बिहार चुनाव में सुशांत केस को मुद्दा बनाने पर संजय राउत का तंज

72

हाइलाइट्स:

  • जब से बिहार विधानसभा चुनाव का ऐलान हुआ है, शिवसेना सांसद एक बार फिर बयानबाजी कर रहे हैं
  • बिहार चुनाव में सुशांत सिंह राजपूत और ड्रग्स केस की जांच को मुद्दा बनाने पर संजय राउत ने कसा तंज
  • संजय राउत ने कहा- बिहार अगर चुनावी मुद्दे कम पड़ गए हों तो मुंबई से कुछ पार्सल किए जा सकते हैं

मुंबई
जब से बिहार विधानसभा चुनाव का ऐलान हुआ है, शिवसेना सांसद एक बार फिर बयानबाजी कर रहे हैं। बिहार चुनाव में सुशांत सिंह राजपूत और ड्रग्स केस की जांच को मुद्दा बनाने की कोशिश पर शिवसेना सांसद संजय राउत ने तंज कसते हुए कहा है कि अगर बिहार में मुद्दे कम पड़ गए हों तो मुंबई से कुछ पार्सल किए जा सकते हैं। संजय राउत ने कहा है कि बिहार के पास मुद्दे नहीं रह गए हैं।

शिवसेना सांसद संजय राउत ने तंज कसते हुए कहा, ‘बिहार में चुनाव विकास, लॉ ऐंड ऑर्डर और सुशासन के मुद्दे पर लड़ा जाना चाहिए। लेकिन अगर ये सारे मुद्दे कमजोर पड़ गए हैं तो मुंबई से मुद्दों से पार्सल के रूप में भेजा जा सकता है।’ चुनाव आयोग ने तीन चरणों में बिहार विधानसभा चुनाव कराने का ऐलान किया है। ये 28 अक्‍टूबर, 3 नवंबर और 7 नवंबर को होने हैं। मतगणना 10 नवंबर को होनी है।

पढ़ें: बिहार में चुनावों के ऐलान पर संजय राउत का तंज- कोरोना खत्‍म हो गया क्‍या?

बिहार चुनाव तारीखों पर यह बोले थे राउत
इससे पहले संजय राउत ने कहा था कि कोरोना महामारी के चलते देश भर में अभूतपूर्व स्थिति है। क्‍या अब कोरोना महामारी खत्‍म हो गई है? क्‍या यह चुनाव कराने का सही समय है?’ जब संजय राउत से पूछा गया कि संसद में कृषि से जुड़े तीन ब‍िल पास होने का बिहार चुनावों पर कोई असर पड़ेगा तो उन्‍होंने तंज कसते हुए कहा था, ‘इसका कोई असर बिहार चुनावों पर नहीं होगा क्‍योंकि बिहार में केवल जाति और धर्म के मुद्दे पर वोट दिए जाते हैं।’

‘बिहार सरकार के पास मुद्दा नहीं’
सुशांत सिंह राजपूत की मौत क्‍या बिहार चुनावों में कोई मुद्दा बनेगी, इसके जवाब में फिर राउत ने बिहार सरकार पर हमला बोलते हुए कहा था, ‘वहां की सरकार के पास विकास या शासन से जुड़ा कोई मुद्दा नहीं है जिस पर वह बोल सके। सुशांत मसले पर सीबीआई जांच का क्‍या हुआ? बिहार के डीजीपी ने इस्‍तीफा दे दिया है और वह विधानसभा चुनाव लड़ेंगे।’

बिहार के डीजीपी पर गैर बीजेपी दलों का हमला
बिहार के पूर्व डीजीपी गुप्‍तेश्‍वर पांडे इस समय गैर बीजेपी दलों के निशाने पर हैं। उन्‍होंने सुशांत सिंह राजपूत मामले में सीबीआई जांच की मांग की थी। अभी पिछले मंगलवार को उन्‍होंने स्‍वैच्छिक रिटायरमेंट (वीआरएस) ले लिया। उनके बारे में अटकले हैं कि वे चुनावी मैदान में कूद सकते हैं।

EXCLUSIVE: बिहार विधानसभा चुनाव 2020 में फायरब्रांड गिरिराज सिंह का पहला इंटरव्यू

Source link

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here