मनसुख हिरेन की हत्या: sachin Waze was posted in crime intelligence unit of mumbai:फिलहाल सचिन वझे क्राइम इंटेलिजेंस यूनिट में तैनात थे

77

हाइलाइट्स:

  • महाराष्ट्र सरकार ने एपीआई सचिन वझे का क्राइम ब्रांच से किया ट्रांसफर
  • सचिन वझे को अब दूसरी जगह पर दी जाएगी पोस्टिंग
  • फिलहाल सचिन वझे क्राइम इंटेलिजेंस यूनिट में तैनात थे
  • बीजेपी ने सचिन वझे की गिरफ्तारी की मांग की है

मुंबई
बीजेपी (BJP) के बढ़ते दबाव के चलते गृह मंत्री अनिल देशमुख (Home Minister Anil Deshmukh) ने बुधवार को मनसुख हिरेन हत्या मामले में एपीआई सचिन वझे को क्राइम ब्रांच (Mumbai Crime Branch) से हटाने का आदेश दिया है। अब सचिन वझे को पुलिस महकमे में किसी दूसरे विभाग में ट्रांसफर किया जाएगा। अनिल देशमुख ने इस बात की जानकारी महाराष्ट्र विधानसभा में दी।

आपको बता दें कि मनसुख हिरेन की पत्नी विमला हिरेन ने सचिन वझे पर उनके पति की हत्या का आरोप लगाया है। उन्होंने कहा है कि वझे ने उनके पति से कहा था कि वह एंटीलिया मामले में गिरफ्तार हो जाएं उसके बाद वह उनकी बेल करवा देंगे।

फडणवीस ने विधानसभा में लगाया आरोप
मनसुख हिरेन (Mansukh Hiren) की हत्या मामले में महाराष्ट्र के नेता विपक्ष देवेंद्र फडणवीस ने विधानसभा में बड़ा आरोप लगाते हुए कहा था कि सचिन वझे ने मनसुख का कत्ल किया है। उन्होंने कहा कि यह आरोप एक मनसुख की पत्नी ने लगाया है। मनसुख की पत्नी ने यह भी सवाल उठाए हैं कि उस रात को आखिर वो घर 40 किलोमीटर दूर क्यों गए?

फडणवीस (Devendra fadnavis) ने सदन में यह भी कहा कि साल 2017 में एक एक्सटॉर्शन की एफआईआर दर्ज की गई थी। जिसमें से एक आरोपी खुद सचिन वझे भी थे। उन्होंने यह भी सवाल उठाए कि सचिन वझे को गिरफ्तार क्यों नहीं किया गया। उनके खिलाफ कई सबूत थे। धारा 201 के तहत उनकी गिरफ्तारी क्यों नहीं की गई। फडणवीस ने मांग की है कि सचिन वझे की गिरफ्तारी होनी चाहिए।

ठाणे के मुंब्रा की खाड़ी से मिली लाश
उद्योगपति मुकेश अंबानी (Mukesh Ambani) धमकी मामले में स्कार्पियो मालिक मनसुख हिरेन की लाश ठाणे के मुंब्रा इलाके की खाड़ी से मिली थी। परिवार और पड़ोसियों का कहना है की हिरेन जिंदादिल इंसान थे। वे कभी आत्महत्या नहीं कर सकते हिरेन सोसाइटी में बच्चों को स्विमिंग भी सिखाते थे। इसलिए डूबने से भी मौत का सवाल पैदा नहीं होता है।

मनसुख के पड़ोसी बताते हैं, ‘वे एक अच्छे और मिलनसार इंसान थे। हम दस पंद्रह साल से एक दूसरे को जानते थे। ये सब कैसे हो गया समझ मे नहीं आ रहा है’। मनसुख ने इस मामले की जानकारी सभी को दी थी। उनका पूरा परिवार तबाह हो गया है। उनके तीन बेटे हैं।

स्विमिंग सिखाते थे मनसुख
यदि मनसुख हिरेन के परिजनों और पड़ोसियों की बात पर यकीन करें तो मनसुख इमारत के बच्चों को तैरना सिखाते थे। उनकी आखरी लोकेशन बीती रात विरार इलाके की थी। जो ठाणे से काफी दूर है। परिवार ने कहा यह सुसाइड नहीं है।

गवाह की सुरक्षा नहीं कर सकी मुंबई पुलिस
महाराष्ट्र में नेता प्रतिपक्ष देवेंद्र फडणवीस ने मनसुख हिरेन मामले के जरिए मुंबई पुलिस पर निशाना साधा है। फडणवीस ने कहा कि मुंबई पुलिस एक गवाह की सुरक्षा नहीं कर सकी। फडणवीस ने कहा, ‘ इस बात की भी जांच होनी चाहिए कि जब मनसुख क्रॉफर्ड मार्केट में आए तो उनसे सबसे पहले मिलने वाला शख्स कौन था? इसके अलावा सचिन वझे के ऊपर भी उन्होंने सवाल उठाते हुए कहा कि सचिन वझे की मनसुख के साथ पहले भी टेलीफोन पर कई बार बात हुई थी।

Source link