Craze of flavoured condoms increased in Indians before use know this thing pur

27
Craze For Flavoured Condoms: सेक्स लाइफ (Sex Life) में कुछ नया करने के लिहाज से कंडोम निर्माताओं ने फ्लेवर्ड कंडोम को बाजार में उतारा और चौंकाने वाली बात यह रही कि युवाओं में इसका क्रेज बढ़ता ही चला गया. भारतीय (Indian) लोगों में इसकी क्रेज सबसे ज्यादा है. कंपनी द्वारा दावा किया जाता है कि ये कंडोम यौन जिंदगी को दिलचस्प और सुरक्षित बनाने में कारगर हैं. एक लव मेकिंग सेशन से पहले सही कंडोम चुनना बहुत जरूरी और मजेदार होता है. आजकल कंडोम्स की ढेर सारी वेरायटीज मार्केट में उपलब्ध हैं. Vice.com की खबर के अनुसार फ्लेवर्ड से लेकर डॉटेड तक, आपके मिजाज को सूट करने वाले तरह-तरह के कंडोम्स दुकानों पर मिल जाते हैं. वहीं सेक्स का मजा लेते वक्त कॉन्डम इस्तेमाल करना सेफ होता है. अगर आप अनचाही प्रेग्नेंसी से बचना चाहते हैं और अपने पार्टनर को प्लेजर देना चाहते हैं तो फ्लेवर्ड कंडोम की मदद ले सकते हैं. आज के समय में कई अलग-अलग फ्लेवर में कंडोम उपलब्ध हैं लेकिन इनका इस्तेमाल करने से पहले आपको इन कंडोम्स के बारे में कुछ जरूरी बातें जान लेनी चाहिए.

क्यों बढ़ा फ्लेवर्ड कंडों का क्रेज
फ्लेवर्ड कंडोम का इस्तेमाल ओरल सेक्स (Oral Sex) के चलते बहुत अधिक बढ़ा है. इस दौरान प्लेन कंडोम की गंध को दूर करने के लिए फ्लेवर्ड कंडोम को बाजार में उतारा गया है. फ्लेवर और कंडोम कलर को मैच कराने के लिए ज्यादातर निर्माता कंपनी बहुत अधिक सिंथेटिक कलर्स का इस्तेमाल करते हैं.

इसे भी पढ़ेंः डाइट और एक्सरसाइज के अलावा घर के इन कामों से कम करें मोटापा, स्त्री-पुरुष दोनों के लिए फायदेमंदसेफ है ओरल सेक्स

ओरल सेक्स में फ्लेवर्ड और कलर्ड कंडोम का काफी इस्तेमाल किया जाता है. कंडोम के निर्माता कंपनी अपनी क्षमता के अनुसार पर्याप्त एहतियात बरतने का दावा करते हैं ताकि यह सुनिश्चित किया जा सके कि उनके उत्पाद ओरल सेक्स में भी इस्तेमाल के लिए सुरक्षित हों. इसलिए फ्लेवर्ड कंडोम का उचित और संयमित तरीके से किया गया इस्तेमाल हानि नहीं पहुंचाता. हालांकि, कुछ बेहद सेंसेटिव लोगों को इनसे दिक्कत हो सकती है, जो कुछ सावधानी के साथ दूर की जा सकती है.

केमिकल्स का इस्तेमाल होता है
ज्यादातर कंडोम फूड एंड ड्रग एडमिनिस्ट्रेशन से स्वीकृत होते हैं और इनके साथ सेहत की सुरक्षा को सुनिश्चित किया जाता है. लेकिन बनाना (Banana) फ्लेवर के कंडोम को वैसा ही पीला रंग देने और स्ट्रॉबेरी फ्लेवर के कंडोम को मैचिंग का लाल रंग देने के लिए केमिकल्स का इस्तेमाल होता ही है. फ्लेवर्ड कंडोम इस्तेमाल करने पर आमतौर पर पुरुषों को किसी तरह की दिक्कत नहीं होती है लेकिन ओरल या इंटरकोर्स की वजह से महिलाओं को वजाइना में खुजली, जलन, सूजन या फिर गले में खराश की समस्या हो सकती है. ऐसे में डॉक्टर का परार्मश जरूर लें.

