भारती एयरटेल ने मई 2021 के लिए ग्राहकों के संशोधित आंकड़े किए जारी:आईएएनएस की खबर का असर

13

नई दिल्ली:
भारतीय एयरटेल के सभी 26 स*++++++++++++++++++++++++++++र्*लों के ग्राहकों में समान गिरावट की ओर इशारा किया है। कंपनी ने पहले के नंबरों के स्थान पर संशोधित डेटा भेजा है।

आईएएनएस के रिपोर्ट के मुताबिक, भारती एयरटेल के सभी 26 टेलीकॉम स*++++++++++++++++++++++++++++र्*लों में अप्रैल की तुलना में मई 2021 में ग्राहकों की संख्या में 1.3 प्रतिशत की गिरावट दर्ज की गई है।

उसके बाद भारती एयरटेल ने स*++++++++++++++++++++++++++++र्*लों के लिए संशोधित डेटा दिया है, जो दर्शाता है कि प्रत्येक सर्कल के लिए ग्राहकों की संख्या में परिवर्तन समान नहीं है।

संशोधित आंकड़ों के अनुसार, एयरटेल के लिए राष्ट्रीय स्तर पर समग्र गिरावट 1.3 प्रतिशत है, जो पिछले आंकड़ों की तरह ही है

इसलिए, पिछले आंकड़ों की तुलना में आंध्र प्रदेश, दिल्ली, गुजरात, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश, जम्मू-कश्मीर, कर्नाटक, केरल, कोलकाता, महाराष्ट्र, मुंबई, पंजाब, राजस्थान, तमिलनाडु में ग्राहकों में गिरावट अधिक है।

पिछले आंकड़ों की तुलना में असम, बिहार, मध्य प्रदेश, उत्तर पूर्व, ओडिशा यूपी पूर्व, यूपी पश्चिम और पश्चिम बंगाल में तुलनात्मक रूप से गिरावट कम है।

सब्सक्राइबर निर्धारित करने की पद्धति पर ट्राई के अनुसार, होम लोकेशन रजिस्टर (एचएलआर) एक केंद्रीय डेटाबेस है जिसमें प्रत्येक मोबाइल फोन ग्राहक का विवरण होता है जो जीएसएम कोर नेटवर्क का उपयोग करने के लिए अधिकृत है। एचएलआर सेवा प्रदाता द्वारा जारी किए गए प्रत्येक सिम कार्ड का विवरण संग्रहित करता है।

प्रत्येक सिम का एक विशिष्ट पहचानकर्ता होता है जिसे इंटरनेशनल मोबाइल सब्सक्राइबर आइडेंटिटी (आईएमएसआई) कहा जाता है, जो प्रत्येक एचएलआर रिकॉर्ड की प्राथमिक कुंजी है। एचएलआर डेटा तब तक संग्रहित किया जाता है जब तक ग्राहक सेवा प्रदाता के पास रहता है। एचएलआर प्रशासनिक क्षेत्रों में अपनी स्थिति को अद्यतन करने के माध्यम से ग्राहकों की गतिशीलता का प्रबंधन भी करता है। यह सब्सक्राइबर डेटा को विजि़टर लोकेशन रजिस्टर (वीएलआर) को भेजता है।

सेवा प्रदाताओं द्वारा रिपोर्ट की गई सब्सक्राइबर संख्या सेवा प्रदाता के एचएलआर में पंजीकृत आईएमएसआई की संख्या और अन्य आंकड़ों के योग के बीच का अंतर है।

हालांकि, यह संभव हो सकता है कि ग्राहक एचएलआर में पंजीकृत है लेकिन वीएलआर में नहीं है क्योंकि वह या तो स्विच-ऑफ है या कवरेज क्षेत्र से बाहर चला गया है, आदि, ऐसी परिस्थितियों में वह एचएलआर में उपलब्ध होगा।

लेकिन यह एचएलआर के आधार पर सेवा प्रदाताओं द्वारा रिपोर्ट की गई ग्राहक संख्या और वीएलआर में उपलब्ध संख्या के बीच अंतर का कारण बनता है। वीएलआर सब्सक्राइबर डेटा की गणना उस विशेष महीने के वीएलआर में पीक सब्सक्राइबर नंबर की तारीख पर वीएलआर में सक्रिय ग्राहकों पर आधारित होती है, जिसके लिए डेटा एकत्र किया जा रहा है। यह डेटा उन स्विचों से लिया जाना है, जिनका शुद्धिकरण समय 72 घंटे से अधिक नहीं है।

डिस्क्लेमरः यह आईएएनएस न्यूज फीड से सीधे पब्लिश हुई खबर है. इसके साथ न्यूज नेशन टीम ने किसी तरह की कोई एडिटिंग नहीं की है. ऐसे में संबंधित खबर को लेकर कोई भी जिम्मेदारी न्यूज एजेंसी की ही होगी.



Source link