राज ठाकरे ने कहा उद्धव सरकार असंवेदनशील है

60

हाइलाइट्स:

  • निजी डॉक्टरों को 50 लाख का बीमा कवर न दिए जाने पर राज ठाकरे ने उद्धव सरकार को बताया असंवेदनशील सरकार,
  • सरकार द्वारा उन्हें बीमा कवर न दिए जाने के बाद डॉक्टरों ने राज ठाकरे के घर जाकर मुलाकृत की थी
  • राज ठाकरे ने पूछा सवाल कि जब यह सुविधा केंद्र दे रहा है तो राज्य सरकार क्यों इंकार कर रही है
  • राज ठाकरे ने उद्धव ठाकरे को पत्र लिखकर प्राइवेट डॉक्टरों को भी न्याय देने की बात कही है

मनसे अध्यक्ष राज ठाकरे ने मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे को एक नया पत्र लिखा है। इस पत्र में, राज ठाकरे ने मुख्यमंत्री के साथ निजी डॉक्टरों का मुद्दा उठाया हैं उन्होंने कहा है कि “निजी क्षेत्र में डॉक्टरों को बीमा से वंचित करना असंवेदनशील है’। राज ठाकरे ने कहा कि प्राइवेट डॉक्टरों की मृत्यु के बाद उनके परिवार के लिए 50 लाख रुपये का बीमा मिलना चाहिए।

असंवेदनशील है उद्धव सरकार
राज ठाकरे ने पत्र में कहा है, ‘निजी डॉक्टरों का एक प्रतिनिधिमंडल मुझसे मिला और उनका काम सराहनीय है। लेकिन उन्होंने बताया कि सरकारी उदासीनता से वे सभी परेशान हैं इस बात से मुझे काफी दुःख हुआ। कोरोना के प्रकोप के दौरान, सरकार ने निजी डॉक्टरों को क्लीनिक बंद नहीं करने का आदेश दिया था । जिसके बाद डॉक्टरों ने पेशे के प्रति प्रतिबद्धता के साथ अपनी रोगी देखभाल जारी रखी।

सरकार ने कहा था डॉक्टरों को मिलेगा 50 लाख का बीमा कवर
कोरोना संकट के दौरान महराष्ट्र सरकार ने कोविड योद्धा डॉक्टरों, चिकित्सा कर्मियों को 50 लाख रुपये का बीमा कवर प्रदान करने के लिए एक परिपत्र जारी किया था फिर। चाहे वे सरकारी हों या निजी लेकिन अगर कोरोना के कारण किसी निजी डॉक्टर की मृत्यु हो जाती है तो सरकार उनके परिवार को 50 लाख रुपये का बीमा लाभ देने से इनकार कर रही है। हालांकि जब यह बीमा कवर मूल रूप से केंद्र सरकार की योजना के अनुसार प्रदान किया जा रहा है, तो इसे निजी डॉक्टरों को देने से राज्य सरकार क्यों इनकार कर रही है? यह असंवेदनशीलता नहीं तो और क्या है?

पढ़ें: मुंबई में शुरू है कब्रों का कारोबार
डॉक्टरों को उनका हक़ मिले
राज ठाकरे ने पत्र में लिखा है कि अगर सरकार डॉक्टरों को उनकी जिम्मेदारियों का तो एहसास करवा रही है लेकिन साथ ही अपनी जिम्मेदारियों को भूल रही है, तो यह गलत है। राज ठाकरे ने कहा कि मुख्यमंत्री को तुरंत इस मामले पर ध्यान देना चाहिए और प्राइवेट डॉक्टरों को भी उनका हक़ दिया जाए।

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here