केजीएमयू में संस्थाओं,रक्तदाताओं व रक्तदान उत्प्रेरकों को राज्यपाल ने किया सम्मानित

33

राज्यपाल ने अधिक से अधिक रक्तदान करने की अपील

रक्तदान करने से हृदय रोग में 5 प्रतिशत हो जाती है कमी -डा. पुरी
भास्कर न्यूज
लखनऊ।केजीएमयू में “राष्ट्रीय स्वैच्छिक रक्तदान दिवस के अवसर पर शुक्रवार को ट्रान्सफ्यूजन मेडिसिन विभाग द्वारा रक्तदान के क्षेत्र में कार्य करने वालो के लिए सम्मान समारोह कार्यक्रम का आयोजन किया गया।कार्यक्रम में शामिल गणमान्य व्यक्तियों ने संस्थाओं,रक्तदाताओं,रक्तदान उत्प्रेरको का आभार व्यक्त किया ।
कार्यक्रम में मुख्य अतिथि आनंदीबेन पटेल राज्यपाल उप्र एवं विशिष्ट अतिथि सुरेश खन्ना मंत्री वित्त संसदीय कार्य एवं चिकित्सा शिक्षा उप्र सरकार विशेष आमंत्रित अतिथि बृजेश पाठक मंत्री, विधायी न्याय एवं अभियंत्रण सेवा सरकार विशेष आमंत्रित अतिथि संदीप सिंह राज्यमंत्री वित्त चिकित्सा एवं प्राविधिक शिक्षा उप्र विशेष अतिथि आलोक कुमार प्रमुख सचिव चिकित्सा शिक्षा उप्र शासन थे। कार्यक्रम में स्वैच्छिक रक्तदान के क्षेत्र में प्रशंसीय कार्य करने वाली संस्थाओं रक्तदाताओं रक्तदान उत्प्रेरकों को राज्यपाल द्वारा सम्मानित किया गया।मुख्य अतिथि राज्यपाल द्वारा डॉ.संघमित्रा मौर्या की अध्यक्षा अर्चना तिवारी , जिलाधिकारी अभिषेक प्रकाश,पुलिस कमिश्नर, डीके ठाकुर,सशस्त्र सीमा बल सीमात रत्न संजय, किशोर कुमार पन्त, मानुषी ठाकुर समेत लगभग 43 संस्थाओं के रक्तदाताओं,रक्तदान उत्प्रेरकों को सम्मानित किया गया।
कार्यक्रम का सम्बोधित करते हुए राज्यपाल ने जनमानस से अधिक से अधिक स्वैच्छिक रक्तदान करने को कहा ।कार्यक्रम के आयोजन के लिए केजीएमयू को बधाई देते हुए कहा कि ऐसे कार्यक्रमों से स्वैच्छिक रक्तदान को बढ़ावा मिलता है।
विशिष्ट अतिथि सुरेश खन्ना मंत्री ने संस्थान की कोरोना काल में किये गये कार्य की प्रशंसा की एवं सम्मानित की जाने वाली संस्थाओं ,रक्तदाताओं , रक्तदान उत्प्रेरकों को बधाई दी।विशेष आमंत्रित अतिथि बृजेश पाठक मंत्री तथा संदीप सिंह, ने स्वैच्छिक रक्तदान के क्षेत्र में प्रशंसनीय कार्य के लिए कार्यक्रम आयोजकों एवं संस्थाओं रक्तदाताओं रक्तदान उत्प्रेरकों की प्रशंसा की एवं स्वैच्छिक रक्तदान के क्षेत्र में कार्य के लिए प्रोत्साहित किया।
कार्यक्रम अध्यक्ष ले. ज.डॉ. विपिन पुरी ने राज्यपाल को कार्यक्रम में मुख्य आतिथ स्वीकार करने के लिए केजीएमयू की तरफ से आभार व्यक्त किया ले. ज. डॉ. पुरी ने लोगों को स्वैच्छिक रक्तदान के लाभ बताते हुए कहा कि रक्तदान के तुरंत बाद ही नयी लाल कोशिका में बनने से स्फूर्ति पैदा हो जाती है।
रक्तदान करते रहने से हृदय रोग में 5 प्रतिशत की कमी हो जाती है तथा अस्थिमज्जा लगातार क्रियाशील रहती है। रक्त द्वारा संक्रमित होने वाली बीमारियों की एनएटी विधि द्वारा स्वतःजाँच हो जाती है। एक यूनिट रक्तदान करने से कई प्रकार के ब्लड कम्पानेन्ट बनाकर कई मरीजों को जीवनदान दिया जा सकता है।
कार्यक्रम की संयोजक डॉ. तुलिका चन्द्रा, प्रो.एवं विभागाध्यक्ष ट्रान्सफ्यूजन मेडिसिन विभाग, केजीएमयू ने विभाग की उपलब्धियों बतायी तथा संस्थाओं , रक्तदाताओं , रक्तदान उत्प्रेरकों को ट्रान्सफ्यूजन मेडिसिन विभाग को सहयोग देने के लिए उनका आभार व्यक्त किया।