शर्मनाक! शामली नगरपंचायत की संवेदनहीनता, कचरा वाहन में शव रख ले गए श्मशान

20

शामली डीएम जसजीत कौर ने बताया कि वायरल फ़ोटो का संज्ञान लिया जा रहा है.

Shamli News: कोविड की आशंका के चलते किसी ने भी अर्थी को कंधा नही दिया है. बेबस लाचार भाई ने नगरपालिका के कर्मचारियों को फोन किया और आपबीती सुनाते हुए उनसे शव को श्मशान घाट तक ले जाने का आग्रह किया. नगरपालिका कर्मचारियों ने शव को लेने के लिए कूड़ा उठाने वाली गाड़ी भेज दी.

शामली. शामली जनपद में लचर सिस्टम और लापरवाह प्रशासन की अतिसंवेदनहीन तस्वीरें सामने आई हैं. एक महिला के शव को कचरा गाड़ी में रखकर श्मशान ले जाया जा रहा है. सिस्टम की यह शर्मनाक तस्वीर शामली जनपद के कस्बा जलालाबाद की बताई जा रही है. कूड़े की गाड़ी में मृतक महिला के शव को गाड़ी में रखकर श्मशान घाट पहुंचाया. बताया जा रहा है कि बंगाल का एक परिवार पिछले कई दशक से शामली जनपद के कस्बा जलालाबाद में रह रहा है जिसका नाम प्रवास सरकार बताया जा रहा है जो कि कस्बे में डॉक्टर बंगाली से भी जाना जाता है. डॉक्टर बंगाली ने अपनी बहन की मौत के पश्चात आसपास के लोगों से अर्थी को कंधा देने की मदद मांगी लेकिन कोई भी उनकी मदद के लिए आगे नहीं आया. आसपास के लोगों की मानें तो उनका कहना है कि कोविड की आशंका के चलते किसी ने भी अर्थी को कंधा नही दिया है. बेबस लाचार भाई ने नगरपालिका के कर्मचारियों को फोन किया और आपबीती सुनाते हुए उनसे शव को श्मशान घाट तक ले जाने का आग्रह किया. नगरपालिका कर्मचारियों ने शव को लेने के लिए कूड़ा उठाने वाली गाड़ी भेज दी. और महिला के शव को कूड़ा गाड़ी में डालकर श्मशान ले गए. मृतक महिला का नाम बालामती है जोकि बंगाल की रहने वाली है. बालामती पूरा परिवार बंगाल में रहता है और एक भाई है जो कि शामली जनपद के कस्बा जलालाबाद में रहता है. बालामती की तबीयत पिछले कई महीनों से खराब थी. मृतक बालामती का भाई प्रवास सरकार उर्फ डॉ० बंगाली, बंगाल चला गया और वहां से अपनी बहन बालामती को लेकर शामली लौट आया है. करीब 12 दिन पहले वह अपनी बीमार बहन को लेकर शामली आया था लेकिन बीमारी ने बहन को ऐसा जकड़ लिया कि आज सुबह उसकी मौत हो गयी. बालामती का निधन हुआ तो आसपास के लोगों ने अर्थी को कांधा देना मुनासिब नहीं समझा. जब मदद के लिए कोई आगे नहीं आया तो लाचार भाई ने नगर पंचायत को एक प्रार्थना पत्र देकर श्मशान घाट तक शव को भेजने की गुहार लगाई. नगर पंचायत ने भी बेशर्मी दिखाते हुए कूड़े के वाहन में महिला के शव को रखकर श्मशान घाट तक पहुंचा दिया. यह फोटो किसी ने अपने मोबाइल में कैद कर ली और सोशल मीडिया पर वायरल कर दी. शामली डीएम जसजीत कौर ने बताया कि वायरल फ़ोटो का संज्ञान लिया जा रहा है. उक्त महिला की मौत कोविड से नहीं हुई है. शामली में शववाहन की व्यवस्था है. फिलहाल इस प्रकरण की जांच एसडीएम एबीएसए को सौंपी गई है. जांच उपरांत ही दोषियों पर कार्रवाई की जाएगी.







Source link