BHIM UPI Transactions Growth Update: Bharat Interface For Money Overall Transactions At Rs 41 Lakh Crores | इंडियन टूरिस्ट भूटान में BHIM के जरिए पेमेंट कर सकेंगे, हर साल करीब 2 लाख भारतीयों को फायदा होगा

28
  • Hindi News
  • International
  • BHIM UPI Transactions Growth Update: Bharat Interface For Money Overall Transactions At Rs 41 Lakh Crores

नई दिल्ली2 घंटे पहले

  • कॉपी लिंक

भारतीय वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण और भूटान के वित्त मंत्री ल्योन्पो नमगेय शेरिंग ने मिलकर मंगलवार को भूटान में भारत का BHIM UPI ऐप लॉन्च किया। वर्चुअल लॉन्च के मौके पर निर्मला सीतारमण ने कहा कि, भारत से हर साल 2 लाख से ज्यादा लोग भूटान घूमने जाते हैं। BHIM ऐप लॉन्च होने से उन्हें वहां पेमेंट करने में आसानी हाेगी। सिंगापुर के बाद भूटान BHIM UPI ऐप का इस्तेमाल करने वाला दूसरा देश बन गया है।

देश के नेशनल पेमेंट कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया (NPCI) की इंटरनेशनल शाखा NPCI इंटरनेशनल पेमेंट्स लिमिटेड (NIPL) ने भूटान की रॉयल मॉनेटरी अथॉरिटी (RMA) के साथ पार्टनरशिप की घोषणा की। इसके तहत भूटान में BHIM UPI QR आधारित पेमेंट किए जा सकेंगे।

लॉन्च के दौरान सीतारमण ने बताया कि, 2020-21 में भीम ऐप पर 41 लाख करोड़ रुपए के 22 अरब ट्रांजैक्शन किए गए।

लॉन्च के दौरान सीतारमण ने बताया कि, 2020-21 में भीम ऐप पर 41 लाख करोड़ रुपए के 22 अरब ट्रांजैक्शन किए गए।

लॉकडाउन में BHIM पर हुए 41 लाख करोड़ रुपए के ट्रांजैक्शन
भारत इंटरफेस फॉर मनी (BHIM) ऐप भारत का एक डिजिटल पेमेंट ऐप्लीकेशन है जो UPI के जरिए काम करता है। सीतारमण ने बताया कि, लॉकडाउन के दौरान BHIM-UPI पेमेंट का बड़ा प्लेटफॉर्म बना। 2020-21 में इस पर 41 लाख करोड़ रुपए के 22 अरब ट्रांजैक्शन किए गए।

वर्चुअल लॉन्च में भूटान की रॉयल मॉनेटरी अथॉरिटी के गवर्नर दाशो पेंजोरे भी शामिल हुए।

वर्चुअल लॉन्च में भूटान की रॉयल मॉनेटरी अथॉरिटी के गवर्नर दाशो पेंजोरे भी शामिल हुए।

भारत का रूपे कार्ड भी इस्तेमाल करता है भूटान
BHIM-UPI के लॉन्च होने के बाद भूटान पहला देश बन गया है जहां यूनिफाइड पेमेंट इंटरफेस (UPI) के स्टैंडर्ड पर QR तैयार किया जाएगा। इसके अलावा भूटान अकेला देश होगा जहां BHIM UPI के साथ भारत का रूपे (RuPay) कार्ड भी इस्तेमाल किया जाता है।

क्या है UPI
यूनिफाइड पेमेंट इंटरफेस (UPI) एक इंस्टैंट रियल-टाइम पेमेंट सिस्टम है, जो यूजर्स को रियल-टाइम पर पैसे ट्रांसफर करने की सहूलियत देता है। यूजर्स किसी भी बैंक से किसी दूसरे बैंक में पैसे भेज सकते हैं। इसमें किसी को अपने बैंक खाते की डिटेल नहीं बतानी पड़ती है। 2020 में यूपीआई के जरिए 457 अरब डॉलर का करोबार हुआ। यह देश के लगभग 15% जीडीपी के बराबर है।

खबरें और भी हैं…

Source link