agra woman constable resigns after viral video says depressed due to social media

57

लखनऊ. कोरोना की तीसरी संभावित लहर (COVID-19 Third Wave) की आशंका के बीच पश्चिम उत्तर प्रदेश में वायरल फीवर (Viral Fever) और डेंगू (Dengue) कहर बरपा रहा है. उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) ने मंगलवार को टीम-9 की बैठक में निर्देश दिए कि आगरा (Agra) और फिरोजाबाद (Firozabad) की स्थिति पर शासन स्तर से चौबीसों घंटे नजर रखी जाए. सीएम योगी ने कहा कि फिरोजाबाद में बच्चों के साथ प्रौढ़ लोग भी बीमार हुए हैं. सभी के बेहतर ट्रीटमेंट की व्यवस्था की जा रही है. सभी मरीजों को मेडिकल कॉलेज में शिफ्ट किया जाना उचित होगा. आवश्यक्तानुसार मेडिकल कॉलेज में बेड की संख्या बढ़ाई जाए. हमें सर्विलांस को और बेहतर करना होगा.

मुख्यमंत्री ने निर्देश दिए हैं कि विशेषज्ञों की टीम फिरोजाबाद में कैंप करे. जरूरत के अनुसार रेजिडेंट डॉक्टर, पैरामेडिकल स्टाफ की तुरन्त तैनाती की जाए. दवाओं और अन्य जरूरतों की आपूर्ति सुनिश्चित कराई जाए.

एक सितंबर से खुलेंगे स्कूल, पूरी तैयारी रखें: सीएम

इसके अलावा स्कूलों के खुलने पर सीएम योगी ने कहा कि कल यानि एक सितंबर से कक्षा 1 से 5वीं तक के विद्यालय खुल रहे हैं. स्कूलों में कोविड प्रोटोकॉल का पूरा ध्यान रखा जाए. स्वच्छता, सैनेटाइजेशन का कार्य हर दिन हो. पठन-पाठन के साथ-साथ बच्चों की सुरक्षा पर भी पूरा ध्यान दिया जाए.

वायरल फीवर और डेंगू के चपेट में वेस्ट यूपी के कई जिले, अब तक 40 बच्चों समेत 68 की मौत

बता दें मेरठ, फिरोजाबाद, आगरा, मैनपुरी, मथुरा, एटा और कासगंज में लगातार मरीज सामने आ रहे हैं. सबसे ज्यादा प्रभावित जिला फिरोजाबाद है, जहां पिछले 24 घंटों के अंदर 12 और बच्चों की मौत हो गई. पश्चिमी उत्तर प्रदेश के कुछ हिस्सों में तेज वायरल बुखार ने पिछले एक सप्ताह के अंदर 40 बच्चों सहित 68 लोगों की जान ले ली है.

इस बीच सीएम योगी सोमवार को फिरोजाबाद का दौरा भी किया था, उन्होंने स्वास्थ्य अधिकारियों संग बीमारी को फैलने से रोकने के उपायों पर चर्चा की. डॉक्टरों के एक पैनल को फिरोजाबाद भेजने का भी निर्देश दिया. फिरोजाबाद में मेडिकल टीम गांव-गांव जाकर जांच और दवाएं वितरित करने में लगी हुई हैं.

फिरोजाबाद की मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ नीता कुलश्रेष्ठ ने कहा कि 12 बच्चे पिछले 24 घंटों में वायरल बुखार से मरे हैं. इस वायरल और मरने वाले लोगों के सटीक कारणों का अध्ययन किया जा रहा है. जो भी लोग एडमिट हो रहे हैं, वे कोरोना पॉजिटिव नहीं हैं. इस बुखार की तीव्रता चिंताजनक है. वायरल खत्म होने में 10-12 दिन लग रहे हैं. साथ ही 50 फ़ीसदी मरीजों में डेंगू जैसे लक्षण दिख रहे हैं. इतना ही नहीं मरीजों को 102 डिग्री तक तेज बुखार आ रहा है और प्लेटलेट्स भी गिर रहा है.

इनपुट: अनामिका सिंह

Source link