pankaja munde devendra fadnavis: Maharashtra BJP news: BJP Leader Pankaja Munde did not join Devendra Fadnavis Marathwada visit: फडणवीस के मराठवाड़ा दौरे से पंकजा मुंडे ने बनाई दूरी, कहा- मेरी तबीयत ठीक नहीं

21

हाइलाइट्स

  • महाराष्ट्र के पूर्व सीएम और नेता विपक्ष देवेंद्र फडणवीस ने शनिवार को मराठवाड़ा दौरे की शुरुआत की
  • फडणवीस के दौरे से बीजेपी की नेता पंकजा मुंडे ने बनाई दूरी, तबीयत खराब होने का दिया हवाला
  • मुंडे के करीबी नेता का कहना है कि वह अपने और परिवार के प्रति बीजेपी के रवैये से बेहद नाराज हैं

मुंबई
महाराष्ट्र के पूर्व सीएम और नेता विपक्ष देवेंद्र फडणवीस ने शनिवार को मराठवाड़ा दौरे की शुरुआत की। इस दौरान वह बाढ़ प्रभावित किसानों से मुलाकात कर रहे हैं लेकिन इस दौरे में बीजेपी नेता पंकजा मुंडे की गैर मौजूदगी से सियासी गलियारों में चर्चा तेज है। पंकजा मुंडे ने स्वास्थ्य कारणों का हवाला देते हुए फडणवीस के इस कार्यक्रम से दूरी बनाई।

पंकजा मुंडे ने ट्वीट किया, ‘मेरी तबीयत ठीक नहीं है, गले में टॉन्सिल और खराश की समस्या है। डॉक्टर ने 2 से 4 दिन तक आराम करने की सलाह दी है। इसलिए मैं न किसी से मिल सकती हूं और न ही कॉल रिसीव कर सकती हूं।’

अपने और परिवार के साथ रवैये से नाराज पंकजा
हालांकि उनके एक करीबी नेता ने बताया कि पंकजा मुंडे ने कथित तौर पर पार्टी के वरिष्ठ नेताओं के साथ फडणवीस के दौरे में शामिल होने से दूरी बनाई ताकि वह पिछले कुछ समय से अपने और परिवार के साथ हो रहे व्यवहार से असंतोष जाहिर कर सके।

विदर्भ के वाशिम से यात्रा की शुरुआत कर फडणवीस हिंगोली और नांदेड़ इलाके में गए। रविवार को वह मध्य महाराष्ट्र का दौरा करेंगे। फडणवीस से जब पंकजा मुंडे को लेकर सवाल किया गया तो उन्होंने कहा कि इस मुद्दे पर राजनीति नहीं होनी चाहिए। उन्होंने कहा, ‘मैं उनसे बात करूंगा, उनकी तबीयत ठीक नहीं है और यह किसी के साथ भी हो सकता है। मुझे लगता है कि किसी को भी इसे राजनीतिक रंग नहीं देना चाहिए।’

बहन को मोदी कैबिनेट में जगह न मिलने पर नाराजगी
हाल ही में पंकजा मुंडे ने फडणवीस और महाराष्ट्र बीजेपी के अध्यक्ष चंद्रकांत पाटील से खुलकर नाराजगी जाहिर की थी। पकंजा अपनी बहन और बीड से सांसद प्रीतम को मोदी सरकार के कैबिनेट विस्तार में जगह न मिलने से खफा थीं।

मुंडे के करीबी नेता ने बताया, ‘उनका मानना है कि पार्टी नेता जैसे फडणवीस और पाटील ने जानबूझकर उनका नाम हटाया। उनकी यह धारणा भी है कि 2019 में हुए विधानसभा चुनाव मे उनकी हार पार्टी के अंदर विरोधियों की साजिश थी।’

Pankaja Munde

पंकजा मुंडे

Source link