Golden Opportunity To Earn Bumper Return, New Rules Of SEBI Will Bring Flood Of IPOs | आने वाला है बंपर कमाई का मौका, SEBI के नए नियमों में आएगी IPO की बाढ़

23

मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक SEBI ने IPO के बाद न्यूनतम लॉक इन पीरियड को कुछ शर्तों के साथ 3 साल से घटाकर 18 महीने कर दिया है.

News Nation Bureau | Edited By : Dhirendra Kumar | Updated on: 18 Aug 2021, 12:34:48 PM

IPO (Photo Credit: IANS)

highlights

  • प्रमोटर्स की न्यूनतम 20 फीसदी से ज्यादा हिस्सेदारी के लिए लॉक इन पीरियड को घटाकर 6 महीने किया
  • प्रमोटर्स के अतिरिक्त अन्य व्यक्तियों द्वारा IPO से पूर्व प्राप्त Securities के लिए लॉक इन अवधि घटाया

नई दिल्ली :

शेयर बाजार रेग्युलेटर भारतीय प्रतिभूति और विनिमय बोर्ड (सेबी-SEBI) ने प्रमोटर्स के निवेश के लिए प्रारंभिक सार्वजनिक ऑफर (IPO) के नियमों में कुछ अहम बदलाव कर दिए हैं. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक SEBI ने IPO के बाद न्यूनतम लॉक इन पीरियड को कुछ शर्तों के साथ 3 साल से घटाकर 18 महीने कर दिया है. बता दें कि SEBI का नया फैसला ऐसे समय में आया है जब कई कंपनियां शेयर बाजार में सूचीबद्ध होने के लिए प्रयासरत हैं. मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक सेबी ने ग्रुप कंपनियों के लिए डिस्कोलजर (Disclosure) संबंधी जरूरतों को भी सुव्यवस्थित किया है.

यह भी पढ़ें: पेट्रोल उपभोक्ताओं को राहत नहीं, लेकिन डीजल के दामों में आखिरकार हुई कटौती

सेबी के द्वारा जारी की गई अधिसूचना के मुताबिक किसी भी परियोजना के लिए पूंजीगत व्यय का वित्त पोषण को छोड़कर आईपीओ का उद्देश्य कुछ और है या फिर बिक्री की पेशकश है. तो ऐसे में प्रमोटर्स की कम से कम 20 फीसदी हिस्सेदारी अब 18 महीने के लिए लॉक इन रहेगी. बता दें कि मौजूदा समय में यह लॉक-इन पीरियड तीन साल है. गौरतलब है कि पूंजीगत व्यय में अन्य कार्यों के साथ सिविल कार्य, भवन, संयंत्र, मशीनरी और विविध अचल संपत्तियां, भूमि की खरीद आदि शामिल हैं.

यह भी पढ़ें: HDFC Bank को बड़ी राहत, क्रेडिट कार्ड जारी करने पर लगा रोक हटी

न्यूनतम 20 फीसदी से ज्यादा हिस्सेदारी के लिए लॉक इन पीरियड घटाया
मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक SEBI ने प्रमोटर्स की न्यूनतम 20 फीसदी से ज्यादा हिस्सेदारी के लिए लॉक इन पीरियड को मौजूदा 1 साल से घटाकर 6 महीने कर दिया है. इसके साथ ही प्रमोटर्स के अतिरिक्त अन्य व्यक्तियों द्वारा IPO (आईपीओ) से पूर्व प्राप्त Securities के लिए भी लॉक इन अवधि को आवंटन की तारीख से 6 महीने कर दिया है. बता दें कि मौजूदा समय में इसकी अवधि 1 साल है.

यह भी पढ़ें: Sensex Open Today 18 Aug 2021: सेंसेक्स पहली बार 56,000 के पार पहुंचा, रिकॉर्ड ऊंचाई पर शेयर बाजार



संबंधित लेख

First Published : 18 Aug 2021, 12:34:48 PM

For all the Latest Business News, Markets News, Download News Nation Android and iOS Mobile Apps.



Source link