Mastermind nitin verma arrested in agra in 102 crore rupees gst case upns

70

आगरा. उत्तर प्रदेश में मुख्यमंत्री योगी की सरकार के मंत्रिमंडल विस्तार (Yogi Cabinet Expansion) में इस बार जिन नए चेहरों को मंत्री बनाया जा रहा हैं, उनमें धर्मवीर प्रजापति (Dharamveer Prajapati) का नाम भी शामिल बताया जा रहा है. आगरा (Agra) के एमएलसी धर्मवीर प्रजापति का सियासी सफर संघर्ष वाला है. खंदौली के हाजीपुर खेड़ा निवासी धर्मवीर प्रजापति मूलरूप से हाथरस जिले के बहरदोई के रहने वाले हैं. वह उत्तर प्रदेश विधान परिषद के सदस्य हैं.

वर्तमान में धर्मवीर प्रजापति यूपी माटी कला बोर्ड के अध्यक्ष हैं. धर्मवीर प्रजापति भाजपा के कई महत्वपूर्ण जिम्मेदारी निभा चुके हैं. धर्मवीर प्रजापति ने आरएसएएस  स्वयंसेवक के रूप में सेवा का कार्य शुरू किया था. इसके बाद उन्होंने भाजपा से अपने राजनीतिक सफर की शानदार शुरुआत की. वर्ष 2002 मे प्रजापति को प्रदेश संगठन में बड़ी जिम्मेदारी मिली. उस दौरान पिछड़ा वर्ग प्रकोष्ठ में धर्मवीर को प्रदेश का महामंत्री बनाया गया.

Cabinet Expansion: जानिए कौन हैं BJP MLA दिनेश खटिक? 2017 के चुनाव में दिखाया था दम

इसके बाद दो बार उन्हें प्रदेश संगठन में मंत्री की जिम्मेदारी मिली. जनवरी 2019 में उन्हें माटी कला बोर्ड का अध्यक्ष बनाया गया. अयोध्या में श्रीराम के दीपोत्सव कार्यक्रम के लिए प्रजापति ने ब्रज के आगरा, एटा, फिरोजाबाद सहित प्रदेश के अन्य ज़िलों से डिजाइनर दीप की व्यवस्था कराई थी. यूपी विधान परिषद के द्विवार्षिक चुनाव में धर्मवीर प्रजापति भाजपा से सदस्य निर्वाचित हुए. अब उन्हें मंत्री पद की अहम जिम्मेदारी मिल सकती है.

UP में आज होगा मंत्रिमंडल विस्तार, जितिन प्रसाद सहित ये नए चेहरे हो सकते हैं शामिल

बता दें आगरा से वर्तमान में तीन मंत्री हैं. आगरा जिले की सियासत में बीजेपी का पूरी तरह से दबदबा है. आगरा जिले में सभी 9 विधायक, 2 सांसद, मेयर, जिला पंचायत में अध्यक्ष भाजपा के हैं. आगरा के सांसद प्रोफेसर एसपी सिंह बघेल को अभी हाल ही में मोदी कैबिनेट में केंद्रीय कानून राज्य मंत्री बनाया गया था.

केंद्र की तर्ज पर होगा UP में योगी मंत्रिमंडल विस्तार, OBC और दलित पर फोकस

यूपी के योगी मंत्रिमंडल में आगरा कैंट सुरक्षित सीट से विधायक डॉ. जीएस धर्मेश, फतेहपुर सीकरी से विधायक चौधरी उदयभान सिंह को पहले ही मंत्री बनाया जा चुका है. अब बारी धर्मवीर प्रजापति की है.

Source link