मुंह और दांतों की सफाई का प्रेग्नेंसी पर पड़ता है असर, ऐसे रखें ध्यान | health – News in Hindi

31

प्रेग्नेंसी के दौरान मसूड़ों की बीमारियों के कारण बच्चे के जल्दी जन्म की आशंका बढ़ जाती है.

प्रेग्नेंसी (Pregnancy) के दौरान स्वस्थ रहने और आरामदायक डिलीवरी में ओरल हेल्थ (Oral Health) यानी मौखिक स्वच्छता महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है. मुंह की स्वच्छता यह न केवल मां को स्वस्थ रखती है बल्कि बच्चे को बीमारियों से बचाने में भी मदद करती है.




  • Last Updated:
    August 27, 2020, 6:41 AM IST

मां बनना दुनिया के सबसे सुखद एहसास है. प्रेग्नेंसी (Pregnancy) के समय महिलाओं को अपने स्वास्थ्य के प्रति बहुत सजग और जागरुक होना जरूरी है. इस दौरान महिलाओं को डॉक्टर से परामर्श लेने की जरूरत होती है कि उन्हें क्या करना चाहिए और क्या नहीं. इन सबके बीच महिलाएं अक्सर मुंह (Mouth) और दांतों (Teeth) की सफाई को नजरअंदाज कर देती हैं. यह जानना जरूरी है कि प्रेग्नेंसी के दौरान स्वस्थ रहने और आरामदायक डिलीवरी में ओरल हेल्थ (Oral Health) यानी मौखिक स्वच्छता महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है. मुंह की स्वच्छता यह न केवल मां को स्वस्थ रखती है बल्कि बच्चे को बीमारियों से बचाने में भी मदद करती है. हालांकि, प्रेग्नेंसी के इस नाजुक समय के दौरान, वे अक्सर यह भूल जाती हैं कि स्वास्थ्य समस्याएं मुंह और दांतों से शुरू होती हैं, जिसका मतलब है कि प्रेग्नेंसी के दौरान यह महत्वपूर्ण है. इसके साथ कई बीमारियों को रोक सकते हैं.

दिन में दो बार ब्रश करें

कई शोध से यह भी साबित हुआ है कि प्रेग्नेंसी के दौरान मसूड़ों की बीमारियों के कारण बच्चे के जल्दी जन्म की आशंका बढ़ जाती है. इससे बच्चे का वजन कम होने की आशंका सात गुना बढ़ जाती है. इसलिए दिन में दो बार ब्रश करना और रोगाणुरोधी माउथवॉश का इस्तेमाल करना बहुत महत्वपूर्ण है. हालांकि, अभी तक इस बात पर शोध किया जाना बाकी है कि मसूड़े के रोग किस हद तक डिलीवरी को प्रभावित करते हैं. लेकिन कुछ आंकड़े साबित करते हैं कि गर्भावस्था के दौरान मसूड़ों की बीमारियों वाली महिलाओं में समय से पहले जन्म का खतरा बढ़ जाता है. दिन में दो बार ब्रश करें तो नाजुक हाथों से करें, ताकि कोई चोट न लगे. myUpchar से जुड़ी डॉ. मेधावी अग्रवाल का कहा है कि एक नर्म टूथब्रथ बैक्टीरिया पैदा करता है और जब इसे इस्तेमाल करते हैं तो और अधिक बैक्टीरिया मुंह में प्रवेश कर जाते हैं. इससे मुंह में बदबू और मसूड़ों की बीमारी हो सकती है. टूथ ब्रश धोने के बाद अतिरिक्त पानी को सूखाकर ब्रश को एक ब्रश होल्डर में रखें जिससे हवा क्रॉस हो. समय समय पर कुछ मिनट के लिए अपने टूथब्रश को घूप में सुखाएं.आरामदायक डिलीवरी के लिए मुंह की सफाई

यदि आरामदायक डिलीवरी चाहती हैं, तो मुंह की सफाई बहुत आवश्यक है. इससे डिलीवरी में समस्या आ सकती है. प्रेग्नेंसी में दांत की समस्या सामान्य है, जिसे प्रेग्नेंसी जिंजीवाइटिस (गर्भावस्था के मसूड़े की सूजन) के रूप में भी जाना जाता है. myUpchar के डॉ. राजी एहसान का कहना है कि यह मसूड़ों में होने वाली सूजन है जो आमतौर पर बैक्टीरिया संक्रमण के कारण होती है. यदि इसका इलाज नहीं किया जाए तो इसका संक्रमण और भी गंभीर हो सकता है जिसे पेरिओडोन्टाइटिस कहा जाता है. गर्भवती और सामान्य महिलाओं पर किए गए अध्ययनों से पता चला है कि प्रेग्नेंसी के दौरान महिलाओं में मसूड़े सूज जाते हैं और उनमें से खून निकलने लगता है. 10 में से 8 महिलाएं मसूड़े की कमजोरी और अन्य मौखिक रोगों की शिकायत करती हैं लेकिन अगर प्रेग्नेंसी के दौरान मसूड़ों की बीमारियों का जल्द पता चल जाए, तो इसका आसानी से इलाज किया जा सकता है.

बच्चे की प्लानिंग से पहले डेंटल हाइजीन

बच्चे की प्लानिंग करने से पहले अपने दांतों की जांच करवानी चाहिए. बच्चे के जन्म से पहले मुंह से संबंधित किसी भी बीमारी का समय पर इलाज कराने पर ध्यान दें. नियमित रूप से किसी अच्छे डेंटिस्ट से दांतों की जांच करवाएं ताकि मसूड़ों की बीमारियों का पता चल सके. इसके अलावा, प्रेग्नेंसी के दौरान दांतों की अतिरिक्त देखभाल करें वरना मुंह का कोई भी संक्रमण मां और बच्चे दोनों के स्वास्थ्य को नुकसान पहुंचाता है.अधिक जानकारी के लिए हमारा आर्टिकल, गर्भवास्था के दौरान अलग-अलग तिमाही में कैसे करें देखभाल, वैक्सीनेशन और डाइट पढ़ें. न्यूज18 पर स्वास्थ्य संबंधी लेख myUpchar.com द्वारा लिखे जाते हैं। सत्यापित स्वास्थ्य संबंधी खबरों के लिए myUpchar देश का सबसे पहला और बड़ा स्त्रोत है. myUpchar में शोधकर्ता और पत्रकार, डॉक्टरों के साथ मिलकर आपके लिए स्वास्थ्य से जुड़ी सभी जानकारियां लेकर आते हैं.

अस्वीकरण : इस लेख में दी गयी जानकारी कुछ खास स्वास्थ्य स्थितियों और उनके संभावित उपचार के संबंध में शैक्षणिक उद्देश्यों के लिए है। यह किसी योग्य और लाइसेंस प्राप्त चिकित्सक द्वारा दी जाने वाली स्वास्थ्य सेवा, जांच, निदान और इलाज का विकल्प नहीं है। यदि आप, आपका बच्चा या कोई करीबी ऐसी किसी स्वास्थ्य समस्या का सामना कर रहा है, जिसके बारे में यहां बताया गया है तो जल्द से जल्द डॉक्टर से संपर्क करें। यहां पर दी गयी जानकारी का उपयोग किसी भी स्वास्थ्य संबंधी समस्या या बीमारी के निदान या उपचार के लिए बिना विशेषज्ञ की सलाह के ना करें। यदि आप ऐसा करते हैं तो ऐसी स्थिति में आपको होने वाले किसी भी तरह से संभावित नुकसान के लिए ना तो myUpchar और ना ही News18 जिम्मेदार होगा।



Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here