BJP Jan Ashirwad Yatra: BJP Jan Ashirwad Yatra: विनायक राउत ने दी नारायण राणे को चेतावनी, बोले-धोखेबाज़ों को स्मृति स्थल जाने से रोकेंगे शिवसैनिक – shivena mp vinayak raut said rane is a rook shivsainiks will not let him visit smriti sthal

27

हाइलाइट्स

  • नारायण राणे पर भड़के शिवसेना सांसद विनायक राउत
  • बोले राणे जैसा धोखेबाज़ महाराष्ट्र में दूसरा नहीं है
  • राणे को शिवसैनिक स्मृतिस्थल तक नहीं जाने देंगे
  • राणे के कदम जहां पड़ते है। वहां शिवसेना की जीत होती है

मुंबई
आगामी 19 अगस्त को केंद्रीय उद्योग मंत्री नारायण राणे (Narayan Rane) ने जन आशीर्वाद यात्रा के दौरान शिवाजी पार्क स्थित बालासाहेब ठाकरे के स्मृति स्थल पर जाकर अभिवादन करने की बात कही है। राणे के इस बयान का शिवसैनिकों ने जबरदस्त विरोध किया है। शिवसेना सांसद विनायक राउत (Shivsena MP Vinayak Raut) का कहना है कि नारायण राणे को स्मृतिस्थल जाने का नैतिक अधिकार नहीं है। राणे जैसे विश्वासघाती व्यक्ति को शिवसैनिक स्मृतिस्थल नहीं जाने देंगे। उन्होंने कहा कि राणे जैसा धोखेबाज़ और बालासाहेब से बेईमानी करने वाला नेता महाराष्ट्र में नहीं है।

जहां नारायण राणे, वहां शिवसेना की विजय
विनायक राउत ने कहा कि जिन-जिन जगहों पर नारायण राणे शिवसेना के विरोध में खड़े होते हैं। वहां पर शिवसेना की जीत होती है, यह इतिहास है। राणे को पानीपत के युद्ध की तरह हराने की ताकत शिवसैनिकों में है। राणे के सामने आने पर यह ताकत और भी बढ़ जाती है। इसलिए बीजेपी ने जिन जिन महानगर पालिका चुनाव की जिम्मेदारी राणे को दी है, वहां शिवसेना की जीत तय है।

राणे का शक्ति प्रदर्शन
लघु, सूक्ष्म एवं मध्यम उद्योग विभाग के मंत्री पद संभालने के बाद नारायण राणे की जन आशीर्वाद यात्रा शुरू होने वाली है। 19 से 26 अगस्त तक राणे की यात्रा शुरू रहेगी। इस यात्रा के जरिये राणे अपना शक्ति प्रदर्शन भी करेंगे। 19 और 20 अगस्त को राणे मुंबई में जमकर शक्ति प्रदर्शन करेंगे।

21 तारीख को वसई-विरार और 23 से 26 अगस्त को कोंकण में जन आशीवार्द यात्रा होगी। जनता इस यात्रा को कैसा प्रतिसाद देती है। इसपर भी सबकी निगाहें टिकी हुई हैं।

मोदी का आदेश
बीजेपी केंद्रीय नेतृत्व की तरफ से नारायण राणे को बीएमसी चुनाव की जवाबदारी दी गई है। यह चुनाव मुंबई में अगले साल होने हैं। जिसके लिए मिशन 114 का नारा दिया गया है। राणे के सिर पर 114 या उससे भी ज्यादा लोगों को जीत दिलवाने की जिम्मेदारी दी गई है। किसी भी सूरत में मिशन को पूरा करने का आदेश दिया गया है।

शिवसेना को हराने की जिम्मेदारी राणे को दी गई है। सूत्रों के मुताबिक राणे की पूरी ताकत का इस्तेमाल बीएमसी चुनाव में केंद्रीय नेतृत्व चाहता है। राणे अपने मिशन में कितना कामयाब होंगे यह तो वक्त तय करेगा लेकिन इतना जरूर तय है कि यह चुनाव बेहद दिलचस्प होने वाला हैं

500 गाड़ियों का काफिला
नारायण राणे की जान आशीर्वाद यात्रा तकरीबन 7 दिनों की होगी। इस दौरान वह 170 से भी ज्यादा जगहों पर जाएंगे। मुंबई और कोंकण इलाके में उनकी जन आशीर्वाद यात्रा निकाली जाएगी। राणे की इस यात्रा की जिम्मेदारी दो नेता प्रमोद जठार और सुनील राणे देखेंगे। इस यात्रा में स्वाभिमान संघटन के कार्यकर्ता भी शामिल होंगे। 19 तारीख से शुरू होने वाली इस यात्रा के लिए अब तक 500 गाड़ियों की लिस्ट तैयार की गई है। इसलिए इस दिन बड़े शक्ति प्रदर्शन की संभावना व्यक्त की जा रही है।

Source link