लोकप्रिय अस्पताल पर लगा इलाज में लापरवाही के चलते 6 कोरोना मरीजों की मौत का आरोप, FIR दर्ज | meerut – News in Hindi

38

शहर के लोकप्रिय अस्पताल पर इलाज में लापरवाही के कारण 6 कोरोना मरीजों की मौत का आरोप लगा है.

मेरठ (Meerut) का लोकप्रिय अस्पताल प्रबंधन नये आरोपों में घिर गया है. अस्पताल प्रबंधन पर कोरोना (Corona) पीड़ित मरीजों के इलाज (Treatment) में लापरवाही का आरोप लगा है. अस्पताल की लापरवाही के कारण 6 कोरोना पीड़ितों की मौत (Death) हो चुकी है.


  • News18Hindi

  • Last Updated:
    September 23, 2020, 1:24 PM IST

मेरठ. मरीजों के इलाज में अक्सर विवादों के घेरे में रहने वाले लोकप्रिय अस्पताल प्रबंधन पर कोरोना (Corona) पीड़ित मरीजों के इलाज में भी लपरवाही का आरोप लगा है. आरोप है कि अस्पताल प्रबंधन की लापरवाही की वजह से कुछ दिनों में एक-एक करके 6 कोरोना पीड़ित मरीजों की मौत (Death) हो गई है. ये खुलासा स्वास्थ्य विभाग (Health Department) की जांच में हुआ है.

जांच में पता चला है कि मरीज की हालत बिगड़ने पर ही उन्हें मेडिकल के लिए रेफर किया गया, जिसके चलते मरीजों की जान नहीं बचाई जा सकी. इस मामले में कमिश्नर अनीता मेश्राम की सख्ती भी रंग लाई और अब डिप्टी सीएमओ जी के मिश्रा ने लोकप्रिय अस्पताल के प्रबंधक अतुल कृष्ण, मालिक और मैनेजर के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया है. पुलिस ने आईपीसी की धारा 304ए और महामारी एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज कर लिया है. अब पुलिस सभी को बयान दर्ज कराने के लिए नोटिस भेजेगी.

BHU छात्र शिव त्रिवेदी मामला: जिस थाने से गायब हुआ, वहीं दर्ज हुई गुमशुदगी की रिपोर्ट

चर्चा यह भी है कि कोरोना पीड़ित 6 मरीजों की मौत के मामले में लोकप्रिय अस्पताल का लाइसेंस भी निरस्त हो सकता है. ये बात किसी छिपी नहीं है कि लोकप्रिय अस्पताल का अक्सर विवादों से नाता रहा है. कभी मरीजों का इलाज करने में लापरवाही बरती गई तो कभी बाहर से दवाई लाने पर मरीजों की दवाई स्वीकार नहीं की गई. तो कभी मरीजों के तीमारदारों से ज्यादा पैसे भी वसूले गए. अब कोरोना पीड़ित मरीजों की मौत के मामले में लोकप्रिय अस्पताल प्रबंधन घिर गया है और उम्मीद की जा रही है कि अस्पताल प्रबंधन के खिलाफ जल्द ही सख्त एक्शन हो सकता है.एसएसपी अजय साहनी की मानें तो डिप्टी सीएमओ की तहरीर पर मेरठ के थाना नौचंदी में लोकप्रिय अस्पताल के मालिकों और प्रबंधन के खिलाफ मुकदमा दर्ज कराया गया है. वहीं सीएमओ डॉक्टर राजकुमार ने कुर्मी जैसा मामलों में लापरवाही बरतने के इस मामले को अपराधिक बताया है. उनकी मानें तो ऐसे अस्पतालों को किसी भी कीमत पर बख्शा नहीं जाना चाहिए.



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here