शरद पवार के बहाने उद्धव ठाकरे पर किया हमला

15

हाइलाइट्स:

  • बीजेपी नेता और पूर्व मंत्री अनिल बोंडे का महाराष्ट्र सरकर पर हमला
  • शरद पवार के बहाने उद्धव ठाकरे पर किया हमला
  • बोंडे ने कहा कि बच्चे निकम्मे निकल जाएं तो बूढ़े बाप को दौड़ना पड़ता है
  • बोंडे ने कहा कि सरकार जल्द से जल्द बाढ़ पीड़ित किसानों को मुआवजा दे

बुलढाणा
भारतीय जनता पार्टी (maharashtra bjp ) किसान अघाड़ी के प्रदेश अध्यक्ष और राज्य के पूर्व कृषि मंत्री अनिल बोंडे ने बुलढाणा में एक विवादित बयान दिया। उन्होंने राज्य सरकार और कांग्रेस पर जोरदार हमला बोलते हुए कहा कि भारी बारिश की वजह से हुए नुकसान और प्याज के दाम को लेकर चल रहे आंदोलन के मद्देनजर राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी के मुखिया शरद पवार राज्य का तूफानी दौरा कर रहे हैं। पवार साहब के इस दौरे की तारीफ तो जरूर करनी चाहिए। बोंडे ने कहा कि जब बच्चे निकम्मे निकल जाएं तब बूढ़े बाप को बाहर दौड़-धूप करनी पड़ती हैं। शरद पवार (ncp chief sharad pawar) के लगातार हो रहे दौरे से यह स्पष्ट होता है कि यह सरकार काबिल नहीं है।

धोखे से सत्ता हासिल की
अनिल बोंडे ने शिवसेना, कांग्रेस और एनसीपी पर धोखे से सत्ता हासिल करने का आरोप लगाते हुए कहा कि अब कम से कम तीनों दल ठीक से सरकार चलाकर तो दिखाएं। राज्य की मौजूदा महाविकास अघाड़ी सरकार (mahavikas aghadi government) को बीजेपी ने कभी भी गिराने की बात नहीं कही है लेकिन धोखे से सत्ता हासिल करने वाली सरकार कम से कम जनता और किसानों के हित का काम तो करे। बोंडे ने कहा कि केंद्र सरकार द्वारा लाए गए कृषि कानून के बारे में कांग्रेस किसानों के बीच में भ्रम फैलाने का प्रयास कर रही है। उन्होंने कहा कि कृषि कानून को लेकर भाजपा की तरफ से जन जागृति अभियान शुरू है और इसी बाबत मैं भी बुलढाणा में आया हूं।

पढ़ें:राज ठाकरे ने की राज्यपाल से मुलाक़ात

कांग्रेस पर हमला
अनिल बोंडे ने कांग्रेस पर हमला करते हुए कहा कि कृषि कानून के विरोध में कांग्रेस ने आंदोलन करते हुए ट्रैक्टर को जलाया। जबकि हम ट्रैक्टर का पूजन करते हैं। किसानों की तरफ से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को हमने धन्यवाद प्रस्ताव वाला पत्र भी भेजा है। मैं मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे (cm uddhav thackeray ) से अनुरोध करता हूँ कि वे भी कृषि कानून से संबंधित राज्य में लगाई गई बंदी को हटाएं। बुलढाणा में भारी बारिश की वजह से भीषण तबाही हुई है। ऐसे में सरकार पंचनामा ना करते हुए किसानों की तत्काल मदद करे। मूंग और उड़द के दाल समेत कई फसलों का भारी नुकसान हुआ है।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here