उद्योगों व एमएसएमई इकाईयां अधिक से अधिक युवाओं को करायें अप्रेन्टिस करायें: आलोक कुमार

29

4 अक्टूबर को से प्रदेश के समस्त जिलों के नोडल राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानों में आयोजित होगा‘‘अप्रेन्टिस्शिप मेला‘‘

भास्कर न्यूज़
लखनऊ।प्रदेश सरकार द्वारा 4 अक्टूबर को प्रदेश के समस्त जिलों के नोडल राजकीय औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थानों में एमएसएमई व निर्यात प्रोत्साहन विभाग तथा व्यावसायिक शिक्षा एवं कौशल विकास विभाग द्वारा संयुक्त रुप से ‘‘अप्रेन्टिस्शिप मेला‘‘ आयोजित किया जा रहा है।
प्रदेश में ‘‘अप्रेन्टिस्शिप मेला‘‘ के सफल आयोजन के लिए नवनीत सहगल अपर मुख्य सचिव एमएसएमई व निर्यात प्रोत्साहन विभाग तथा आलोक कुमार सचिव व्यावसायिक शिक्षा एवं कौशल विकास विभाग उ0प्र0 शासन द्वारा विभिन्न दिशा-निर्देश निर्गत किये गये हैं। ‘‘अप्रेन्टिस्शिप मेला‘‘ का मुख्य उद्देश्य उद्योगों व एमएसएमई के माध्यम से प्रदेश के युवाओं को प्रैक्टिकल ट्रेनिंग प्रदान किया जाना है।
प्रदेश में लगभग दो लाख उद्योग व एमएसएमई इकाइयां संचालित हो रही हैं, तथा उनमें से लगभग ढेड़ लाख अप्रेन्टिस एक्ट 1961 से आच्छादित हैं। प्रत्येक इकाई एक युवा को अप्रेन्टिस के रुप में प्रशिक्षण के लिए योजित करे, तो प्रति वर्ष प्रदेश के ढेड़ लाख युवा उद्योगों में कार्य करने के लिये दक्ष हो जायेंगे।
उद्योग व एमएसएमई द्वारा युवाओं को अप्रेन्टिस के रुप में रखे जाने पर प्रदेश सरकार द्वारा 2500 रुपये प्रतिमाह की प्रोत्साहन धनराशि प्रदान की जा रही है। इसके साथ-साथ युवाओं के अप्रेन्टिस करने का लाभ उद्योग व एमएसएमई को इस प्रकार से मिलेगा, कि उन्हे अपने लिये अधिक से अधिक संख्या में दक्ष व कुशल कारागर सुगमतता से मिलेंगे।
‘‘अप्रेन्टिस्शिप मेला‘‘ के सफल आयोजन के लिए दोनों ही विभागों द्वारा उद्योग व एमएसएमई के साथ समन्वय स्थापित किया गया है।जिसके परिणामस्वरुप अप्रेन्टिस के पोर्टल पर माह सितम्बर, 2021 के अंत तक लगभग 18 हजार रिक्तियां उद्योग व एमएसएमई द्वारा युवाओं के लिए उपलब्ध कराई गयी हैं।
कुणाल सिल्कू निदेशक, प्रशिक्षण एवं सेवायोजन उ0प्र0 ने बताया कि ‘‘अप्रेन्टिस्शिप मेला‘‘ के सफल आयोजन के लिए व्यावसायिक शिक्षा एवं कौशल विकास विभाग द्वारा वृहद् प्रचार-प्रसार कराया जा रहा है।उन्होंने युवाओं से आवाह्न किया कि वे 04 अक्टूबर के ‘‘अप्रेन्टिस्शिप मेला‘‘ में बढ़-चढ़ कर प्रतिभाग करें। श्री सिल्कू ने यह भी बताया कि ‘‘अप्रेन्टिस्शिप मेला‘‘ के सफल आयोजन के लिए उ0प्र0 कौशल विकास मिशन द्वारा एक लाख रुपये की धनराशि प्रत्येक जिले को प्रदान की गई है।
सचिव आलोक कुमार ने बताया कि ‘‘अप्रेन्टिस्शिप मेला‘‘ के सफल आयोजन के लिए प्रत्येक जिले के जिलाधिकारी को निर्देश दिये गये हैं।श्री कुमार ने यह भी बताया कि विभाग द्वारा युवाओं को अप्रेन्टिस्शिप से जोड़ने का निरन्तर रुप से प्रयास किया जायेगा तथा उन्होंने उद्योगों व एमएसएमई से अपील की है, कि वे अपने उद्योगों/इकाईयों में अधिक से अधिक युवाओं को अप्रेन्टिस करायें।