Prayagraj, Shringverpur, Korena period, buried bodies, removal of chunri, caught tool, order of investigation, UP Corona News, Yogi Govt

98

प्रयागराज के श्रृंगवेरपुर में दफनाए गये शवों से चुनरी खींचने के मामले में प्रशासन ने जांच बैठाई.

प्रयागराज के श्रृंगवेरपुर घाट पर कोराना काल में दफनाए गए शवों की कब्रों से चुनरी, रामनामी दुपट्टे और लकड़ियों के हटाए जाने के मामले के तूल पकड़ने के बाद डीएम प्रयागराज ने दो सदस्यीय जांच बैठा दी है.

प्रयागराज. संगम नगरी प्रयाग के श्रृंगवेरपुर घाट पर कोराना काल में दफनाए गए शवों से चुनरी, रामनामी दुपट्टे और लकड़ियों के हटाए जाने के मामले के तूल पकड़ने के बाद डीएम प्रयागराज ने दो सदस्यीय जांच बैठा दी है. जिला प्रशासन ने मामले को गंभीर और संवेदनशील बताते हुए पूरे मामले में जांच के आदेश दिए हैं. डीएम भानुचंद्र गोस्वामी और एसएसपी सर्वश्रेष्ठ त्रिपाठी ने संयुक्त रूप से आदेश जारी कर एडीएम प्रशासन और एसपी गंगापार को मामले की जांच सौंपी है. जांच कमेटी ने बुधवार से अपना काम भी शुरू कर दिया है. डीएम और एसएसपी की ओर से सौंपी गई जांच में अधिकारी यह पता लगाएंगे किसने कब्रों से चुनरी और रामनामी दुपट्टे हटाते हुए वीडियो बनाकर वायरल किया है और वीडियो बनाने के पीछे असल मंशा क्या थी. दोनों जांच अधिकारी मौके पर जाकर विस्तृत जांच पड़ताल करेंगे. जांच रिपोर्ट आने के बाद दोषी पाए जाने वाले व्यक्ति के खिलाफ विधिक कार्रवाई के भी निर्देश दिए गए हैं. गौरतलब है कि श्रृंगवेरपुर घाट पर कोरोना काल में अप्रैल और मई माह में बड़ी संख्या में शव दफनाये गये थे. हालांकि अब यह तर्क दिया जा रहा है कि यहां पहले से ही शवों को दफनाने की परम्परा रही है, लेकिन कोरोना काल में बड़ी संख्या में शवों को दफनाने को लेकर विवादों में घिरे प्रशासन के इस जांच को लेकर भी कई गम्भीर सवाल खड़े हो रहे हैं. कब्रों से चुनरी और रामनामी दुपट्ट हटाए जाने का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुआ था. इस मामले को लेकर विपक्षी दलों ने भी शासन और प्रशासन पर निशाना साधा है. वहीं इस मामले में लोगों का कहना है कि यहां पर शवों को दफनाने की परम्परा जरुर रही है. लेकिन कोरोना काल में आर्थिक तंगी की वजह से ज्यादातर लोगों ने शवों को दफन किया है. इसके साथ ही लोग भी कब्रों से चुनरी या रामनामी दुपट्टे हटाने को भी गलत बता रहे हैं. वहीं इस पूरे मामले में बुधवार को प्रशासन की ओर से कोई अधिकारी श्रृंगवेरपुर नहीं पहुंचा. लेकिन मौके पर मौजूद हलका लेखपाल अनिल कुमार पटेल के मुताबिक श्रृंगवेरपुर में घाटों पर सफाई के लिए नगर पंचायत लालगोपाल गंज की टीमें लगायी गई हैं. लेकिन कब्रों पर से चुनरी या रामनामी दुपट्टे किसने हटाये इसकी उन्हें कोई जानकारी नहीं है.







Source link