सातव की खाली जगह को भरने के लिए कांग्रेस में कवायद: सातव की खाली जगह को भरने के लिए कांग्रेस में कवायद – congress high command is looking for better candidate with in party as a replacement of late rajiv satav

83

मुंबई, अभिमन्यु शितोले
महाराष्ट्र के राज्यसभा सांसद और गुजरात कांग्रेस के प्रभारी राजीव सातव के निधन से खाली हुई इन दोनों जगहों को भरने के लिए इन दिनों कांग्रेस के भीतर अंदरूनी कवायद चल रही है। खास बात यह है कि इस कवायद का केंद्र बिंदु महाराष्ट्र है।

कांग्रेस के वरिष्ठ सूत्रों के मुताबिक कांग्रेस की राजनीति के लिए बेहद संवेदनशील प्रदेश गुजरात में कांग्रेस का अगला प्रभारी किसे बनाया जाना चाहिए, इस पर कांग्रेस में उच्च स्तर पर मंथन चल रहा है। राहुल गांधी, प्रियंका गांधी और अशोक गहलोत के बीच कुछ नाम शॉर्ट लिस्ट हुए है, जिनमें महाराष्ट्र के दो दिग्गज कांग्रेस नेताओं पार्टी महासचिव मुकुल वासनिक और पूर्व महासचिव अविनाश पांडे के नाम प्रमुख हैं।

कौन किसकी पसंद?
सूत्र बताते हैं कि गुजरात के प्रभारी पद के लिए वासनिक प्रियंका गांधी की पसंद है, तो राहुल की पसंद अविनाश पांडे हैं। वे सोनिया गांधी के भी करीबी हैं और राजस्थान के प्रभारी रहते हुए उन्ही की विश्वसनीयता में कांग्रेस ने सचिन पायलट की बगावत को फुस्स करने में सफलता हासिल की थी। यही वजह है कि अशोक गहलोत का समर्थन भी अविनाश पांडे के साथ है। महाराष्ट्र के विधानसभा चुनावों में सोनिया ने पांडे को वार रूम का प्रभारी बनाया था और शिवसेना के साथ सरकार में शामिल होने के लिए अविनाश पांडे और अशोक गहलोत ही सोनिया गांधी को मनाने में भी कायमाब रहे। पांडे की पहल पर ही महीने भर तक महाराष्ट्र कांग्रेस के विधायकों को जयपुर में सहेजकर रखा गया था।

उधर, वासनिक सांगठनिक गतिविधियां सम्हालते रहे हैं शुरुआत से ही कांग्रेस आलाकमान के बेहद करीबी रहे हैं। लेकिन माना जा रहा है कि गुजरात के झगड़े सुलझाने के लिए स्थानीय स्तर की जोड़तोड़ में वे कमजोर साबित हो सकते हैं। और उन्हें गुजरात को समझने में ही लंबा समय लग जाएगा, जबकि अगले साल तो वहां चुनाव हैं। बहरहाल सांसद नीरज डांगी, पूर्व मंत्री रघुवीर सिंह मीणा के साथ एक नाम हर्षवर्धन सकपाल का भी चलाया जा रहा है। लेकिन यह भी खबर है कि इन तीनों में से किन्हीं दो को गुजरात में सह प्रभारी के तौर पर काम सौंपा जा सकता है।

मुकुल वासनिक की नजर
खास बात यह भी है कि राजीव सातव की खाली राज्यसभा की सीट पर मुकुल वासनिक की नजर है और अविनाश पांडे भी एक बार राज्यसभा सांसद रह चुके हैं। इसके साथ ही कांग्रेस में किसी ब्राह्मण चेहरे को राज्यसभा भेजने का मानस बन रहा है, क्योंकि आनंद शर्मा भी रिटायर होने वाले हैं और मल्लिकार्जुन खड़गे को नेता विपक्ष बनाकर दलित चेहरा आगे किया गया है।

Source link