जापान और ऑस्ट्रेलिया के संबंधों को नई दिशा मिली है। रीजनल सिक्योरिटी के लिहाज से इन देशों के बीच अच्छे संबंध जरूरी हैं। हम सभी के हित एक हैं, इसलिए कई मुद्दों पर चर्चा करने के लिए ये ग्रुप जरूरी है।

क्वाड को दुश्मन देशों का ग्रुप मानता है चीन
चीन क्वाड को अपने दुश्मन की तरह देखता है। बीजिंग को लगता है कि ये ग्रुप उसके प्रभाव को कम करने के लिए बनाया गया है। ग्रुप में दूसरे देशों के लिए परेशानी खड़े करते चीन और म्यांमार में हुए तख्तापलट पर भी चर्चा हो चुकी है। इससे पहले ग्रुप के देश समुद्री सुरक्षा से जुड़ी गतिविधियां बढ़ाने पर भी बातचीत कर चुके हैं। इन देशों के बीच आपसी व्यापार और वैक्सीन प्रोडक्शन बढ़ाने पर भी चर्चा हो चुकी है।

अमेरिका ने भारत का आभार जताया
इससे पहले शुक्रवार को जयशंकर ने कोरोना से लड़ाई के मुश्किल वक्त में अमेरिका से मिली मदद और एकजुटता के लिए जो बाइडेन प्रशासन का आभार जताया था। जयशंकर ने मीडिया से बातचीत में कहा कि दोनों देशों के बीच बातचीत के कई मुद्दे हैं। पिछले सालों में हमारे रिश्ते मजबूत हुए हैं और यह सिलसिला आगे भी जारी रहने का भरोसा है।

चुनौतियों से निपटने मिलकर काम कर रहे
अमेरिकी विदेश मंत्री एंटनी ब्लिंकेन ने कहा था कि कोविड-19 के शुरुआती दौर में भारत ने जिस तरह से अमेरिका का साथ दिया उसे हम कभी भूल नहीं सकते। हम चाहते हैं कि इसी तरह हम भी अब भारत की मदद करें।

ब्लिंकेन ने यह बात विदेश मंत्री एस जयशंकर से मुलाकात के दौरान कही थीं। ब्लिंकेन ने कहा कि मौजूदा समय की कई अहम चुनौतियों से निपटने के लिए अमेरिका और भारत मिलकर काम कर रहे हैं। कोविड-19 का सामना करने के लिए भी हम एकजुट हैं। साथ ही कहा कि दोनों देशों की पार्टनरशिप मजबूत है और हमें लगता है कि इसके अच्छे नतीजे मिल रहे हैं।

खबरें और भी हैं…

Source link