लखनऊ में लगी सीएम योगी और अखिलेश यादव की एक साथ वाली होर्डिंग, FIR का जिक्र

39

राजधानी लखनऊ में लगे अखिलेश यादव के संग मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की होर्डिंग

Lucknow News: ये होर्डिंग राजधानी लखनऊ के सबसे व्यस्त चौराहे “1090 चौराहे” पर किसने लगवाई है यह बात साफ नहीं हो पाई है. पुलिस भी पूरे मामले में कुछ भी कह पाने की स्थिति में नहीं दिखाई दे रही है.

लखनऊ. राजधानी लखनऊ (Lucknow) के सबसे व्यस्त चौराहों में से 1090 चौराहे पर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ (CM Yogi Adityanath) और उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव (Akhilesh Yadav) की एक साथ वाली हार्डिंग देखने को मिली. हालांकि बाद में प्रशासन ने इस होर्डिंग को 1090 चौराहा से हटवा दिया. होर्डिंग की विषय वस्तु और फोटो को लेकर चर्चाओं का बाजार भी तेजी से गरम है.

इस होर्डिंग में एक तरफ उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव की फोटो लगी थी, जिसमें लिखा गया था “मुकदमें लगाए”, ठीक इसके नीचे  पिछले दिनों  मुरादाबाद में पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के ऊपर लगाए गए मुकदमों का वर्णन था. नीचे लिखा था “मुकदमे में वर्णित भारतीय दंड संहिता की धाराएं 147, 323 व 342. जबकि उसके ठीक बगल में  उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की फोटो लगी थी और उसके ऊपर लिखा गया था “मुक़दमे हटाए”, उसके नीचे मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के ऊपर से हटाए गए मुकदमों का विवरण लिखा गया है.

होर्डिंग लगवाने वाले ने लिखा है कि “मुकदमों में वर्णित भारतीय दंड संहिता की धाराएं 147, 148,149, 153 ए, 295,297,307,336,435, 504, 506, व 527” लिखा है. ये होर्डिंग राजधानी लखनऊ के सबसे व्यस्त चौराहे “1090 चौराहे” पर किसने लगवाई है यह बात साफ नहीं हो पाई है. पुलिस भी पूरे मामले में कुछ भी कह पाने की स्थिति में नहीं दिखाई दे रही है. सूत्रों के अनुसार पुलिस को इस बात का इंतजार है कि किसी तरह की शिकायत होने या फिर उच्च अधिकारियों का आदेश मिलने के बाद ही मामले की छानबीन की जाएगी,

ये है मामलाबता दें कि 11 मार्च को मुरादाबाद में हुई घटना के बाद उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव के ऊपर एफआईआर दर्ज हो गई थी. जिसके कारण सपा कार्यकर्ताओं में रोष भी देखा गया था. 14 मार्च को राजधानी लखनऊ के हजरतगंज चौराहे के पास स्थित जीपीओ पार्क पर सपा के कार्यकर्ताओं ने प्रदर्शन भी किया था. पुलिस ने हल्का बल प्रयोग करते हुए बाद में सभी सपा कार्यकर्ताओं को इको गार्डन भेज दिया था. इस दौरान पुलिस की समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं से तीखी नोकझोंक भी हुई थी.






Source link