Raksha Bandhan 2022 Date Time Know Shubh Muhurt Significance For Rakhi And Bhadra Time

66

Raksha Bandhan 2022: रक्षाबंधन का त्योहार हर साल सावन महीने के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा को मनाया जाता है. इस बार रक्षा बंधन 11 अगस्त दिन गुरुवार को है. इस दिन बहनें अपने भाई की कलाई पर रक्षा सूत्र बांधती हैं. भाई से अपने जीवन की रक्षा का वचन लेती हैं. भाई भी रक्षाबंधन के दिन अपने बहनों को कुछ उपहार भेंट करते हैं. रक्षाबंधन भाई बहन के अटूट प्रेम का त्योहार कहा जाता है. पूरे भारतवर्ष में रक्षाबंधन का त्योहार बड़े उत्साह और धूमधाम से मनाया जाता है.

रक्षा बंधन की तिथि (Raksha Bandhan Date)

सावन महीने के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि 11 अगस्त दिन गुरुवार को सुबह 10:38 से प्रारंभ होगी. पूर्णिमा तिथि 12 अगस्त शुक्रवार 7:05 तक रहेगी. रक्षाबंधन का त्योहार 11 अगस्त को मनाया जाएगा.

रक्षा बंधन बांधने का शुभ मुहूर्त (Raksha Bandhan 2022 Shubh Muhurt)

  1. सावन महीने की पूर्णिमा तिथि को ही कुछ समय के लिए भद्रा भी लग रहा है भद्रा में राखी नहीं बांधी जाती है. भद्रा का समय सुबह 10:38 से रात 8:50 तक रहेगा.
  2. आयुष्मान योग प्रातः काल से दोपहर 3:32 तक है. इसमें भद्रा का प्रभाव कम रहता है. भद्रा पुंछ शुरू होने से पहले राखी बांधी जा सकती है.
  3. रक्षाबंधन का प्रदोष मुहूर्त रात में 8:51 से रात में 9:13 तक है.

रक्षाबंधन भद्रा काल (Raksha Bandhan 2022 Bhadra Kal)

  • रक्षाबंधन भद्रा अन्त समय: शाम को 08:51 बजे
  • रक्षाबंधन भद्रा पूँछ: शाम को 05:17 बजे से शाम 06:18 तक
  • रक्षाबंधन भद्रा मुख: शाम को 06:18 बजे से 08:00 बजे तक

भद्रा काल में करे शुभ कार्य(Raksha Bandhan 2022 Bhadra time)

भद्रा में कोई भी शुभ कार्य नहीं किया जाता है इसलिए भद्रा के समय रक्षाबंधन भी बांधना उचित नहीं होता है. हर्षोल्लास से मनाया जाने वाला रक्षाबंधन का त्योहार शुभ मुहूर्त में ही मनाया जाता है. इसलिए राखी बांधने का समय अवश्य ध्यान रखें.

Raksha Bandhan 2022 Date: रक्षाबंधन 2022 कब है? जानें टीका लगाने का शुभ महूर्त और महत्व

Raksha Bandhan 2022: इस दिन पड़ रहा है रक्षाबंधन, जानिए तिथि, शुभ मुहूर्त और महत्व

Disclaimer: यहां मुहैया सूचना सिर्फ मान्यताओं और जानकारियों पर आधारित है. यहां यह बताना जरूरी है कि ABPLive.com किसी भी तरह की मान्यता, जानकारी की पुष्टि नहीं करता है. किसी भी जानकारी या मान्यता को अमल में लाने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से सलाह लें.

Source link