Health news side effects of nail polish for kids health mt

17

Side Effects of Nail Polish: कई बार आपने बच्चों को अपने हाथ-पैरों में नेल पॉलिश (Nail polish) लगाते देखा होगा. तो कभी-कभी उनकी ज़िद की वजह से आपने खुद उनके नाखूनों (Nails) पर नेल पॉलिश लगाई होगी. ये बच्चों और आपके लिए भले ही मजाक का विषय रहा हो, लेकिन क्या आप जानते हैं कि ये मजाक बच्चों की सेहत पर भारी पड़ सकता है? अगर आपको जानकारी नहीं है, तो हम बता देते हैं कि बच्चों के नाखूनों पर नेल पॉलिश लगाना सुरक्षित (Safe) है या नहीं.

ये भी पढ़ें: नाखूनों पर ज्यादा देर तक नहीं टिकती नेल पॉलिश तो अपनाएं ये 5 टिप्‍स

दरअसल नेल पॉलिश बनाते समय ज्यादातर में हानिकारक कैमिकल्स का इस्तेमाल किया जाता है. जब ये बच्चे मुंह में हाथ डालते हैं या नाखून चबाते हैं तो नेल पॉलिश में मौजूद कैमिकल बच्चों के मुंह के जरिए पेट तक पहुंचने का खतरा बना रहता है. जिसकी वजह से उनको कई तरह की स्वास्थ सम्बन्धी दिक्कतों का सामना करना पड़ सकता है. नेल पॉलिश में किन कैमिकल का इस्तेमाल होता है और इनसे क्या दिक्कतें हो सकती हैं आइये जानते हैं.

हाइड्रोक्विनोन

हाइड्रोक्विनोन नाम का ये कैमिकल आंख के संपर्क में आने से कॉर्निया डैमेज कर सकता है. इतना ही नहीं इसको सूंघने से नाक, गले और ऊपरी श्वसन पथ में जलन की शिकायत भी हो सकती है.

फॉर्मलडिहाइड

नेल पॉलिश में इस्तेमाल होने वाले फॉर्मलडिहाइड कैमिकल की वजह से मायलोइड ल्यूकेमिया यानी बोन मैरो, रेड ब्लड सेल्स, व्हाइट ब्लड सेल्स और प्लेटलेट्स का असामान्य विकास करने वाला कैंसर होने का खतरा बना रहता है.

एक्रेलेट्स 

नेल पॉलिश बनाने में एक्रेलेट्स नाम के कैमिकल का इस्तेमाल भी किया जाता है. ये कैमिकल सांस के जरिए और स्किन के संपर्क में आने से कई तरह की दिक्कतों की वजह बन सकता है. वहीं मिथाइल मेथाक्रिलेट के संपर्क में रहने वालों को आंतों, पेट या मलाशय में होने वाला कोलोरेक्टल कैंसर होने का खतरा बना रहता है.

कार्बन ब्लैक 

कार्बन ब्लैक नाम के इस काले पाउडर का इस्तेमाल भी नेल पॉलिश बनाने में किया जाता है. इसके संपर्क में आने से फेफड़ों से जुड़ी दिक्कतें होने का खतरा रहता है.

ये भी पढ़ें: सूखी और पुरानी नेल पॉलिश को फेकें नहीं, ऐसे करें ठीक

टॉल्यूइन

नेल पॉलिश लगाने के बाद जल्दी सूख सके इसके लिए इसमें टॉल्यूइन नाम के कैमिकल का इस्तेमाल किया जाता है. एनसीबीआई पर उपलब्ध एक शोध के अनुसार, यह न्यूरोलॉजिकल यानी दिमाग सम्बन्धी दिक्कतों की वजह बन सकता है.(Disclaimer: इस लेख में दी गई जानकारियां और सूचनाएं सामान्य मान्यताओं पर आधारित हैं. Hindi news18 इनकी पुष्टि नहीं करता है. इन पर अमल करने से पहले संबंधित विशेषज्ञ से संपर्क करें.)

पढ़ें Hindi News ऑनलाइन और देखें Live TV News18 हिंदी की वेबसाइट पर. जानिए देश-विदेश और अपने प्रदेश, बॉलीवुड, खेल जगत, बिज़नेस से जुड़ी News in Hindi.

Source link