BJP Jan Ashirwad Yatra: sanjay raut comments on bjp jan ashirwad yatra:शिवसेना नेता संजय राउत ने साधा बीजेपी पर निशाना

30

हाइलाइट्स

  • शिवसेना नेता संजय राउत ने साधा बीजेपी पर निशाना
  • राउत ने कहा कि जन आशीर्वाद यात्रा मतलब तीसरी लहर को न्योता
  • उन्होंने कहा कि जन आशीर्वाद यात्रा में हो रहा है शक्ति प्रदर्शन
  • शक्ति प्रदर्शन के लिए जुटाई जा रही है लोगों की भीड़

मुंबई
शिवसेना के वरिष्ठ नेता और सांसद संजय राउत ने बीजेपी की जन आशीर्वाद यात्रा पर टिप्पणी करते हुए कहा है कि जन आशीर्वाद यात्रा मतलब तीसरी लहर को निमंत्रण। मीडिया से बात करते हुए राउत ने बीजेपी पर तीखा हमला बोला है। उन्होंने कहा कि फिलहाल जिस तरह की भीड़ इस यात्रा में दिखाई दे रही है और शक्ति प्रदर्शन हो रहा है। उससे तीसरी लहर का आना तय है। बीजेपी महाराष्ट्र को मुसीबत में डालने की कोशिश कर रही है।

गिर रहा है बीजेपी का ग्राफ
राउत ने कहा की देश में हुए एक सर्वे के मुताबिक सबसे बेहतरीन मुख्यमंत्रियों की लिस्ट में उद्धव ठाकरे का भी नाम शामिल हुआ है। उद्धव ठाकरे ने टॉप फाइव में जगह बनाई है। तमिलनाडु के मुख्यमंत्री स्टालिन, ममता बनर्जी, नवीन पटनायक भी इस लिस्ट में हैं लेकिन बीजेपी का एक भी मुख्यमंत्री इस टॉप फाइव की लिस्ट में शामिल नहीं है। राउत ने कहा, इसका मतलब यह है कि देश में बीजेपी का ग्राफ गिर रहा है और उसी का यह परिणाम है कि पसंदीदा नेताओं की लिस्ट से उनके नाम गायब हो रहे हैं।

यह जनता का पोल
संजय राऊत ने कहा कि उद्धव ठाकरे ने हमेशा महाराष्ट्र में राजनीति से अलग जाकर काम किया है। खास तौर पर कोरोना महामारी के दौरान उन्होंने जिस तरह से मुंबई समेत पूरे महाराष्ट्र को संभाला, वह काबिले तारीफ है और इसी वजह से महाराष्ट्र नंबर वन है। धीरे-धीरे उद्धव ठाकरे का ग्राफ और भी बढ़ेगा और वह लोकप्रिय नेताओं की लिस्ट में पहले नंबर पर अपना मुकाम बनाएंगे। चूंकि बीजेपी के मुख्यमंत्री इस लिस्ट में शामिल नहीं हो पाए हैं अब वे इस सर्वे पर भी सवाल उठाएंगे।

केंद्रीय मंत्री हरदीप सिंह पुरी ने कहा, ‘कृपया संजय राउत को यह बताइए कि मैंने इस बात का संज्ञान लिया है लेकिन हम लोगों तक सरकार की योजनाएं पहुंचाना बंद नहीं करते हैं। मुझे यह नहीं कहना चाहिए लेकिन उन तस्वीरों को भी देखना चाहिए जब जिम्मेदार नेता मास्क नहीं लगा रहे हैं। इतना ही नहीं, सदन के वेल में एक दूसरे के बेहद करीब हैं।’

राणे का शक्ति प्रदर्शन
लघु, सूक्ष्म एवं मध्यम उद्योग विभाग के मंत्री पद संभालने के बाद नारायण राणे की जन आशीर्वाद यात्रा शुरू होने वाली है। 19 से 26 अगस्त तक राणे की यात्रा शुरू रहेगी। इस यात्रा के जरिये राणे अपना शक्ति प्रदर्शन भी करेंगे। 19 और 20 अगस्त को राणे मुंबई में जमकर शक्ति प्रदर्शन करेंगे।

21 तारीख को वसई-विरार और 23 से 26 अगस्त को कोंकण में जन आशीवार्द यात्रा होगी। जनता इस यात्रा को कैसा प्रतिसाद देती है। इसपर भी सबकी निगाहें टिकी हुई हैं।

मोदी का आदेश
बीजेपी केंद्रीय नेतृत्व की तरफ से नारायण राणे को बीएमसी चुनाव की जवाबदारी दी गई है। यह चुनाव मुंबई में अगले साल होने हैं। जिसके लिए मिशन 114 का नारा दिया गया है। राणे के सिर पर 114 या उससे भी ज्यादा लोगों को जीत दिलवाने की जिम्मेदारी दी गई है। किसी भी सूरत में मिशन को पूरा करने का आदेश दिया गया है।

शिवसेना को हराने की जिम्मेदारी राणे को दी गई है। सूत्रों के मुताबिक राणे की पूरी ताकत का इस्तेमाल बीएमसी चुनाव में केंद्रीय नेतृत्व चाहता है। राणे अपने मिशन में कितना कामयाब होंगे यह तो वक्त तय करेगा लेकिन इतना जरूर तय है कि यह चुनाव बेहद दिलचस्प होने वाला हैं

500 गाड़ियों का काफिला
नारायण राणे की जान आशीर्वाद यात्रा तकरीबन 7 दिनों की होगी। इस दौरान वह 170 से भी ज्यादा जगहों पर जाएंगे। मुंबई और कोंकण इलाके में उनकी जन आशीर्वाद यात्रा निकाली जाएगी। राणे की इस यात्रा की जिम्मेदारी दो नेता प्रमोद जठार और सुनील राणे देखेंगे। इस यात्रा में स्वाभिमान संघटन के कार्यकर्ता भी शामिल होंगे। 19 तारीख से शुरू होने वाली इस यात्रा के लिए अब तक 500 गाड़ियों की लिस्ट तैयार की गई है। इसलिए इस दिन बड़े शक्ति प्रदर्शन की संभावना व्यक्त की जा रही है।

Source link