सड़क किनारे लावारिस पड़े बुजुर्ग को DM ने भिजवाया अस्पताल, परिवार वालों का छलका आंसू dm chandauli help missing man and done admit in hospital upns

77

सड़क किनारे लावारिस पड़े बुजुर्ग को DM ने भिजवाया अस्पताल

बुजुर्ग की बेटे रामाश्रय ने बताया कि यह 30 तारीख को गुम हो गए थे और उसी दिन से हमलोग इनको तलाश कर रहे थे. काफी इधर-उधर खोजे और कंदवा थाने में रिपोर्ट (FIR) भी दर्ज कराए.

चंदौली. उत्तर प्रदेश के चंदौली (Chandauli) में लावारिस हालत में सड़क किनारे मिले एक बुजुर्ग को डीएम न सिर्फ अस्पताल पहुंचाया बल्कि घर से बिछड़े बुजुर्ग को उसके परिवार से मिलवाया. डीएम के मानवीय पहलू की हर तरफ चर्चा हो रही है. इन बुजुर्ग का नाम द्वारिका बिंद है और वह चंदौली जिले के कंदवा थाना क्षेत्र के घोसवा गांव के रहने वाले हैं. बताया जा रहा है कि भूलने की बीमारी के चलते पिछले 30 मई से घर से लापता हो गए थे और 2 जून को लावारिस हालत में चंदौली में सड़क किनारे पड़े हुए थे. उधर से गुजर रहे चंदौली के डीएम संजीव सिंह ने उनको अस्पताल में भर्ती कराया था. इस बुजुर्ग को उनके परिजन ढूंढ रहे थे.

दरअसल 2 जून की दोपहर चंदौली के डीएम संजीव सिंह अपने दफ्तर से निकलकर एनआईसी दफ्तर की तरफ जा रहे थे. तभी उनकी नजर इस बुजुर्ग पर पड़ी, जो सड़क के किनारे घायल अवस्था में पड़े थे. डीएम संजीव कुमार अपनी गाड़ी से उतरे और इस बुजुर्ग को इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया. तब तक इनकी पहचान नहीं हो पाई थी लेकिन आज इनकी पहचान हो गई है और इनके परिजन भी इनके पास पहुंच गए हैं चंदौली जिला अस्पताल में भर्ती इस बुजुर्ग का नाम द्वारिका बिंद है और यह चंदौली के कंदवा थाना क्षेत्र के घोसवा गांव के रहने वाले हैं. यह वही बुजुर्ग हैं. जिन्हें 2 जून को चंदौली के डीएम संजीव सिंह ने यहां पर भर्ती कराया था.

Vaccination in UP: महिलाओं के टीकाकरण के लिए बनेंगे अलग से बूथ, योगी सरकार ने दिए आदेश

दरअसल 2 जून की दोपहर चंदौली के डीएम संजीव सिंह अपने दफ्तर से निकलकर एनआईसी दफ्तर की तरफ जा रहे थे.तभी उनकी नजर इस बुजुर्ग पर पड़ी.जो सड़क के किनारे घायल अवस्था में पड़े थे. डीएम संजीव कुमार अपनी गाड़ी से उतरे और इस बुजुर्ग को इलाज के लिए अस्पताल में भर्ती कराया. तब तक इनकी पहचान नहीं हो पाई थी लेकिन बाद में डीएम की पहल के बाद इनकी पहचान हो गई है और इनके परिजन भी इनके पास पहुंच गए हैं.भूलने की बीमारी से पीड़ित

बुजुर्ग की बेटे रामाश्रय ने बताया कि यह 30 तारीख को गुम हो गए थे और उसी दिन से हमलोग इनको तलाश कर रहे थे. काफी इधर-उधर खोजे और कंदवा थाने में रिपोर्ट भी दर्ज कराए. इसी दौरान पता चला कि यह अस्पताल में भर्ती हैं और डीएम साहब ने इनको यहां भर्ती कराया है. जिलाधिकारी संजीव सिंह ने बुजुर्ग द्वारिका विंद के इलाज के लिए चंदौली के सीएमओ और पंडित कमलापति त्रिपाठी जिला अस्पताल के सीएमएस को निर्देशित किया है. ताकि इनके इलाज में कोई कमी न रहने पाए. उधर अपने घर के बुजुर्ग को सकुशल पाकर द्वारिका बिंद के परिजन भी काफी खुश हैं.







Source link