किसानों के लिए कांग्रेस का मोर्चा

6

हाइलाइट्स:

  • किसानों के लिए महाराष्ट्र कांग्रेस करेगी राज्यव्यापी आंदोलन, बुधवार को होगा आंदोलन
  • केंद्र द्वारा प्याज़ निर्यात पर पाबन्दी के खिलाफ होगा यह आंदोलन, कांग्रेस नेता और मंत्री बालासाहेब थोरात ने की घोषणा
  • एनसीपी प्रमुख शरद पवार भी केंद्र के फैसले से नाखुश, निर्णय वापस लेने का निवेदन किया
  • राज्य में किसान सभा भी आंदोलन करने की चेतवानी दे चुकी है

मुंबई
मोदी सरकार के प्याज़ निर्यात पर प्रतिबंध लगाने एक फैसले पर महाराष्ट्र कांग्रेस ने नाराजगी जताते हुए बुधवार को पूरे राज्य में आंदोलन करने का ऐलान किया है। कांग्रेस का कहना है कि लॉकडाउन ने पहली ही किसानों की कमर तोड़ दी थी। अब उनको कुछ अच्छा भाव मिलने की आस जगी थी तो मोदी सरकार ने निर्यात पर पाबन्दी लगा दी है। कांग्रेस ने केंद्र सरकार से तत्काल पाबंदी हटाने का अनुरोध किया है।

शरद पवार ने भी जताई नाराजगी
एनसीपी सुप्रीमो शरद पवार ने केंद्र के प्याज़ निर्यात पर पाबंदी के फैसले का कड़ा विरोध किया है। उन्होंने कहा है कि यह फैसला किसानों की परेशानियों को बढ़ाने वाला है। इस फैसले से अंतरराष्ट्रीय बाजार में भारत की छवि भी ख़राब होगी। लोग भारत को एक भरोसेमंद देश के रूप में नहीं देखेंगे। इस फैसले से देश का प्याज़ उत्पादक किसान काफी नाराज है। साथ ही इस मौके का फायदा पाकिस्तान जैसा देश भी उठा सकता है। पवार ने कहा कि इस विषय में हमने केंद्रीय मंत्री पीयूष गोयल से बात की है और निवेदन किया है कि वह सरकार के इस निर्णय पर दोबारा विचार करें।

छगन भुजबल ने कहा किसानों को सड़क पर लाएगा यह फैसला
महाराष्ट्र के खाद्य एवं आपूर्ति मंत्री छगन भुजबल ने भी केंद्र सरकार के इस फैसले को दुर्भाग्यपूर्ण बताते हुए कहा है कि किसान कोरोना की वजह से लगाए गए लॉकडाउन से पहले ही परेशान थे अब इस निर्णय से वह रोड पर आ जाएंगे। उन्होंने कहा की इस समय प्याज़ का निर्यात किया जाना बहुत जरुरी है।लॉकडाउन की वजह से प्याज का दाम पहले से गिरा हुआ है उसपर किसान को ट्रांसपोर्टेशन का भी खर्च उठाना पड़ता है। भुजबा ने कहा कि प्रधानमंत्री जी ने कहा था कि किसानों के उत्पादन को सही और दोगुना भाव मिलेगा,फिर भी किसानों की यह हालत क्यों होती जा रही है। अब प्याज का निर्यात नहीं होने पर किसान पूरी तरह से सड़क पर आ जाएंगे। उनको जो चार पैसे प्याज के निर्यात से मिलने की उम्मीद थी,वो प्याज भी अब सड़ जाएगी अगर इनका सही समय पर निर्यात नही किया गया।

किसान महासभा ने दी आंदोलन की चेतावनी
किसान नेता डॉ. अजीत नवले ने कहा है की केंद्र सरकार ने महाराष्ट्र और देश भर प्याज़ उत्पादक किसानों के साथ बहुत बड़ा धोखा किया है। कुछ दिनों पहले इसी केंद्र सरकार ने प्याज़ को एसेंशियल कमोडिटीज़ से हटाया था और कहा था कि सरकर के इस फैसले का किसानों को काफी फायदा होगा। बिहार चुनाव के लिए देश भर प्याज़ उत्पादक किसानों की उम्मीदों का गला केंद्र सरकार घोंट रही है। इस फैसले का विरोध अब देश भर के किसान सड़क पर उतरकर करेंगे।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here