Delhi accounted for highest number of crimes against foreigners in India last year: NCRB data

37

विदेशियों के खिलाफ अपराध के मामलों में देश की राजधानी दिल्ली पिछले साल टॉप पर रही थी। एनसीआरबी की ओर से जारी किए गए 2019 के आंकड़ों को देखें तो बीते साल दिल्ली में विदेशियों के खिलाफ सर्वाधिक संख्या में 30.1 फीसदी अपराध दर्ज किए गए। इसके बाद महाराष्ट्र में 11.7 फीसदी और कर्नाटक में 11.2 फीसदी मामले सामने आए।  

नेशल क्राइम रिकॉर्ड ब्यूरो (NCRB) के आंकड़ों के मुताबिक 2019 में बलात्कार, हत्या और चोरी समेत कुल 409 अपराध विदेशियों के खिलाफ अंजाम दिए गए, जबकि 2018 में 517 और 2017 में 492 मामले दर्ज हुए थे।

आंकड़ों के मुताबिक, वर्ष के दौरान दिल्ली में 123, महाराष्ट्र में 48 और कर्नाटक में 46 केसों के साथ कुल मामलों के 53 फीसदी मामले दर्ज किए गए।

आंकड़ों में दर्शाया गया है कि 2019 में दर्ज 409 मामलों में से सबसे अधिक 142 मामले चोरी के, 54 आईपीसी के तहत अन्य अपराध, 41 ठगी, 26 मामले शीलभंग करने के उद्देश्य से महिलाओं पर हमले, 14 चोट पहुंचाने के मामले दर्ज किए गए।

एनसीआरबी ने बताया कि 2019 में हत्या के 13 मामले, बलात्कार के 12 और अपहरण के पांच मामले दर्ज किए गए थे। एनसीआरबी गृह मंत्रालय के तहत कार्य करता है।

2019 में महिलाओं के खिलाफ अपराध के मामले 7 प्रतिशत बढ़े

नई दिल्ली। भारत में 2019 में प्रतिदिन बलात्कार के औसतन 87 मामले दर्ज हुए और साल भर के दौरान महिलाओं के खिलाफ अपराध के कुल 4,05,861 मामले दर्ज हुए जो 2018 की तुलना में सात प्रतिशत अधिक हैं। सरकार की ओर से जारी ताजा आंकड़ों में यह जानकारी सामने आई है।

NCRB के आंकड़ों के अनुसार देश में 2018 में महिलाओं के खिलाफ अपराध के 3,78,236 मामले दर्ज हुए। आंकड़ों के अनुसार, 2019 में बलात्कार के कुल 32,033 मामले दर्ज हुए जो साल भर के दौरान महिलाओं के विरुद्ध अपराध के कुल मामलों का 7.3 प्रतिशत था।

नवीनतम सरकारी आंकड़ों के अनुसार, 2019 में भारत में प्रतिदिन हत्या के औसतन 79 मामले दर्ज किए गए। 2019 में हत्या के कुल 28,918 मामले दर्ज किए गए जो 2018 (29,017 मामलों) की अपेक्षा 0.3 प्रतिशत कम है। 

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here