फिरोजाबाद: स्वास्थ्य विभाग की सर्वलांस टीम ने लिए सैंपल, सामने आएगा मौतों का सही कारण

22

देवेंद्र सिंह चौहान

फिरोजाबाद. उत्तर प्रदेश के फिरोजाबाद (Ferozabad) में कोरोना (COVID-19) की तीसरी लहर (Third Wave) की आशंका से हड़कंप मचा हुआ है. यहां बुखार से अब तक 5 बच्चों की मौत (5 Children died) हो चुकी है, वहीं दर्जनों लोगों के साथ कई बच्चे अभी भी बीमार हैं. देहाती क्षेत्र में भी बच्चों के मरने का सिलसिला जारी है. आरोप है कि नगर निगम प्रशासन की लापरवाही से गलियों में गंदगी भरी पड़ी है. सीएमओ डॉ. नीता कुलश्रेष्ठ ने फिरोजाबाद में कोरोना की तीसरी लहर की आशंका जताई है.

फ़िरोज़ाबाद में बच्चों की हो रही मौत और बुखार से लोग परेशान हैं. न्यूज़ 18 पर खबर दिखाए जाने के बाद आज खुद सीएमओ ने इन इलाकों का दौरा किया और सीएमओ ने बताया कि हो सकता है ये कोरोना का थर्ड वेव भी हो. इसकी जांच करवाई जा रही है. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने 2 दिन पहले आदेश दिया था कि कैंप लगाए जाएं, जिस पर आज तक कोई कार्यवाही होती दिखाई नहीं दे रही है

दरअसल फिरोजाबाद के नगर निगम के वार्ड नम्बर 12 में ऐलान नगर में बच्चो के पेट में दर्द, बुखार की शिकायत देखने को मिली है. इसी वार्ड में 5 बच्चो की मौत भी इसी बीमारी के चलते हुई है, जिससे लोग दहशत में हैं. ज्यादतर बच्चों को बुखार और पेट दर्द की शिकायत देखने को मिल रही है. हालांकि स्थानीय लोगों का आरोप है कि नगर निगम द्वारा सफाई नहीं की जा रही है. नालियां गलियां गंदगी से भरी पड़ी हैं. ऐसे में बुखार और डेंगू का सिलसिला बढ़ता ही जा रहा है.

आज खुद सीएमओ मौके पर पहुंची और इलाके का दौरा किया उसके बाद उन्होंने बच्चो की जांच भी करवाई है और बच्चों के माता-पिता से आग्रह किया कि वो साफ-सफाई का ख्याल रखें. कोई भी दिक्कत हो तो तुरंत मेडिकल कॉलेज जाएं. वहां पूरी व्यस्था की गई है.

सीएमओ ने कहा कि पूरे शहर में वायरल और डेंगू का प्रकोप हो रहा है. छोटे बच्चों पर ज्यादा असर कर रहा है. हम सभी को सूचना दे रहे हैं. अगर किसी बच्चे को कोई परेशानी है तो हम तुरंत दवाई दे रहे हैं. कैंप लगा रहे हैं. साफ-सफाई की व्यवस्था की जा रही है. अभी तक फिरोजाबाद में 6 मौतें हो चुकी है.

कोरोना तीसरी लहर के संबंध में सीएमओ मानती हैं कि तीसरी लहर की आशंका है. साथ ही कह रही है कि हम जांच करा रहे हैं. कोविड-19 की भी जांच करा रहे हैं.

उधर जानकारी के अनुसार बच्चों की मौत की सूचना मुख्यमंत्री तक पहुंच चुकी है, जिस पर मुख्यमंत्री ने कैंप लगाने की बात 2 दिन पहले कही थी लेकिन आज भी बीमार इलाकों में स्थानीय लोग कैंप न लगने की बात कह रहे हैं. इस मामले में सीएमएस डॉ आलोक शर्मा ने भी आशंका जताई है. डॉ  आलोक शर्मा कोविड-19 जिला अस्पताल के दोनों कोविड-19 महामारी के प्रभारी रह चुके हैं.

यूपी के 18 जिलों में कोई कोविड केस नहीं

पूरे उत्तर प्रदेश की बता करें तो कोविड की ताजा स्थिति के मुताबिक प्रदेश के 18 जनपदों में एक्टिव केस शून्य हैं. अलीगढ़, बागपत, बांदा, बिजनौर, एटा, फर्रुखाबाद, फतेहपुर, गोंडा, हमीरपुर, हरदोई, कानपुर देहात, महोबा, मऊ, मुजफ्फनगर, रामपुर, संतकबीरनगर, शाहजहांपुर और उन्नाव में कोविड का एक भी मरीज नहीं है.

विगत 24 घंटे में हुई टेस्टिंग में 61 जिलों में संक्रमण का एक भी नया केस नहीं पाया गया, जबकि मात्र 14 जनपदों में इकाई अंक में नए मरीज मिले हैं. वर्तमान में प्रदेश में कुल एक्टिव कोविड केस की संख्या 329 हैं. अब तक 7 करोड़ 15 लाख 21 हजार 631 कोविड सैम्पल की जांच की जा चुकी है.

विगत 24 घंटे में 2 लाख 32 हजार 28 कोविड सैम्पल की जांच की गई और 21 नए मरीजों की पुष्टि हुई. इसी अवधि में 27 मरीज स्वस्थ होकर डिस्चार्ज हुए. अब तक 16 लाख 86 हजार 83 प्रदेशवासी कोरोना संक्रमण से मुक्त होकर स्वस्थ हो चुके हैं. प्रदेश में कोरोना की रिकवरी दर 98.6% है. विगत दिवस दैनिक पॉजिटिविटी दर 0.01% रही.

साढ़े 6 करोड़ पार हुआ कोविड वैक्सीनेशन

प्रदेश में कोविड वैक्सीनेशन का आंकड़ा 6 करोड़ 68 लाख 47 हजार के पार हो चुका है. विगत दिवस 7 लाख 41 हजार 523 लोगों ने टीका-कवर प्राप्त किया. अब तक 5 करोड़ 62 लाख से अधिक नागरिकों ने कोविड से बचाव के लिए टीके की कम से कम एक खुराक प्राप्त कर ली है.

Source link