Maharashtra Temple Protest: मंदिरों को खुलवाने के लिए प्रदर्शन…उद्धव ठाकरे बोले- ‘लोगों की जान खतरे में डाल रही बीजेपी’ – uddhav thackeray attacks bjp over temple protest

20

मुंबई
महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने बीजेपी की तरफ से मंदिरों को खोलने की मांग और इसके विरोध में प्रदर्शन की मंगलवार को कड़ी आलोचना की है। उन्होंने कहा कि कुछ लोग यात्रा निकालना चाहते हैं, यह दुर्भाग्यपूर्ण है। उन्होंने कहा कि लोग कार्यक्रम आयोजित कर आम लोगों की जिंदगी को खतरे में डालना चाहते हैं।

महाराष्ट्र सीएम ने आगे कहा कि केंद्र सरकार ने भी यह कहा है कि कोरोना की तीसरी लहर आने की आशंका है। इसके साथ ही राज्यों से पत्रों के जरिए कहा गया है कि दही हांडी और गणेशोत्सव के दौरान लोग सार्वजनिक कार्यक्रमों से परहेज करें। उद्धव ने कहा कि हमें यह पत्र उन लोगों को दिखाना चाहिए, जो प्रदर्शन कर रहे हैं। बता दें कि महाराष्ट्र सरकार के मंदिरों को खोलने की अनुमति नहीं देने के विरोध में विपक्षी दल बीजेपी के कार्यकर्ताओं ने सोमवार को राज्य के कई शहरों में प्रदर्शन किया।

कोविड-19 प्रतिबंध के कारण मंदिर बंद हैं। वहीं सीएम उद्धव ठाकरे ने कहा कि महामारी की तीसरी लहर के खतरे के बावजूद आयोजित की जा रहीं ‘आशीर्वाद’ रैलियां लोगों की जान को खतरे में डाल रही हैं। सीएम ठाकरे ने कहा कि इन लोगों को इस बात की परवाह नहीं है कि ऐसी रैलियों के कारण कुछ लोग मर जाते हैं।

दही हांडी पर रोक से भड़की बीजेपी
महाराष्ट्र में उद्धव सरकार ने जन्माष्टमी और दही हांडी समारोह पर प्रतिबंध लगाया है। इस प्रतिबंध पर बीजेपी विधायक राम कदम भड़क गए। उन्होंने कहा, ‘हम मांग करते हैं कि सरकार को दही हांडी समारोह की अनुमति देनी चाहिए। हम कोरोना प्रोटोकॉल का पालन करेंगे। यह एक हिंदू त्योहार है और हम दही हांडी मनाएंगे भले ही (उद्धव) ठाकरे सरकार पुलिस बल का दुरुपयोग करे।’

फायदे के लिए कोरोना का ‘उपयोग: राज ठाकरे
लोगों को दही हांडी और अन्य आगामी त्योहारों को मनाने के लिए प्रतिबंधों में ढील नहीं देने पर एमएनएस प्रमुख राज ठाकरे ने महाराष्ट्र सरकार पर हमला बोला है। उन्होंने मंगलवार को आरोप लगाया कि सत्तारूढ़ तीनों दल अपने फायदे के लिए कोविड-19 स्थिति का उपयोग कर रहे हैं। राज ठाकरे ने कहा कि राज्य सरकार यह दिखाने का प्रयास कर रही है कि हर किसी को अच्छा लॉकडाउन पसंद है। सरकार पर कुछ लोगों के लिए कोविड-19 नियमों में चुनिंदा तरीके से ढील देने का आरोप लगाया।

Source link