narayan rane maharashtra tour: visiting smriti sthal is a game plan to defeat shivsena in bmc election: कई लोगों का कहना है कि यह शिवसेना को हराने की चाल है

26

हाइलाइट्स

  • बीजेपी नेता और केंद्रीय मंत्री नारायण राणे के बयान से गरमाई महाराष्ट्र की सियासत
  • राणे ने कहा है कि वे जन आशीर्वाद यात्रा के दौरान बालासाहेब के स्मृतिस्थल भी जाएंगे
  • राणे के इस ऐलान के कई मायने भी निकाले जा रहे हैं
  • कई लोगों का कहना है कि यह शिवसेना को हराने की चाल है

मुंबई
केंद्रीय उद्योग मंत्री नारायण राणे आगामी 19 अगस्त से जन आशीर्वाद यात्रा में शामिल होंगे। इस दौरान राणे शिवाजी पार्क स्थित शिवसेना प्रमुख बालासाहेब ठाकरे के स्मृति स्थल के भी दर्शन करेंगे। नारायण राणे पहली बार स्मृति स्थल पर जाने वाले हैं। इसलिए तमाम लोगों का ध्यान इस बात पर लगा हुआ है। लोगों का यह भी कहना है कि शिवसेना को हराने के लिए ही नारायण राणे ने यह खेल रचा है।

राणे का शक्ति प्रदर्शन
लघु, सूक्ष्म एवं मध्यम उद्योग विभाग के मंत्री पद संभालने के बाद नारायण राणे की जन आशीर्वाद यात्रा शुरू होने वाली है। 19 से 26 अगस्त तक राणे की यात्रा शुरू रहेगी। इस यात्रा के जरिये राणे अपना शक्ति प्रदर्शन भी करेंगे। 19 और 20 अगस्त को राणे मुंबई में जमकर शक्ति प्रदर्शन करेंगे।

21 तारीख को वसई-विरार और 23 से 26 अगस्त को कोंकण में जन आशीवार्द यात्रा होगी। जनता इस यात्रा को कैसा प्रतिसाद देती है। इसपर भी सबकी निगाहें टिकी हुई हैं।

मोदी का आदेश
बीजेपी केंद्रीय नेतृत्व की तरफ से नारायण राणे को बीएमसी चुनाव की जवाबदारी दी गई है। यह चुनाव मुंबई में अगले साल होने हैं। जिसके लिए मिशन 114 का नारा दिया गया है। राणे के सिर पर 114 या उससे भी ज्यादा लोगों को जीत दिलवाने की जिम्मेदारी दी गई है। किसी भी सूरत में मिशन को पूरा करने का आदेश दिया गया है।

शिवसेना को हराने की जिम्मेदारी राणे को दी गई है। सूत्रों के मुताबिक राणे की पूरी ताकत का इस्तेमाल बीएमसी चुनाव में केंद्रीय नेतृत्व चाहता है। राणे अपने मिशन में कितना कामयाब होंगे यह तो वक्त तय करेगा लेकिन इतना जरूर तय है कि यह चुनाव बेहद दिलचस्प होने वाला हैं

500 गाड़ियों का काफिला
नारायण राणे की जान आशीर्वाद यात्रा तकरीबन 7 दिनों की होगी। इस दौरान वह 170 से भी ज्यादा जगहों पर जाएंगे। मुंबई और कोंकण इलाके में उनकी जन आशीर्वाद यात्रा निकाली जाएगी। राणे की इस यात्रा की जिम्मेदारी दो नेता प्रमोद जठार और सुनील राणे देखेंगे।

इस यात्रा में स्वाभिमान संघटन के कार्यकर्ता भी शामिल होंगे। 19 तारीख से शुरू होने वाली इस यात्रा के लिए अब तक 500 गाड़ियों की लिस्ट तैयार की गई है। इसलिए इस दिन बड़े शक्ति प्रदर्शन की संभावना व्यक्त की जा रही है।

Source link