International Yoga Day 2021 3 yogasanas to remove tension of work from home pur– News18 Hindi

53
International Yoga Day 2021: कोरोना वायरस (Coronavirus) संक्रमण की दूसरी लहर ने लोगों को परेशान कर दिया था. हालांकि अब कोरोना केसेस में कुछ कमी नजर आ रही है लेकिन उसके बाद भी हर जगह टेंशन का माहौल बना हुआ है. संक्रमण का फैलाव न हो इसके लिए डॉक्टर्स लोगों से वैक्सीन लगवाने, ट्रिपल लेयर का मास्क पहनने, हाथों को अच्छी तरह से सैनिटाइज करने और सोशल डिस्टेंसिंग को अपनाने के लिए कह रहे हैं. वहीं इस दौर में लोगों में तनाव (Stress) का स्तर काफी बढ़ रहा है. कोरोना को लेकर लोगों की चिंता में इजाफा हो रहा है. ऐसे भय वाले माहौल में सबसे ज्यादा जरूरी है स्ट्रेस लेवल को कम किया जाए. घर की चार दीवारों में तनाव को कम करने का सबसे बेस्ट तरीका है योग (Yoga). योग के कुछ आसन ऐसे हैं जिनका अभ्यास करने से तनाव के स्तर को कम किया जा सकता है. आइए जानते हैं कौन से हैं वो योग के आसन.

गरुड़ासन

दिमाग को एक जगह क्रेंदित करने और तनाव को कम करने का सबसे आसान तरीका है गरुड़ासन का अभ्यास करना. अन्य शब्दों में गरुड़ासन को ईगल पोज (Eagle pose) कहा जाता है. जो लोग वर्क फ्रॉम होम कर रहे हैं उन लोगों के लिए यह योग आसन बेहद फायदेमंद साबित हो सकता है. इसका अभ्यास करने से कूल्हों और कंधों में जकड़न खत्म हो सकती है. नियमित तौर पर इसका अभ्यास करने से दिमाग को शांति मिलती है.

इसे भी पढ़ेंः International Yoga Day 2021: जानें योग करने से पहले और बाद में क्या खाना चाहिए और क्या नहीं, डाइट का रखें ध्यान

बद्ध कोणासन

जब किसी इंसान को बहुत ज्यादा परेशानियों का सामना करना पड़ रहा हो और सामने कोई विकल्प नजर न आए. इस स्थिति में बद्ध कोणासन का अभ्यास करने की सलाह दी जाती है. बद्ध कोणासन को बजटफ्लाई पोज या कोब्लर पोज भी कहा जाता है. इस आसन को करने से कमर, घुटनों की नसें खुलती हैं और मस्तिष्क को ध्यान केंद्रित करने की ऊर्जा प्राप्त होती है. योग के इस आसन में आप धीरे-धीरे सांस को अंदर लेते रहें और छोड़ते रहने से मन शांत होता है.

इसे भी पढ़ेंः International Yoga Day 2021: महिलाओं के लिए बेहद ख़ास हैं ये योगासन, पीरियड्स के दर्द से दिलाएंगे निज़ात

सुप्त कोनासन

वर्क फ्रॉम करने के कारण ज्यादातर लोग एक ही जगह पर घंटों बैठे रह रहे हैं. लगातार एक ही जगह पर बैठने से शारीरिक और मानसिक तनाव हो जाता है. ऐसे में सुप्त कोनासन आपकी काफी मदद करेगा. सुप्त कोनसाना का अभ्यास करने से पैर का दर्द और जांघो को आराम मिलता है. साथ ही यह थकान को दूर करने में भी सहायक माना जाता है.(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य जानकारी पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)

Source link