200 से अधिक ई-रिक्शा लूटने वाला जहरखुरानी गैंग गिरफ्तार, दिल्ली-एनसीआर में फैला था आतंक

30

चालकों को नशीला पदार्थ खिलाकर ई-रिक्शा लूटने वाले अंतरराज्यीय गैंग का खुलासा करते हुए गाजियाबाद क्राइम ब्रांच और सिहानी गेट थाना पुलिस ने दो सरगनाओं समेत आठ बदमाशों को गिरफ्तार किया है। आरोपियों के कब्जे से चार ई-रिक्शा, लूट में प्रयुक्त ऑटो व बाइक तथा 600 नशीली गोलियां बरामद हुई हैं। पुलिस के मुताबिक, गैंग अब तक 200 से अधिक ई-रिक्शा लूट चुका है। गिरोह से जुड़े अन्य बदमाशों की खोजबीन की जा रही है।

क्राइम ब्रांच प्रभारी अब्दुर रहमान सिद्दीकी ने बताया कि जहरखुरानी बदमाशों के द्वारा लगातार लूटपाट की वारदातों को अंजाम दिया जा रहा था। क्राइम ब्रांच की टीम गैंग को ट्रेस करने में जुटी हुई थी। महीनों की मशक्कत के बाद गैंग का सुराग मिला, जिसके बाद अंतरराज्यीय गैंग के आठ बदमाशों को गिरफ्तार कर लिया गया। आरोपियों की पहचान बुलंदशहर के गांव बुगरासी व हाल मुस्तफाबाद लोनी निवासी अबरार उर्फ कल्लू, लोनी के अंकुर विहार डीएलएफ निवासी सलीम उर्फ टोला, नसबंदी कॉलोनी निवासी आजम उर्फ नदीम व शाहिद, लोनी के बाबूनगर निवासी रहमत, सीलमपुर दिल्ली निवासी सलमान, लोनी बॉर्डर की गुलाब कॉलोनी निवासी उमाशंकर राठौर तथा मुस्तफाबाद दिल्ली निवासी डॉ. वकील के रूप में हुई है।

सवारी बनकर बैठते हैं गिरोह के सदस्य

संबंधित खबरें

क्राइम ब्रांच प्रभारी ने बताया कि अबरार, रहमत अंतरराज्यीय जहरखुरानी गिरोह के सरगना हैं, जो कि गिरोह के अन्य सदस्यों के साथ मिलकर वारदात को अंजाम देते हैं। गिरोह के सदस्य ई-रिक्शा में सवारी बनकर बैठते हैं और चालक को विश्वास में लेकर उसे कोल्डड्रिंक, जूस तथा अन्य खाद्य पदार्थ में अधिक मात्रा में एल्प्राजोलम का नशा देकर उसे बेहोश कर देते हैं। इसके बाद वह ई-रिक्शा, चालक का मोबाइल व नकदी आदि लूटकर फरार हो जाते हैं। महिला साथ होने के चलते कोई उन पर शक नहीं करता। गिरोह अभी तक दिल्ली, नोएडा, गाजियाबाद, बागपत आदि स्थानों से 200 से अधिक ई-रिक्शा लूट चुका है।

बुलंदशहर के कबाड़ी को बेचते थे ई-रिक्शा

पुलिस के मुताबिक, गैंग के सदस्य लूटे गए ई-रिक्शा को बुलंदशहर के खुर्जा निवासी कबाड़ी अमजद को बेचते थे। अमजद दो महीने पहले खुर्जा थाने से जेल जा चुका है। इसके अलावा गिरोह के अन्य सदस्य सचिन व तस्लीम जीटीबी एंक्लेव दिल्ली से, छोटू उर्फ दिलीप थाना प्रशांत विहार दिल्ली से तथा मनीष बागपत पुलिस द्वारा पकड़े जा चुके हैं। नशे की गोलियां इन्हें डॉ. वकील देता है। गिरोह में शामिल दिल्ली के खजूरी निवासी सरोज फरार है, जिसकी तलाश की जा रही है।

Source link