राज ठाकरे ने की राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मुलाकात

19

हाइलाइट्स:

  • राज ठाकरे ने की राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से मुलाकात
  • बिजली के बढ़े हुए बिल और दूध उत्पादक किसानों की समस्या को लेकर हुई मुलाकात
  • राज ठाकरे के साथ उनके बेटे अमित ठाकरे भी थे मौजूद
  • राज ठाकरे से कई लोग और संगठन मिलकर अपनी समस्याएं बता चुके हैं

मुंबई
महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना के अध्यक्ष राज ठाकरे ने गुरुवार को महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी से राजभवन में मुलाकात की। यह मुलाकात बिजली और दूध के दाम के मुद्दे को लेकर हुई है। राज ठाकरे ने मंदिर खोलने के मुद्दे पर राज्यपाल से फिलहाल कोई चर्चा नहीं की है। इस मुलाकात में राज ठाकरे के साथ उनके बेटे अमित ठाकरे और महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना का प्रतिनिधिमंडल भी मौजूद था।

जनसामान्य के मुद्दों को लेकर मुलाकात
तकरीबन 10 से 15 मिनट चली इस मुलाकात के बाद राज ठाकरे ने मीडिया कर्मियों से बात करते हुए बताया कि बिजली के बिलों की शिकायत उनके पास भारी तादाद में आ रही थी। लोगों ने यह कहा था कि मनमाने ढंग से बिजली के बिल ग्राहकों को कंपनियों द्वारा भेजे जा रहे हैं। मनसे ने बढ़े हुए बिजली के बिल को लेकर राज्य भर में आंदोलन भी किया था। जिसके बाद बिजली आपूर्ति करने वाली कंपनियों ने राज ठाकरे से आकर मुलाकात भी की थी और उन्हें पत्र लिखकर बताया भी था कि वह इस मामले पर ध्यान देंगे। राज ठाकरे ने बताया कि इस विषय पर ऊर्जा मंत्री नितिन राउत से भी उन्होंने बात की थी। राउत ने इस मामले में जल्द से जल्द फैसला लेने का भरोसा भी दिया था। यह विषय आज हमने महामहिम राज्यपाल तक भी पहुंचाया है।

दो हज़ार की जगह 10 हज़ार के बिल
राज ठाकरे ने कहा कि यह बात सरकार को भी पता है कि पहले जहां दो हज़ार रुपए तक बिल आता था। वहां अब 10 हज़ार रुपए के बिल आ रहे हैं। जहां पांच हज़ार का बिल ग्राहक भरते थे वहां अब 25 हजार रुपए के बिल कंपनियों द्वारा भेजे जा रहे हैं। यह बात अगर राज्य सरकार को पता है तो इस पर कार्रवाई क्यों नहीं की जा रही है।

पढ़ें: पुणे में बढ़ा कोरोना रिकवरी रेट

दूध उत्पादक किसानों को मिले ज्यादा पैसे
राज ठाकरे ने दूध उत्पादक किसानों को लेकर भी राज्यपाल से चर्चा की। उन्होंने कहा कि दूध का उत्पादन करने वाले छोटे-छोटे किसानों को आज भी 17 से 18 रुपए प्रति लीटर का दाम मिल रहा है। जबकि बड़े-बड़े संकलन केंद्रों की और बड़े दूध संकलन करने वाले किसानों की मोटी कमाई हो रही है। ऐसे में गरीब किसान बहुत ज्यादा परेशान है। इसलिए उसे एक लीटर के लिए कम से कम 27 से 28 रुपए का दाम मिलना चाहिए। इसके लिए सरकार को प्रयास करना चाहिए।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here