पूर्वाचल और तराई के जिलों में बदला मौसम, लखनऊ तक हल्की बारिश का दिखेगा असर- up weather alert met department predicts moderate rain in these districts of up upat

93

लखनऊ. बिहार की सीमा से सटे पूर्वांचल के जिलों से लेकर तराई के जिलों और लखनऊ (Lucknow) तक मौसम का मिजाज पौ फटने के साथ ही बदल गया है. कई जिलों में हल्की बारिश भी सुबह सुबह हुई है. इसका विस्तार पूर्वांचल, तराई और मध्य यूपी के कई जिलों में दोपहर तक देखने को मिलेगा. मौसम विभाग (Met Department) के ताजा अनुमान के मुताबिक लगभग 15 जिलों में अगले कुछ घंटों में बारिश की संभावना जताई गई है. इन जिलों में लगभग 40 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से हवा के तेज झोंके भी चलेंगे. कहीं-कहीं आकाशीय बिजली गिरने की भी आशंका जताई गई है, लेकिन मौसम विभाग ने इन जिलों के लिए फिलहाल कोई चेतावनी जारी नहीं की है.

जिन जिलों में दोपहर तक बारिश का अनुमान है वे जिले हैं – लखीमपुर खीरी, बहराइच, श्रावस्ती, बाराबंकी, गोंडा, सिद्धार्थ नगर, अयोध्या, बस्ती, अंबेडकर नगर, सुल्तानपुर, महाराजगंज, गोरखपुर, संत कबीर नगर, मऊ, बलिया, देवरिया, आजमगढ़, गाजीपुर, चंदौली, बनारस, मिर्जापुर, जौनपुर और सोनभद्.

मौसम में आए बदलाव से लोगों को मंगलवार के मुकाबले आज बुधवार को थोड़ी राहत मिलेगी. मंगलवार को प्रदेश के ज्यादातर शहरों में मौसम खुला था. तेज धूप की वजह से उमस भी भीषण थी. लखनऊ जैसे जिले में तो शाम ढलने के बाद भी गर्म हवाओं का ही सामना करना पड़ा था. हालांकि आज सुबह से धूप न निकलने से स्थितियां बदली हुई हैं.

झांसी रहा सबसे गर्म शहरहालात ये रहे कि इस पूरी गर्मी के सीजन में सबसे ज्यादा तापमान कल मंगलवार को दर्ज किया गया.  झांसी में दिन का अधिकतम तापमान 44.1 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया जबकि ताज नगरी आगरा में 44 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया. अलीगढ़, कानपुर, हरदोई, प्रयागराज और फतेहगढ़ में तापमान 40 डिग्री सेल्सियस के ऊपर दर्ज किया गया.

11 जून को पहुंचेगा मानसून

पूर्वांचल और तराई के इलाके में हल्की बारिश से और बादलों के छाए होने से बढ़ते तापमान से तो राहत मिलेगी लेकिन बुंदेलखंड और पश्चिमी यूपी के जिले को फिलहाल कोई राहत मिलती दिखाई नहीं दे रही है. अभी तक के अनुमान के मुताबिक 12 जून से पहले पश्चिमी यूपी और बुंदेलखंड के जिले में बारिश की कोई संभावना नहीं है. दक्षिण पश्चिम मानसून 11 जून को पूर्वांचल के रास्ते प्रदेश में दाखिल होगा. उसके पश्चिमी यूपी और बुंदेलखंड पहुंचने में 24 घंटे का समय लगेगा. इन जिलों को तभी राहत मिल पाएगी. भले ही लखनऊ और आसपास के जिलों में हल्के बादल छाए हो लेकिन यह राहत लंबी नहीं है. दिन चढ़ने के साथ तेज धूप का सामना करना पड़ सकता है.



Source link