फ्लेवर की वेरायटी

आपको बता दें कि इस समय बाजार में फ्लेवर्ड कंडोम के स्ट्रॉबेरी, ऑरेंज, मिंट, ग्रेप, बनाना, बबलगम, चॉकलेट, वनीला, बैकन, अचारी और कोला फ्लेवर सबसे अधिक पसंद किए जाते हैं. युवा वर्ग इन्हीं फ्लेवर से अपनी सेक्स लाइफ को आनंदित बना रहे हैं.

प्लेजर और सेक्स के लिए इन कंडोम्स का करें इस्तेमाल

फ्लेवर्ड कंडोम्स
इस तरह के कंडोम्स ओरल सेक्स के लिए बेस्ट रहते हैं. इनमें काफी सारे फ्लेवर्स बाजार में मिलते हैं जैसे कि चॉकलेट, कॉफी, स्ट्रॉबेरी, मिन्ट, वनीला. अगर आप इनका इस्तेमाल वजाइनल या एनल सेक्स के लिए करने जा रहे हैं, तो सुनिश्चित कर लें कि यह शुगर फ्री हैं या नहीं ताकि आपको या आपके साथी को यीस्ट इन्फेक्शन न हो.

डॉटेड कंडोम्स
अगर आप थोड़ा ज्यादा मजा चाहते हैं तो यह आपके लिए बिल्कुल सही कंडोम है. टेक्सचर्ड या स्टडेड कंडोम्स न सिर्फ आपको बल्कि आपके पार्टनर को भी सुखद एहसास देते हैं. इन कंडोम्स पर थोड़े उठे हुए दाने होते हैं जो पूरे कंडोम पर मौजूद रहते हैं और सेक्स के दौरान आपके पार्टनर को एक्साइटेड करते हैं.

सुपर थिन कंडोम्स
अगर आप कंडोम इस्तेमाल करने के बावजूद कंडोम फ्री सेक्स का आनंद उठाना चाहते हैं तो सुपर थिन कंडोम आपको सबसे ज्यादा पसंद आएगा. यह एक ट्रांसपैरंट कंडोम होता है जो शीरलोन मैटिरियल से बना होता है जो छूने पर बिल्कुल स्किन जैसा लगता है. यह अनचाही प्रेग्नेंसी और यौन बीमारियों से बचाने में काफी अफेक्टिव होता है.

प्लेजर-शेप्ड कंडोम्स
यह कंडोम दोनों ही पार्टनर्स की सेन्सिटिविटी को चरम पर पहुंचा देता है. इसका टिप लूज व काफी बढ़ा हुआ होता है.

इसे भी पढ़ेंः गर्मियों में भिंडी का जरूर करें सेवन, इम्यूनिटी मजबूत करने से लेकर पेट को रखता है दुरुस्त

ग्लो इन द डार्क कंडोम्स
अगर आप किंकी सेक्स के शौकीन हैं, तो यही आपके लिए राइट चॉइस है. 30 सेकंड रोशनी में रहने के बाद यह कंडोम अंधेरे में चमकने लगते हैं. यह बिल्कुल नॉन-टॉक्सिक है और इसकी तीन परतें होती हैं. अंदरूनी और बाहरी परतें लैटेक्स की बनी होती हैं, जबकि बीच की परत एक सेफ पिगमेंट की बनी होती हैं जिनके कारण वह चमकती है.

हालांकि कंडोम खरीदते वक्त भी आपको सावधानी बरतने की जरूरत होती है. अगली बार, जब भी आप कंडोम खरीदने जाएं तो उस पर लगा लेबल जरूर चेक करें और देखें कि उसे प्रेग्नेंसी और एसटीडी से बचाव के लिए एफडीए ने अप्रूव्ड किया है या नहीं. अगर वह अप्रूव्ड है तभी उसे खरीदें.



Source link