ramdas athawale news: Ramdas Athawale news: केंद्रीय मेत्री रामदास आठवले बोले- हैरिस अमेरिका की उपराष्ट्रपति बन सकती हैं, तो सोनिया भी भारत की प्रधानमंत्री बन सकती थीं – if kamala harris can become us vice president sonia gandhi should have been prime minister of india said union minister ramdas athawale

19

हाइलाइट्स

  • रामदास आठवले हैं केंद्र में मंत्री
  • प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अमेरिका दौरे के दौरान रामदास का आया बयान
  • बोले सोनिया गांधी को बनना चाहिए था देश का प्रधानमंत्री
  • उनके विदेशी मूल के मुद्दे का कोई अर्थ नहीं है

मुंबई
कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी का विदेशी मूल होने का मुद्दा 2004 के लोकसभा चुनावों में उठा था। इसे बेमानी करार देते हुए केंद्रीय मंत्री रामदास आठवले ने कहा कि अगर भारतवंशी कमला हैरिस अमेरिका की उपराष्ट्रपति बन सकती हैं, तो इटली में जन्मीं सोनिया गांधी भी 17 साल पहले आम चुनावों में कांग्रेस की जीत के बाद वह भारत की प्रधानमंत्री बन सकती थीं।

केंद्रीय मंत्री ने यह बात ऐसे वक्त कही है, जब प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अमेरिका की यात्रा पर हैं और उन्होंने वहां हैरिस के साथ बैठक भी की है। आठवले ने कहा, ‘जब 2004 के चुनावों में यूपीए को बहुमत मिला था, तब मैंने प्रस्ताव रखा था कि सोनिया गांधी को भारत का प्रधानमंत्री बनना चाहिए। तब मेरा मत था कि उनके विदेशी मूल के मुद्दे का कोई अर्थ नहीं है।’

‘लोकसभा के लिए चुनी गईं सोनिया बन सकती थीं पीएम’
रामदास आठवले ने आगे कहा, ‘अगर कमला हैरिस अमेरिका की उपराष्ट्रपति बन सकती हैं, तो भारत की नागरिक, राजीव गांधी की पत्नी और लोकसभा के लिए चुनी गईं सोनिया गांधी इस देश की प्रधानमंत्री क्यों नहीं बन सकती थीं?’

‘सोनिया बनती पीएम’
केंद्रीय मंत्री ने कहा कि 2004 में गांधी को प्रधानमंत्री बनना चाहिए था और अगर उन्हें यह पद स्वीकार नहीं करना था, तो कांग्रेस को मजबूत करने के लिए पार्टी के तत्कालीन वरिष्ठ नेता शरद पवार को प्रधानमंत्री बनाया जाना चाहिए था।

‘अगर शरद पवार पीएम होते तो देश की दुर्गति न होती’
आठवले ने कहा, ‘पवार जन नेता होने के कारण प्रधानमंत्री पद के लायक थे और कांग्रेस को मनमोहन सिंह के स्थान पर उन्हें प्रधानमंत्री बनाना चाहिए था, लेकिन सोनिया गांधी ने ऐसा नहीं किया।’ उन्होंने यह भी कहा कि अगर पवार 2004 में देश के प्रधानमंत्री बनते, तो कांग्रेस की ऐसी कथित दुर्गति नहीं होती, जैसी आज हो रही है।

1999 में हुआ था एनसीपी का गठन
आपको बता दें कि शरद पवार फिलहाल राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (एनसीपी) के प्रमुख हैं। इटली में जन्मीं सोनिया गांधी के कांग्रेस का नेतृत्व करने के अधिकार पर शरद पवार ने विवाद खड़ा कर दिया था। इस कारण उन्हें कांग्रेस से निष्कासित कर दिया गया था। उसके बाद उन्होंने पीए संगमा और तारिक अनवर के साथ मिलकर NCP का गठन 25 मई, 1999 को किया था।

Lucknow: Republican Party of India (RPI) President Ramdas Athawale addresses a p...

रामदास आठवले

Source link