प्रयागराज: जहरीली शराब पीने से मरने वालों की संख्या हुई 9, मुख्य आरोपी सहित 4 गिरफ्तार

39
प्रयागराज. यूपी में ज़हरीली शराब (Illicit Liquor) पीने से मौतों का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है. प्रतापगढ़ (Pratapgarh) जिले में जहरीली शराब पीने से मौतों का मामला अभी ठंडा भी नहीं पड़ा था कि संगम नगरी प्रयागराज (Prayagraj) में अवैध रूप से बेची गई शराब पीने के बाद 9 लोगों की मौत हो गई. जहरीली शराब पीने वाले कई लोगों की तबियत तबियत बिगड़ी हुई है और इलाज के लिए उन्हें अलग-अलग अस्पतालों में भर्ती कराया गया है. बता दें सोमवार रात तक पांच लोगों की मौत हुई थी. मंगलवार को चार और की मौत हो गई.

उधर जिलाधिकारी द्वारा टीम गठित करने के बाद एक्शन में आई पुलिस ने शराब तस्कर सहित चार लोगों को गिरफ्तार किया है. मुख्य आरोपी विनोद को उसके तीन साथियों के साथ पुलिस ने छापेमारी कर गिरफ्तार किया है. हंडिया थाने में विमलेश, विनोद भारतीय, संजय और दिलीप पटेल के खिलाफ मामला दर्ज हुआ है. मामले से जुड़े कई आरोपी अभी भी फरार चल रहे हैं, जिनकी गिरफ़्तारी के लिए पुलिस छापेमारी कर रही है. नामजद अभियुक्तों के खिलाफ मिलावटी शराब बेचने का आरोप है. गिरफ्तार किए गए अभियुक्तों के कब्जे से शराब भी बरामद हुई है.

डीएम ने गठित की जांच कमेटी
शरुआत में ज़हरीली शराब से मौतों को खारिज करने वाला प्रशासनिक अमला बैकफुट पर आ गया. डीएम भानुचंद्र गोस्वामी ने मामले की जांच के लिए कमेटी गठित कर दी है. एडीएम प्रशासन और एसपी गंगापार की दो सदस्यीय कमेटी मामले की जांच करेगी। मंगलवार रात तक बींदा ग्राम के छोटेलाल कनौजिया, संग्राम पट्टी के रामजी, पर्वतपट्टी के सूबेदार यादव और मंडुआडीह के कल्लू कनौजिया की मौत हुई. सोमवार रात तक बींदा गांव के अजय कुमार गुप्ता, खदेरू कनौजिया, सराय मंसूर के विमल कुमार, संग्राम पट्टी के शोभनाथ, दुसौती की सुशीला की मौत हुई थी।शुरुआत में पुलिस ने जहरीली शराब से मौतों को किया था इनकार

बता दें एसपी गंगापार धवल जायसवाल ने ज़हरीली शराब से मौत की घटना से इनकार किया था और सभी मौतों की बीमारी और अलग-अलग वजह बताई थी. जबकि परिजन चीख-चीख कर ज़हरीली शराब को मौत की वजह बता रहे थे. डॉक्टर भी ज़हरीली मिथाइल अल्कोहल को मौतों की वजह बता रहे थे. हंडिया तहसील के बहादुरपुर ब्लॉक में आसपास के कई गांवों में जहरीली शराब से सभी मौतें हुई.

परिजनों ने कही जहरीली शराब से मौत की बात
हालांकि सरकारी अमला इस पूरे मामले में लीपापोती करने में जुटा हुआ है और यह दावा कर रहा है कि मौतें शराब पीने के बजाय बीमारी की वजह से हुई हैं। दूसरी तरफ पीड़ित परिवारों का साफ़ कहना है कि उन्होंने अपने परिवार के जिस सदस्य को खोया है, उनकी तबीयत कतई खराब नहीं थी। वह अच्छे भले थे और उनकी हालत शराब पीने के बाद ही बिगड़ी थी. सरकारी अमले के दबाव में इनमें से कई लोगों का अंतिम संस्कार बिना पोस्टमार्टम के ही कर दिया गया था, जबकि तीन लोगों का पोस्टमार्टम मंगलवार को कराया गया है, जिसकी रिपोर्ट अभी नहीं आई है.

ये है पूरा मामला

पूरा मामला प्रयागराज जिले के हंडिया थाना क्षेत्र के बींदा ग्राम सभा के तीन गांवों का है. यहां तीनों गांवों के तमाम लोगों ने चौदह मार्च की शाम को अवैध तरीके से बेची जा रही शराब खरीदकर पी थी. शराब पीने के बाद इनमे से कई की तबीयत बिगड़ने लगी थी. किसी का सिर चकराने लगा था तो किसी की आंख की रोशनी पर असर पड़ा और उन्हें चीजें धुंधली नज़र आ रही थीं. सोमवार को पूरे दिन में शराब पीने वाले पांच लोगों की मौत हो गई. इसके अलावा चार लोगों ने मंगलवार को इलाज के दौरान दम तोड़ दिया। अब तक 9 लोगों की मौत हुई है. कई मौतों के बाद इलाके में  हड़कंप मचा हुआ है. पुलिस और प्रशासन के तमाम अधिकारी मौके पर डटे हुए हैं.

पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट का इंतजार
हालांकि अफसरान लगातार लीपापोती करते हुए मामले को दबाने में लगे हुए हैं, लेकिन मृतकों के परिवार के सदस्य चीख चीखकर यह दावा कर रहे हैं कि यह सीधे तौर पर ज़हरीली शराब का ही मामला है. इस मामले में अभी तक न तो पुलिस महकमे ने कोई कार्रवाई की है और न ही आबकारी विभाग ने. न्यूज 18 की टीम मेडिकल कालेज के एसआरएन अस्पताल भी पहुंची जहां पर शराब पीने के बाद तबियत बिगड़ने पर चार लोगों को मेडिसिन वार्ड में भर्ती कर उनका उपचार चल रहा है. मृतकों के परिजनों के मुताबिक हंडिया थाना क्षेत्र के सैदाबाद विकास खंड के बींदा गांव के छोटे लाल कनौजिया, अजय कुमार गुप्ता और खदेरु कनौजिया की जहां मौत गई है और पोस्ट मार्टम कराया जा रहा है. वहीं सराय मंसूर और संग्राम पट्टी के भी चार लोगों की मौत की खबर है, जिसमें एक महिला भी शामिल है. लेकिन प्रशासन अभी भी मामले को दबाने में ही जुटा है. एसआरएन अस्पताल के मेडिसिन वार्ड में चार लोगों बुल्ले कनौजिया, महेन्द्र केसरवानी, विजय भुवाल कनौजिया और सुल्तान धरिकार का इलाज चल रहा है.



Source link